प्रेमिका को पाने के लिए इस मंदिर में युवा करते हैं पूजा, बच्चों-बूढ़ों को अंदर घुसने की है मनाही

प्रेमिका को पाने के लिए इस मंदिर में युवा करते हैं पूजा, बच्चों-बूढ़ों को अंदर घुसने की है मनाही
mukdi mata mawli chattisgarh

Sunil Sharma | Publish: Feb, 15 2017 12:08:00 PM (IST) मंदिर

युवा अपनी प्रेयसियों को पाने के लिए गांव के ही एक उजाड़ से मंदिर माता मुकड़ी मावली (वन राक्षसी) का रुख करते हैं

वेलेंटाइन डे पर देश-दुनिया के युवा अपनी प्रेमिकाओं को रिझाने के लिए सिनेमा हॉल्स तथा मॉल्स ले जाते हैं। वहीं दूसरी देश के छत्तीसगढ़ में एक जगह मंदिर माता मुकड़ी मावली ऐसी भी है जहां कि युवा अपनी प्रेमिकाओं को पाने के लिए मंदिर में पूजा करते हैं। सबसे बड़ी बात तो यह है कि इस मंदिर में बच्चों तथा वृद्धों का प्रवेश पूरी तरह से बंद है, केवल युवा ही यहां पूजा कर सकते हैं।

यह भी पढें: जेब में रखें लाल रूमाल, इस टोटके से बन जाएंगे आपके सारे काम

यह भी पढें: एक कटोरी पानी से बदल जाएगी किस्मत, इस बात का ध्यान रखें

यह भी पढें: अपने घर में लगाएं इन पौधों को, रूठी किस्मत खुल जाएगी

मां को दिखानी होती है प्रेमिका की तस्वीर

छत्तीसगढ के आदिवासी बहुल दंतेवाड़ा जिले के एक गांव के युवा अपनी प्रेयसियों को पाने के लिए गांव के ही एक उजाड़ से मंदिर माता मुकड़ी मावली (वन राक्षसी) का रुख करते हैं। दंतेवाड़ा जिला मुख्यालय से करीब 40 किमी दूर छिंदनार ग्राम से चार किमी की दूरी पर एक टेकरी में माता मुकड़ी मावली का मंदिर है।

जनश्रुतियों के अनुसार माता मुकड़ी मावली मंदिर की माता को युवा अपनी प्रेमिका की तस्वीर तथा उसके कपडे के टुकड़े दिखाते हुए पूजा करते हैं तथा पास स्थित पत्थर के नीचे दबा देते हैं। माना जाता है कि ऐसा करने से मां प्रसन्न होकर प्रेमी-प्रेमिका का मिलन करा देती है।

यह भी पढें: अगर आपके दांतों के बीच भी हैं गैप तो आपका फ्यूचर होगा ऐसा

यह भी पढें: बड़े से बड़े दुर्भाग्य को भी सौभाग्य में बदल देते हैं ये 7 अचूक टोटके

मन्नत पूरी होने पर भोग भी लगाना होता है

मन्नत पूरी होने पर देवी को भोग में बकरा, मुर्गी व बत्तख चढ़ाई जाती है। यहां के पुजारी मनोहर (75) बताते हैं कि मंदिर में केवल युवकों को ही प्रवेश दिया जाता है। वे दूर से देवी की पूजा कर पुजारी के जरिए अपनी बात देवी तक पहुंचाते हैं। युवकों को पूजा के लिए प्रेयसी की तस्वीर व उसके कपड़े का टुकड़ा लाना होता है। उन्होंने बताया कि देवी की पूजा के लिए कोई विशेष दिन तय नहीं है। आषाढ़ में यहां मेला लगता है। हालांकि इन दिनों वेलेंटाइन डे के बढ़ते क्रेज को देखते हुए वेलेंटाइन डे पर भी काफी युवा पूजा करने आते हैं।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned