रावण के भाई विभीषण ने किया था श्री गणेश पर वार, अद्भुत मुर्ति पर आज भी दिखता है चोट का निशान

रावण के भाई विभीषण ने किया था श्री गणेश पर वार, अद्भुत मुर्ति पर आज भी दिखता है चोट का निशान

Tanvi Sharma | Updated: 02 Jun 2018, 04:53:31 PM (IST) मंदिर

रावण के भाई विभीषण ने किया था श्री गणेश पर वार, अद्भुत मुर्ति पर आज भी दिखता है चोट का निशान

तमिलनाडु के तिरुचिरापल्ली में त्रिचि नाम के स्थान पर रॉक फोर्ट पहाड़ी की चोटी है जहां भगवान गणेश का उच्ची पिल्लयार नाम का प्रसिद्ध मंदिर बसा हुआ है। यह मंदिर लगभग 273 फुट की ऊंचाई पर है और मंदिर तक पहुंचने के लिए लगभग 400 सिढ़ियों की चढ़ाई करनी पड़ती है। इस मंदिर की स्‍थापना का कारण रावण के भाई विभीषण से जुड़ा हुआ है।

 

ganesh mandir

 

ये है मंदिर से जुड़ी मान्यताएं

तिरुचिरापल्ली का प्राचीन नाम था थिरिसिरपुरम और तिरुचिरापल्ली को पहले थिरिसिरपुरम के नाम से जाना जाता था। थिरिसिरन नाम के राक्षस ने इस जगह पर भगवान शिव की उपासना की थी, इसी वजह से इसका नाम थिरिसिरपुरम रखा गया था। और इस पर्वत की खास बात यह है की इसकी तीन चोटियों पर तीन देव विराजमान हैं, चोटी के पहले पर्वत पर भगवान शिव, दूसरे पर माता पार्वती और तीसरे पर श्रीगणेश(ऊंची पिल्लयार)पर स्थित है, जिसकी वजह से इसे थिरि-सिकरपुरम कहा जाता है। बाद में थिरि-सिकरपुरम को बदल कर तिरुचिरापल्ली कर दिया गया।

 

ये है मंदिर की प्रसिद्धी का कारण

वास्तुशास्त्रों के अनुसार माना जाए तो जहां उत्तर दिशा में नदी बह रही होती है वह स्थान निश्चित ही प्रसिद्धि प्राप्त करता है। जहां मंदिर स्थित है वहां पहाड़ी में दक्षिण दिशा में ज्यादा ऊंचाई है और पहाड़ी की ढ़लान उत्तर दिशा में नदी की तरफ फैली हुई है। पहाड़ी की यह वास्तुनुकूल भौगोलिक स्थिति मंदिर की प्रसिद्धि बढ़ाने में सोने पर सुहागे का काम कर रही है। इसके अलावा इस मंदिर के शिखर पर जाने का रास्ता है पहाड़ की तलहटी के दक्षिण आग्नेय में है। वास्तुशास्त्र के अनुसार दक्षिण आग्नेय का द्वार प्रसिद्धि और वैभव बढ़ाने में सहायक होता है।

 

ganesh mandir

मंदिर से जुड़ा इतिहास

मंदिर के बारे में पौराणिक कथाएं प्रचलित है बतया गया है की रावण का वध करने के बाद भगवान राम ने अपने भक्त और रावण के भाई विभीषण को भगवान विष्णु के ही एक रूप रंगनाथ की मूर्ति प्रदान की थी। विभीषण वह मूर्ति लेकर लंका जाने वाला था। लेकिन उसके राक्षस कुल से होने के कारण कोई देवता नहीं चाहते थे कि मूर्ति विभीषण के साथ लंका जाए। तभी सभी देवताओं ने भगवान गणेश से सहायता करने की प्रार्थना की। उस मूर्ति को लेकर यह मान्यता थी कि उन्हें जिस जगह पर रख दिया जाएगा, वह हमेशा के लिए उसी जगह पर स्थापित हो जाएगी। जब विभीषण त्रिचि पहुंच गया तो उसे वहां कावेरी नदी दिखी और नदी देखकर विभीषण ने उसमें स्नान करने का विचार किया। तब वह मूर्ति संभालने के लिए किसी को खोजने लगा। उसी वक्त वहां से भगवान गणेश गणेश एक बालक का रूप में आए।

विभीषण ने बालक को भगवान रंगनाथ की मूर्ति पकड़ा दी और उसे जमीन पर न रखने की प्रार्थना की। विभीषण के जाने पर गणेशजी ने उस मूर्ति को जमीन पर रख दिया। जब विभीषण वापस आया तो उसने मूर्ति जमीन पर रखी पाई। उसने मूर्ति को उठाने की बहुत कोशिश की लेकिन उठा न पाया। ऐसा होने पर उसे बहुत क्रोध आया और उस बालक की खोज करने लगा। भगवान गणेश भागते हुए पर्वत के शिखर पर पहुंच गए, आगे रास्ता न होने पर भगवान गणेश उसी स्थान पर बैठ गए।

जब विभीषण ने उस बालक को देखा तो क्रोध में उसके सिर पर वार कर दिया। ऐसा होने पर भगवान गणेश ने उसे अपने असली रूप के दर्शन दिए। भगवान गणेश के वास्तविक रूप को देखकर विभीषण ने उनसे क्षमा मांगी और वहां से चले गए। तब से भगवान गणेश उसी पर्वत की चोटी पर ऊंची पिल्लयार के रूप में विराजमान है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned