छठ पर्व पर इस मंदिर में मौजूद सरोवर में स्नान करने से दूर होते हैं कई रोग, उमड़ती है भक्तों की भीड़

छठ पर्व पर इस मंदिर में मौजूद सरोवर में स्नान करने से दूर होते हैं कई रोग, उमड़ती है भक्तों की भीड़

Tanvi Sharma | Updated: 12 Nov 2018, 05:08:18 PM (IST) मंदिर

छठ पर्व पर इस मंदिर में मौजूद सरोवर में स्नान करने से दूर होते हैं कई रोग, उमड़ती है भक्तों की भीड़

हिंदू धर्म का खास पर्व छठ बड़ी धूमधाम व आस्था से मनाया जाता है। यह महापर्व बिहार झारखंड और पूर्वी उत्तर प्रदेश में प्रमुख त्योहार के रुप में मनाया जाता है। पहले यह त्यौहार सिर्फ इन्हीं जगहों पर मनाया जाता था किन्तु अव यह त्यौहार भारत भर में मनाया जाने लगा है। यह त्यौहार 4 दिनों तक मनाया जाता है और इस दौरान सभी नदी, तालाब व घाटों की रौनक बढ़ जाती है। वही धार्मिक स्थलों की बात करें तो वहां लोगों की भीड़ उमड़ने लगती है। छठ महापर्व में सूर्य देवता व छठ मैय्या की पूजा का विशेष महत्‍व माना जाता है। इस दिन उगते और डूबते सूर्य को अर्घ्‍य दिया जाता है। वैसे तो बिहार और झारखंड के लगभग सभी मंदिरों और धार्मिक स्थलों पर यह पर्व मनाया जाता है लेकिन बिहार के औरंगाबाद जिले के देव स्थित सूर्य मंदिर में छठ महापर्व का बहुत अलग महत्व है। छठ पूजा के लिए प्रतिवर्ष लाखों श्रद्घालु इस ऐतिहासिक त्रेतायुगीन पश्चिमाभिमुख सूर्य मंदिर में पहुंचते हैं। मंदिर में ना सिर्फ देश बल्कि विदेशों से भी श्रृद्धालु दर्शन के लिए आते हैं। छठ पर्व के दौरान यहां छठव्रतियों की भारी भीड़ देखने को मिलती है।

surya mandir deo

देव स्थित सूर्य मंदिर को लेकर लोगों की मान्यता है कि यहां दर्शन के लिए आए श्रृद्धालु जो भी मांगते हैं उनकी सभी मुरादें जरुर ही पूरी होती है। मंदिर के बाहर लगे शिलालेख से स्प्ष्ट होता है कि इस मंदिर का निर्माण काल का एक लाख पचास हजार बारह वर्ष पूरा हो गया है। मंदिर की अद्भुत कलात्मकता भव्यता के कारण किंवंदती है कि मंदिर का निर्माण भगवान विश्वकर्मा ने अपने हाथें से एक रात में किया था। इसके निर्माणकाल के विषय में सही जानकारी किसी के पास नहीं है। सूर्य मंदिर को देखने से ऐसा लगता है कि बिना किसी जुड़ाई के पत्थर से ही इस मंदिर का निर्माण करवाया गया है।

देव स्थित सूर्य मंदिर देश का एकमात्र पश्चिमोभिमुख सूर्य मंदिर है। यहां सात रथों से सूर्य की उत्कीर्ण प्रस्तर मूर्तियां अपने तीनों रूपों उदयाचल (प्रात:), मध्याचल (दोपहर) और अस्ताचल (अस्त होते) के रूप में विराजमान है। काले और भूरे पत्थरों की अति सुंदर कृति देव के प्राचीन सूर्य मंदिर में देखने को मिलती है और दर्शन के लिए आए श्रृद्धालुओं को भावविभोर करती है। देव मंदिर दो भागों गर्भ गृह और मुख मंडप में बंटा है। करीब 100 फुट उंचे इस मंदिर का निर्माण बिना सीमेंट अथवा चूने-गारे का प्रयोग किए आयताकार, गोलाकार, त्रिभुजाकार वगरेकार आदि कई रूपों में पत्थरों को काटकर बनाया गया है। इस मंदिर पर सोने का एक कलश है। किवंदंतियों के अनुसार यह सोने का कलश यदि कोई चुराने की कोशिश करता है तो वह उससे चिपक कर रह जाता है। हर साल चैत्र मास व कार्तिक मास में होने वाले छठ पर्व पर यहां लाखों श्रद्धालु छठ व्रत करने के लिए जुटते हैं।

surya mandir deo

वैसे तो सूर्य मंदिर का कोई प्रमाणित इतिहास नहीं है लेकिन फिर भी मंदिर के पुजारी बताते हैं की यह मंदिर सूर्य पुराण के अनुसार ऐल एक राजा थे जो किसी ऋषि के शाप के कारण श्वेत कुष्ठ से पीड़ित थे। एक बार शिकार करने वह देव के वनप्रांत में आ गए और रास्ता भटक गए। इस दौरान उन्हें बहुत जोर की प्यास लगी। यहीं पर एक छोटा सरोवर देख उन्होंने वहां का पानी पिया और उनका कुष्ठ ठीक हो गया। इसके बाद उन्होंने अपने राज की राजधानी यहीं बनाई थी तब इस इलाके का नाम देववेड़ा रखा गया था। आज भी यह सरोवर वहां मौजूद है, जहां लोग नहाने आते हैं। यहां आए लोगों का मानना है की कुष्ठ रोग ठीक हो जाता है। मंदिर में मौजूद सरोवर में यूं तो हर दिन लोग यहां पूजा करने व स्नान करने आते हैं, लेकिन छठ के दौरान यहां लाखों की भीड़ इकट्टठा होती है। सूर्योपासना के लिए यहां बिहार-झारखंड ही नहीं बल्कि आसपास के राज्य से भी लोग आते हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned