दिया तले अंधेरा. संयुक्त कार्यालय में पेयजल संकट

जिन कार्यालयों से जिले के रहवासियों को सर्व सुविधाएं उपलब्ध कराई जाती है। आज उसी संयुक्त कार्यालय में पेयजल संकट है।

By: akhilesh lodhi

Published: 08 Apr 2021, 08:14 PM IST

टीकमगढ़.जिन कार्यालयों से जिले के रहवासियों को सर्व सुविधाएं उपलब्ध कराई जाती है। आज उसी संयुक्त कार्यालय में पेयजल संकट है। अधिकारियों से लेकर कर्मचारियों और ग्रामीणों से लेकर पीडि़तों के लिए एक वाटरकूलर और मैदान में एक हैंडपंप लगा है। हालांकि दोनों चीजें चालू हालत में है। पानी भी स्वच्छ है। वहीं एसडीएम और तहसील कार्यालय में पेयजल के लिए परेशान होना पड़ता है।
पत्रिका की टीम ने गुरूवार की दोपहर १ बजे के करीब पेयजल को लेकर संयुक्त कार्यालय में सुविधाएं देखी। जहां पेयजल के हालात सुविधाओंं के उलट दिखाई दिए। दर्जनों विभागों के बीच सिर्फ एक ही वाटरकूलर लगा है। जिसका पानी भी ठंड़ा था। लेकिन उसके आसपास गंदगी ही दिखाइ्र दे रही थी। खास बात यह है कि इस भवन में जिले के सभी कार्यालय संचालित है। जिनमें अधिकारियों से लेकर कर्मचारी सैकड़ों की संख्या में दर्ज है। इसके साथ ही हजारों की संख्या में ग्रामीण क्षेत्रों के पीडि़त, किसानों के साथ जनप्रतिनिधियों का आवागमन होता है। लेकिन जिम्मेदारों की नजर पेयजल व्यवस्था पर नहीं जाती है।
दूसरे फ्लोर पर रखा था वाटर कूलर
पत्रिका ने प्रथम फ्लोर का चारों ओर चक्कर लगाया। लेकिन बाहर से लेकर अंधर तक कही भी पेयजल व्यवस्थाएं नहीं थी। उसी दौरान दूसरे फ्लोर गए तो कोने में वाटरकूलर रखा हुआ था। जिसमें दो टोटी लगी हुई थी। दोनों से ठंडा पानी निकल रहा था। वहां पर पानी पीने के लिए कार्यालयों के अधिकारी और कर्मचारियों के साथ ग्रामीण क्षेत्रों के लोग पानी पीने आ रहे थे। लेकिन तीसरे फ्लोर पर कही भी पीने के लिए पानी की व्यवस्था दिखाई नहीं थी।
तहसील और एसडीएम कार्यालय में नहीं है पानी
संयुक्त कार्यालय और तहसील के साथ एसडीएम कार्यालय मैदान में सैकड़ों की संख्या में बकील बैठे रहते है। उनके पास हजारों की संख्या में ग्रामीण क्षेत्रों से लोगों का आना जाना बना रहता है। लेकिन उन लोगों के लिए पेयजल व्यवस्था ध्वस्त बनी हुई है। वहां पर आने वाले लोग पेयजल की खोज में जिला न्यायालय, जिला पंचायत, जनपद पंचायत और बाहर दुकानों का रूख करते है। इसके बाद भी प्रशासन द्वारा पेयजल को लेकर कोई ध्यान नहीं हुई है।
मैदान में लगा एक ही हैंडपंप
संयुक्त कार्यालय के मुख्य दरवाजा लोक सेवा केंद्र के सामने वर्षो पहले हैंडपंप लगाया गया था। उसी हैंडपंप की मद्द से संयुक्त कार्यालय में आने वाले लोगों की पेयजन पूर्ति होती है।


इन विभागों में मिला मटका और बाल्टी
पत्रिका ने विभागों में जाकर देखा तो शिक्षा विभाग में दो बाल्टी रखी हुई थी। एक बाल्टी में हाथ धोने वाला पानी और एक में पीने वाला पानी रखा था। उसी दौरान कृषि विभाग में मटके और हल्की पानी का आरओ रखा था। हाथ धोने के लिए साबून के साथ अलग पानी था। इसके बाद किसी भी विभाग में पेयजल व्यवस्था दिखाई नहीं दी।
पेयजल के लिए तड़प रहे थे ग्रामीण
हरीराम ठाकुर, लोकेश ठाकुर, प्रमोद बंशकार, रामदीन यादव, रूपसिंह कुशवाहा, नीरज अहिरवार ने बताया कि गर्मियों के समय संयुक्त कार्यालय में पेयजल समस्या ही है। अगर प्यास लगती है तो दूसरे फ्लोर पर वाटरकूलर या फिर बाहर चाय की दुकानों पर जाना प ड़ता है। उन्हीं के भरोसे प्यास को बुझाना पड़ता है।
इनका कहना
गर्मी का सीजन शुरू हो गया है। विभागों के कर्मचारियों के साथ ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले लोगों को इस समय पानी की बहुज जरूर पड़ेगी। इसके लिए वाटर कूलर रखे जाएगें। कही-कही मटके भी रखें जाएगें। जिससे लोगों को पानी के लिए परेशान ना होना पड़े।
आइजे खलको एडीएम टीकमगढ़।

akhilesh lodhi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned