Wimbledon 2018 : 'कर्फ्यू' के कारण जोकोविक-नडाल का सेमीफाइनल मैच रुका

जिस समय मैच रोका गया उस समय जोकोविक तीन सेटों में 6-4, 3-6, 7-6 (9) से आगे चल रहे थे। समाचार एजेंसी एफे की रिपोर्ट के मुताबिक, मैच अब शनिवार को स्थानीय समयानुसार दोपहर एक बजे से फिर से शुरू होगा। अधिकारियों ने दो घंटे 54 मिनट के बाद नडाल-जाकोविक का मैच रोक दिया।

 

By: Siddharth Rai

Published: 14 Jul 2018, 03:37 PM IST

नई दिल्ली। र्बिया के नोवाक जोकोविक और स्पेन के राफेल नडाल के बीच साल के तीसरे ग्रैंड स्लैम विंबलडन का पुरुष वर्ग का दूसरा सेमीफाइनल मैच रात के 11 बजने के बाद कर्फ्यू नियमों के कारण रोक देना पड़ा। जिस समय मैच रोका गया उस समय जोकोविक तीन सेटों में 6-4, 3-6, 7-6 (9) से आगे चल रहे थे। समाचार एजेंसी एफे की रिपोर्ट के मुताबिक, मैच अब शनिवार को स्थानीय समयानुसार दोपहर एक बजे से फिर से शुरू होगा। अधिकारियों ने दो घंटे 54 मिनट के बाद नडाल-जाकोविक का मैच रोक दिया।

जोकोविक 5वीं बार विंबलडन के फाइनल में पहुंचने एक सेट दूर
दोनों खिलाड़ियों के बीच होने वाला यह मैच महिला एकल के फाइनल से पहले शुरू किया जाएगा। जोकोविक पांचवीं बार विंबलडन के फाइनल में पहुंचने से एक सेट की जीत से दूर है। वर्ल्ड नंबर-1 नडाल और तीन बार के विंबलडन चैंपियन जोकोविक का सेमीफाइनल मैच केविन एंडरसन और जॉन इस्नर के बीच खेले गए 6 घंटे 36 मिनट लंबे पहले सेमीफाइनल मैच के कारण रात 8 बजे से पहले नहीं शुरू हो सका और आखिर में विंबलडन के नियमों के मुताबिक रात 11 बजे इसे रोकना पड़ा। एंडरसन ने विंबलडन इतिहास के सबसे लंबे सेमीफाइनल में इस्नर को 7-6 (8-6), 6-7 (5-7), 6-7 (9-11), 6-4, 26-24 से हराकर फाइनल में प्रवेश किया। ऑल इंग्लैंड क्लब और सदरलैंड तथा विंबलडन विलेज के आसपास रहने वाले लोगों बीच हुए समझौते के अनुसार, मैच रात के 11 बजे तक रुक जाना चाहिए।

36 मिनट के मैराथन मुकाबले में जीत दर्ज की
शुक्रवार को खेले गए पुरुष एकल के पहले सेमीफाइनल में एंडरसन ने पांचवें सेट में इस्नर के 13वें प्रयास को विफल करते हुए छह घंटे 36 मिनट के मैराथन मुकाबले में जीत दर्ज की। छह फुट आठ इंच लंबे एंडरसन पहले सेट को टाइब्रेकर में ले गए, जहां उन्होंने एक सेट अंक बचाया। दूसरा सेट भी टाइब्रेकर में गया, जहां इस बार अमेरिकी खिलाड़ी ने बाजी मारी। तीसरा सेट ऐसा लगा जैसे कि यह मैच का टर्निग पॉइंट साबित होगा, लेकिन इस्नर ने शानदार वापसी करते हुए टाइब्रेकर में यह सेट अपने नाम किया। हालांकि एंडरसन ने सर्विस ब्रेक गंवाने के बावजूद चौथा सेट अपने नाम किया।

अंतिम सेट में इस बार एक भी अंक नहीं गंवाया एंडरसन ने
एंडरसन ने पांचवें और अंतिम सेट में इस बार एक भी अंक नहीं गंवाया और पांववें सेट को जीतकर पहली बार विंबलडन के फाइनल में कदम रख दिया। विंबलडन में एकल वर्ग के इतिहास में यह अबतक का सबसे लंबा सेमीफाइनल मैच है। इतना लंबा मैच खेलने के बाद भी एंडरसन आखिरकार मैदान पर खड़े रहे। वहीं इस्नर इससे पहले भी विंबलडन में ही 2010 में फ्रांस के निकोलस माउत के खिलाफ 11 घंटे पांच मिनट का मैच खेल चुके हैं।

Show More
Siddharth Rai Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned