मंदिर सीमा में प्रवेश करते समय भूलकर भी ना करें ये गलती, वरना पछताएंगे आप

मंदिर सीमा में प्रवेश करते समय भूलकर भी ना करें ये गलती, वरना पछताएंगे आप

Tanvi Sharma | Updated: 07 Jun 2019, 02:57:55 PM (IST) मंदिर

मंदिर में भूलकर भी ना करें ये 6 काम

हर धर्म के लोग दर्शन व भगवान का आशीर्वाद लेने जरूर जाते हैं। चाहे वह हिंदू हो मुस्लिम हो या फिर क्रिश्चियन हो, सभी धर्मों में ईश्वर की इबादत का नियम है और सभी लोग अपने मन में शांति चाहते हैं। इसलिए जब भी किसी व्यक्ति का मन परेशान रहता है तो वह मंदिर, मस्जिद या चर्च, गुरूद्वारा चले जाता है। क्योंकि इन स्थानों पर अपार शांति महसूस होती है। हिंदू धर्म में मंदिर जाकर भगवान की पूजा की जाती है और यहीं उन्हें शांति मिलती है।

मंदिर में दर्शन करने से मन को शांति के साथ साथ पुण्य भी प्राप्त होता है। हम मंदिर जाकर दान करते हैं जिससे पुण्य मिलता है, पर क्या आपको पता है कई बार हम जाने-अनजाने में कुछ ऐसी गलतियां भी कर देते हैं जिससे की हमें भगवान का आशीर्वाद और पुण्य दोनों नहीं मिल पाता। उल्टा हमें दोष लग जाता है। इन गलतियों के बारे में कई लोगों को जानकारी नहीं होती। तो आइए जानते हैं, कि मंदिर जाते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए...

शनिदेव के प्रकोप से मिलेगी मुक्ति, इस राशियों पर रहेगी शनिदेव की कृपा दृष्टि

mandir parisar me bhulkar bhi na karein ye kaam

मंदिर में हंसने और जार से बोलने पर रखें ध्यान
शास्त्रों के अनुसार मंदिर में जोर-जोर से नहीं हंसना चाहिए और ना ही जोर से बोलना चाहिए। मंदिर में किसी भी तरह का मनोरंजन करना अच्छी बात नहीं होती। क्योंकि यदि आप जोर से हंसते या जोर से बोलते हैं तो इससे लोगों के ध्यान में बाधा उत्पन्न होती है और आपको दोष लगता है।

मंदिर में किसी के सामने खड़े ना हों
मान्यताओं के अनुसार मंदिर में भगवान के दर्शन के लिए जाते समय मन में भक्ति भाव के साथ जाएं। वहीं मंदिर में जब कोई भक्त भगवान के दर्शन कर रहा हो तो उसके आगे से की ना निकलें। ना ही उसके सामने जाकर खड़े होना चाहिए।

परिक्रमा करते समय ध्यान में रखें ये बात
कई बार कुछ लोगों को पता नहीं होता की परिक्रमा किस तरफ से करनी है और वे अज्ञनतावश उल्टी परिक्रमा कर लेते हैं। इसलिए ध्यान रखें की परिक्रमा हमेशा उल्टे हाथ की तरफ से शुरू कर के सीधे हाथ की ओर खत्म करनी चाहिए। वहीं यदि आप किसी शिव मंदिर में हैं तो शिवलिंग की आधी परिक्रमा करें।

बेल्ट पहनकर जाना
मंदिर में कभी बेल्ट पहनकर या चमड़े की चीजें नहीं ले जानी चाहिए। चमड़े को अशुद्ध माना गया है। ऐसा करने से पाप लगता है।

मूर्ति के सामने आना
भगवान के तेज को सहन करना मानवों के बस की बात नहीं होती है। इसलिए कभी भी मंदिर जाएं तो भगवान की मूर्ति के आगे खड़े ना हों, क्योंकि भगवान की मूर्ति से तेज ऊर्जा निकलती है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned