scriptइस रहस्यमय मंदिर में युगों से कैदखाने में बंद हैं देवता, नहीं देते भक्तों को दर्शन | Patrika News
मंदिर

इस रहस्यमय मंदिर में युगों से कैदखाने में बंद हैं देवता, नहीं देते भक्तों को दर्शन

इस रहस्यमय मंदिर में युगों से कैदखाने में बंद हैं देवता, नहीं देते भक्तों को दर्शन

May 25, 2018 / 06:48 pm

Tanvi

latu devta

इस रहस्यमय मंदिर में युगों से कैदखाने में बंद हैं देवता, नहीं देते भक्तों को दर्शन

भारत देश में एक से बड़ कर एक मंदिर हैं जो अपनी अलग ही विशेषताओं के लिए प्रसिद्ध हैं। हर मंदिर की अपनी एक अनोखी मान्‍यता है। देश में ऐसा भी एक मंदिर हैं, जहां महिला और पुरुष किसी भी श्रद्धालु को मंदिर के अन्दर जाने की इजाजत नहीं है। यहां भक्‍त तो क्‍या मंदिर के पुजारी को भी भगवान के दर्शन नहीं मिलते हैं। पुजारी अपनी आंखों पर पट्टी बांध कर यहां पूजा अर्चाना करते हैं। जी हां आपको जान कर हैरानी होगी की यहां पुजारी के अलावा कोई प्रवेश नहीं कर सकता, मंदिर में विराजमान नागराज और उनकी अद्भुत मणि। जिसको लेकर क्षेत्र में मंदिर की चर्चा दूर-दूर तक है।

 

latu devta

उत्‍तराखंड में स्थित है मंदिर

यह मन्दिर उत्तराखंड के चमोली जिले में देवाल नामक ब्लॉक में वांण नामक स्थान पर स्थापित है। राज्य में यह देवस्थल लाटू मंदिर नाम से विख्यात है, क्योंकि यहां लाटू देवता की पूजा होती है। यहां रहवासियों के अनुसार, लाटू देवता उत्तराखंड की आराध्या नंदा देवी के धर्म भाई हैं। दरअसल वांण गांव प्रत्येक 12 वर्षों पर होने वाली उत्तराखंड की सबसे लंबी पैदल यात्रा श्रीनंदा देवी की राज जात यात्रा का बारहवां पड़ाव है। यहां लाटू देवता वांण से लेकर हेमकुंड तक अपनी बहन नंदा देवी की अगवानी करते हैं।

 

 

latu devta

साल में सिर्फ एक बार पूर्णिमा के दिन खुलते हैं मंदिर के द्वार

हर 12 सालों में उत्तराखंड की सबसे लंबी श्रीनंदा देवी की राज जात यात्रा का बारहवां पड़ाव वांण गांव है। लाटू देवता वांण गांव से हेमकुंड तक नंदा देवी का अभिनंदन करते हैं। मंदिर का द्वार वर्ष में एक ही दिन वैशाख मास की पूर्णिमा के दिन खुलता हैं। इस दिन पुजारी इस मंदिर के कपाट अपने आंख-मुंह पर पट्टी बांधकर खोलते हैं। देवता के दर्शन भक्त दूर से ही करते हैं। जब मंदिर के कपाट खुलते हैं तब विष्णु सहस्रनाम और भगवती चंडिका पाठ का आयोजन होता है।

latu devta

मंदिर में नागराज अपनी अद्भुत मणि के साथ हैं विराजमान

स्थानीय लोगों का मानना है कि इस मंदिर में नागराज अपनी अद्भुत मणि के साथ रहते हैं। जिसे देखना आम लोगों के बस की बात नहीं है। पुजारी भी नागराज के महान रूप को देखकर डर न जाएं इसलिए वे अपने आंख पर पट्टी बांधते हैं। यह भी मानना है कि मणि की तेज रौशनी इंसान को अंधा बना देती है। न तो पुजारी के मुंह की गंध तक देवता तक और न ही नागराज की विषैली गंध पुजारी के नाक तक पहुंचनी चाए। इसलिए वे नाक-मुंह पर पट्टी लगाते हैं।

Hindi News/ Astrology and Spirituality / Temples / इस रहस्यमय मंदिर में युगों से कैदखाने में बंद हैं देवता, नहीं देते भक्तों को दर्शन

ट्रेंडिंग वीडियो