टीकमगढ़. अमृतं जलम् अभियान में सहभागी होकर इस रविवार को भी लोगों ने गौघाट में श्रमदान किया। रविवार को किए गए श्रमदान के बाद गौघाट को पूरी तरह से जलकुंभी से मुक्त कर दिया गया। इसके साथ ही उसकी सीढिय़ों पर महिनों से जमीं गंदगी को भी दूर किया। गौघाट की सफाई होने के बाद इसमें पानी की निरंतर उपलब्धता एवं वर्तमान पानी को साफ करने के लिए प्रयास किया जाएगा।


रविवार को पत्रिका के अमृतं जलम् अभियान में सहभागी होकर एक बार फिर से लोगों ने अपने प्राचीन जलश्रोतों को संरक्षित करने के लिए श्रमदान किया। गायत्री परिवार, कांग्रेस, भाजपा के साथ ही छात्र संगठनों के युवाओं ने गौघाट पहुंच कर मेहनत की। यहां पर युवाओं के साथ ही मात्रशक्ति एवं वरिष्ठजन साथ रहे। गौघाट में बची शेष जलकुंभी को निकालने के बाद यहां की सीढिय़ों पर जमें मलबे को यहां से निकाला गया। जलकुंभी एवं मलबा हटने के बाद गौघाट आज अपने पुराने रूप में दिखाई दिया। गायत्री परिवार के सदस्यों ने अब इस पानी को साफ करने के लिए प्रयास करने की बात कहीं हैं।

 

निकासी मार्ग अवरूद्ध: राजशाही दौर में तालाब के निर्माण के समय स्लूज के पास ही गौघाट का निर्माण किया गया था। ताकि नहर से पानी निकलते समय इस गौघाट में पानी भर जाए और यहां पर मवेशी अपनी प्यास बुझा सकें। वर्तमान में तालाब में पर्याप्त पानी न होने के कारण इस गौघाट में पानी नही आ पा रहा हैं। वहीं गौघाट से नहर का निकासी का मार्ग पूरी तरह से बंद हैं। जबकि निकासी मार्ग की और पेयजल की टंकी का ओवर फ्लो पाइप लगा हुआ हैं, जिससे 24 घंटे पानी निकलता रहता हैं। यदि प्रशासन इस निकासी द्वारा को साफ करा दें और इस ओवर फ्लो पानी को गौघाट की ओर मोड़ दें तो यहां पर प्रतिदिन साफ-स्वच्छ पानी आता रहेगा और जानवरों की प्यास आसानी से बुझती रहेगी।


डालनी होगी दवाएं: गायत्री परिवार की युवा इकाई दिया के डॉ योग रंजन का कहना था कि महिनों से गौघाट की सफाई न होने के कारण इस पानी से दुर्गंध आने लगी हैं। जब तक इस पानी में ब्लीचिंग पाउडर एवं कुछ रसायन नही डाले जाएंगे, यह पीने के योग्य नही होगा। उन्होंने इसमें ब्लीचिंग पाउडर डालन कर इसे साफ करने की बात कहीं हैं।

 

प्रशासन दें ध्यान: अमृतं जलम् अभियान में आए कांग्रेस के महासचिव संजय नायक ने कहा कि पत्रिका का यह अभियान सराहनीय हैं। इस पर प्रशासन को ध्यान देना चाहिए। उन्होंने इसके लिए नपा को पहल करने की बात कहीं। उनका कहना था कि गौघाट, महेन्द्र सागर तालाब आज न केवल हमारी जलापूर्ति के प्रमुख श्रोत है, बल्कि यह नगर के प्रतीक हैं। इनका संरक्षण हम सभी का दायित्व हैं। उनका कहना था कि वह गौघाट के जल को साफ करने एवं इसका निकासी मार्ग साफ कराने के लिए नपा से बात करेंगे।


सभी का सहयोग जरूरी: वी क्लब की नवनिर्वाचित अध्यक्ष शिवानी खेवरिया का कहना था कि जलश्रोतों के संरक्षण के लिए पत्रिका का यह अभियान सराहनीय हैं। इसमें सभी को अपनी सहभागिता दर्ज करानी चाहिए। उन्होंने कहा कि पानी के बिना जीवन की कल्पना नही की जा सकती हैं। इनका संरक्षण बहुत जरूरी हैं। वह इस कार्य में हर तरह से सहयोग के लिए तैयार हैं। वी क्लब की सचिव रूचि राजा परमार का कहना था कि पत्रिका की यह पहल सराहनीय हैं। वर्तमान में जल संरक्षण की बहुत जरूरत हैं।

 

संरक्षण बहुत जरूरी: वहीं भाजपा के जिला उपाध्यक्ष मनोज देवलिया ने पत्रिका के इस अभियान की सराहना करते हुए कहा कि आज इसकी नितांत जरूरत हैं। यदि लोग अब भी अपने जलश्रोतों एवं पर्यावरण के प्रति जागरूक नही हुए तो आगे बहुत समस्याएं आ सकती हैं। उन्होंने इन जलश्रोतों के प्रति नगर पालिका एवं प्रशासन को भी संवेदनशील होने की बात कहीं। उनका कहना था कि वह इस कार्य के लिए हर तरह का सहयोग करने के लिए तैयार हैं। पत्रिका के अभियान में महेश बादल, महेश प्रसाद गुप्ता, शिवम सेन, विनीश गुप्ता, योगेन्द्र शर्मा, अरविंद खेवरिया, पुष्पेन्द्र सिंह गौर, संकल्प जैन, कृष्णकांत वैष्णव, अनुराग सोनी, सत्यम जैन सहित अन्य लोग उपस्थित रहे।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned