देश के लिए 4 ओलंपिक में खेलना मेरे लिए सम्मान की बात : सानिया

34 वर्षीय मिर्जा 23 जुलाई से शुरू होने वाले टोक्यो 2020 में प्रतिस्पर्धा करने के साथ ही चार ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाली पहली महिला एथलीट बन जाएंगी।


By: भूप सिंह

Published: 24 Jun 2021, 09:23 PM IST

 

नई दिल्ली। पिछले दशक के बेहतर समय के लिए भारतीय टेनिस ने इस सवाल का जवाब देने प्रयास किया है कि 'अगली सानिया मिर्जा कौन होगी?' यहां तक कि खेल जारी होने के बावजूद महिला खिलाड़ी खुद भी इससे दूर जाने के बारे में नहीं सोच रही है। 34 वर्षीय सानिया (Sania Mirza) 23 जुलाई से शुरू होने वाले टोक्यो 2020 में प्रतिस्पर्धा करने के साथ ही चार ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाली पहली महिला एथलीट बन जाएंगी।

यह भी पढ़ें:—भारत की अंतरराष्ट्रीय शूटर सड़क पर नमकीन-बिस्कुट बेचकर पाल रही अपना परिवार, देश के लिए जीते दर्जनों मेडल

मैं बहुत दूर की नहीं सोचती हूं
सानिया ने हाल ही एक इंटरव्यू में बताया, 'मेरा कॅरियर शानदार रहा है। यह सिर्फ अपने आप पर विश्वास करने और अपनी क्षमताओं पर विश्वास करने के बारे में है। मैं अपनी उम्र के 30 साल के पड़ाव में हूं और मेरा खेल अभी भी जारी है! मैं वास्तव में इसके बारे में ज्यादा नहीं सोचती कि मैं कब तक खेलूंगी। मैं हर नए दिन के साथ आगे बढ़ती हूं और वास्तव में भविष्य में बहुत दूर के बारे में नहीं सोचती।'

बेटे जन्म के बाद की जोरदार वापसी
2018 में अपने पहले बच्चे इजहान को जन्म देने के बाद सानिया ने पिछले साल जनवरी में होबार्ट इंटरनेशनल डब्ल्यूटीए इवेंट जीतकर विजयी वापसी की थी। उनके पास एक बेहतर ऊर्जा होगी, क्योंकि वह विंबलडन और ओलंपिक में भाग लेने के लिए तैयार है, जो एक एक महीने के अंदर आयोजित किए जाने के लिए निर्धारित हैं।

यह भी पढ़ें— आर्थिक तंगी से जूझ रहा वेस्टइंडीज का यह पूर्व तेज गेंदबाज, भारतीय क्रिकेटर आर. अश्विन ने की लोगों से मदद की अपील

अंकिता के साथ जोड़ी बनाएंगी सानिया
सानिया संरक्षित विश्व रैंकिंग 9 के साथ ओलंपिक में उतरेगी। हालांकि, यह पहली बार है कि महिला युगल स्पर्धा में उनकी साथी भी शीर्ष-100 में शामिल है। बीजिंग 2008 में सुनीता राव, लंदन 2012 में रश्मी चक्रवर्ती और रियो 2016 में प्रार्थना थोम्बरे के साथ जोड़ी बनाने वाली मिर्जा अब भारत की सर्वोच्च रैंकिंग वाली युगल खिलाड़ी अंकिता रैना (95) के साथ जोड़ी बनाएगी। सानिया ने कहा, 'अंकिता एक मेहनती, ईमानदार खिलाड़ी है। बिली जीन किंग कप से ठीक पहले उसने मेरे साथ कुछ समय बिताया था और उसने पहली बार भारतीय महिला टीम को बिली जीन किंग कप के प्लेऑफ में पहुंचने में मदद की थी।'

भूप सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned