हाइवे का गड्ढा बना जानलेवा, सालों से खराब पड़ी सड़क और अंधे मोड़ों से हो रही दुर्घटनाएं

लोगों के विरोध का भी नहीं हो रहा असर

By: anil rawat

Published: 13 Mar 2018, 01:42 PM IST

टीकमगढ़.बानपुर वाया ललितपुर सड़क कई सालों से खस्ताहाल पडी हुई है। सड़क सुधार के लिए संगठनों द्वारा विरोध और प्रतिनिधियों की शिकायतें पर विभाग ने मरम्मत की थी। लेकिन सड़क के मरम्मत कार्य को अधर में ही छोड़ दिया गया। वहीं सागर हाईवें समर्रा गांव घटिया के पास सड़क के बीच में बहुत गहरा गड्डा बना हुआ है। इसके साथ ही झांसी के भगवंतपुरा और रानीपुरा तिगैला के पास अंधे मोड़ बने हुए है। वहां पर संकेत चिन्ह नहीं होने से आए दिए दुर्घटनाएं घटित हो रही है। लेकिन जिम्मेदार विभाग के अधिकारियों द्वारा मामले को लेकर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही हैं।
नगर की समीपस्थ बानपुर वाया ललितपुर सड़क का पांच सालों में दो बार सड़क निर्माण के साथ आधा दर्जन से अधिक बार सड़क की मरम्मत हो गई है। इसके बाद सड़क एक पाक्षिक में ही उखडकर खराब हो गई। सड़क खराब होने से आए दिन सड़क हादसें और सड़क किनारे रहने वाले लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इसके साथ ही हाईवें ,प्रधानमंत्री सड़क और मुख्यमंत्री सड़कों पर बने अंधे मोड बने है। उन सड़कों पर संकेत चिन्ह नहीं होने के कारण दुर्घटनाएं रूकने का नाम नहीं ले रही है।
एक साल में कई बार होती है सड़क की मरम्मत
मुक्ति धाम से मप्र और उप्र सीमा जामनी नदी तक पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा 4 किमी के करीब सड़क निर्माण किया गया था। यह सड़क करीब एक साल तक ही सुरक्षित रही है। इसके बाद यह पूरी सड़क गड्डों में तब्दील हो गई। सड़क मरम्मत के लिए संगठनों और जनप्रतिनिधियों द्वारा मांग की गई। जिसको लेकर पूरी सड़क को दोवारा निर्माण किया गया। घटिया निर्माण के बाद यह सड़क छह माह में ही उखडकर खराब हो गई। पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा लाखों रूपए की लागत से दर्जनों बार पेंचवर्ग कार्य किया गया। लेकिन यह पेंचवर्ग एकाध किमी ही चला। इसके बाद बंद करवा दिया गया। गुणवत्ता पूर्ण तरीके से सड़क की मरम्मत नहीं होने के कारण सड़क गड्ड़ों में तब्दील हो गई है।
सागर हाईवें पर बना गड्डा हो रही दुर्घटनाएं
समर्रा निवासी चंद्रभान लोधी,अजय नामदेव,गोल्डी सोनी और राहुल सोनी ने बताया कि समर्रा घटिया के पास हाईवें बीच सड़क पर गहरा गड्ड़ा बना हुआ है। घटिया के नीचे यह गड्ड़ा होने के कारण रात में चलने वाले वाहन चालक गिरकर चौटिल हो रहे है। इस जानलेवा में प्रतिदिन कोई न कोई वाहन चालक गिरने से सुबह अचेत और घायल अव्यवस्था में मिलते है। गड्ड़े की मरम्मत करवाने के लिए समर्रा सहित सिलामिती और गुदनवारा गांव के लोगों ने कलेक्टर सहित मुख्यमंत्री से शिकायत की है।

एक हफ्ते में एक की जान सहित कई हुए घायल
ग्रामीणों का कहना है कि एक हफ्ते में एक बाईक चालक की मौत और दर्जनभर से अधिक वाहन चालक घायल हो गए है। विभाग द्वारा इस स्थान पर न तो कोई संकेत चिन्ह लगाए गए है और न ही गड्ड़े की मरम्मत की गई है। घटनाएं ज्यादा होने के कारण ग्रामीणों ने चंदा एकत्रित करके मिट्टी मुरम से भरवा दिया गया है।
अंधे मोड़ों पर नहीं लगे संकेत चिन्ह
जिले में हाईवें सड़कों सहित सैकड़ों प्रधानमंत्री सड़क और मुख्यमंत्री सड़कों का निर्माण किया गया है। लेकिन विभाग और ठेकेदारों द्वारा सड़क पर बने अंधे मोड़ों सहित सकरी पुलियों पर संकेत चिन्ह नहीं लगाए गए है। जिसके कारण मोड़ों पर वाहनों की भिड़ंत हो रही है। जिसके कारण जनधन की हानि हो रही है।
सड़कों पर संकेत चिन्ह लगाने कई बार हुई बैठकें
अंधे मोड़ों और सकरी पुलियों सहित कई स्थानों पर संके त चिन्ह लगाए जाने के लिए प्रशासन द्वारा बैठके आयोजित की गई। जनप्रतिनिधियों द्वारा अंधे मोड़ों पर संकेत चिन्ह सहित रैलिंग लगाए जाने का प्रस्ताव रखा गया। लेकिन जिम्मेदारों द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई।
इस स्थानों पर होती है दुर्घटनाएं
जिले के झांसी रोड़ पर हीरानगर तलैया के पास, भगवंतपुरा, ज्यौरामोरा, दिगौड़ा थाना के आगे, मऊरोड़ जनकपुर के पास, रानीपुरा तिगैला के पास, बल्देवगढ़ पुलिया के पास, सागर रोड़ के जटुवां के पास, पठा सहित दर्जनों स्थानों पर संकेत चिन्ह नहीं है।
विभागों को नहीं पता की कौन सी है विभाग की रोड़
सड़क पर अंधे मोड़ और गड्ड़ों की मरम्मत करवाले की बात एमपीआरडीसी सी अधिकारी से बात की गई तो उनका कहना था कि सागर हाईवें पीडब्ल्यूडी विभाग को हेंडओवर कर दिया है। वहीं पीडब्ल्यूडी ईई विभाग के अधिकारी का कहना था कि सागर हाईवें एमआरडीसी का है। जानकारी करके कार्रवाई करवाने की बात की गई है।
कहते है अधिकारी
बानपुर सड़क का टेंडर लग गए है, जल्द ही सड़क निर्माण किया जाएगा। सागर हाईवें समर्रा के पास सड़क पर बने गड्डे को दिखवाता हूं। जल्द ही मरम्मत कर गड्डों को ठीक कराया जाएगा।
मनोज सक्सेना पीडब्ल्यूडी ईई टीकमगढ़।
जिले में जो भी सड़के प्रधानमंत्री योजना से बनाई गई है। सभी में सड़कों पर बने मोड़ों पर संकेत चिन्ह लगाए गए है। जहां नहीं है उन स्थानों की जांच कर कार्रवाई की जाएगी।
सत्येंद्र श्रीवास्तव एमपीआडीसी टीकमगढ़।

anil rawat Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned