स्वतंत्रता दिवस पर तिरंगे की राखियों से सजेगी भाइयों की कलाइयां

स्वतंत्रता दिवस पर तिरंगे की राखियों से सजेगी भाइयों की कलाइयां

Vishnu Kumar Soni | Publish: Aug, 14 2019 10:00:00 AM (IST) Tikamgarh, Tikamgarh, Madhya Pradesh, India

बाजार सजकर तैयार, बहने कर रहीं खरीदारी

टीकमगढ़.भाई-बहन के प्रेम के पर्व रक्षा बंधन को लेकर बाजार सज कर तैयार हो गए है। इस पर्व को लेकर बाजार में भी खासी रौनक है। बाजार में राखी, खिलौने, कपड़ों के साथ ही मिठाईयों की दुकानें सज कर तैयार हो गई है। वहीं इस पर्व को देखते हुए बाहर रह रहे भाई-बहन भी अपने घर आने लगे है। इस बार के रक्षाबंधन पर खास है कि देश में धारा ३७० को लेकर जारी देशप्रेम की भावना को लेकर तिरंगा की राखियां भी बाजार में आ गई है। इस त्यौहार को लेकर जहां लोगों में उत्साह देखा जा रहा है वहीं व्यापारी भी पर्व से आस लगाए बैठे है। रक्षाबंधन के पर्व को लेकर मंगलवार को साप्ताहिक अवकाश होने के बाद भी बाजारों में खासी भीड़ रही। बहनें जहां अपने भाईयों के लिए मनचाही राखियां पसंद करती दिखाई दी। वहीं भाई भी बहनों को उनका मनचाहा उपहार तलाशते रहे। इसके साथ ही इस पर्व को लेकर कपड़ों की दुकानों पर भी ग्राहकों की खासी भीड़ देखी गई।
राखियों की दुकानों पर रही भीड़:बच्चों के लिए डोरेमोन, छोटा भीम जैसे कई फेमस कार्टून, कैरेक्टर वाली राखियोंं के साथ ज्वेलरी पैटर्न वाली राखियां आकर्षण का केंद्र बनी हुई है। राखी विक्रेताओं का कहना है कि ज्वैलरी पैटर्न वाली राखियोंं में ऐसे मटेरियल का उपयोग किया गया। जो ज्वैलरी के लिए ही किया जाता है। ये राखियां 15 रुपए से 200 सौ रुपए तक उपलब्ध है। राखी विक्रेताओं ने बताया कि लुंबा राखी ननद अपनी भाभी को बंधती है। फाइबर के कामन में ऊन के धागे लपेटे हुए राखियां आती है। इन राखियों में कलर कागज पर छोटे-छोटे आकार के डोरेमोन, छोटा भीम बन रहे है। बच्चों के लिए बॉच डिजाइन वाली, लाइट और इलेक्ट्रॉनिक राखी भी मौजूद है। इनकी कीमत 30 से 60 रुपए तक रखी गई है। इन राखियों को राजस्थान, कलकत्ता, दिल्ली, मुंबई सहित अन्य जगहों से लाया गया है। इसके साथ ही तिरंगा की राखियां भी लोगों के बीच आकर्षण का केन्द्र बनी हुई है। बाजार में राखी खरीदने गई शिवानी खेबरिया, विभा का कहना था कि वह अपने भाईयों की कलाई पर स्वदेशी रेशम ही बांधेगी। बाजार में रेशम, चंदन, बूंटी, जरी, स्टोन, जर्किन कुंदन, सेंटेड, इलेक्ट्रोनिक राखियां, मेरे प्यारे भईया, पाट वाली राखी सहित सोने और चंादी की राखी के साथ तुलसी की राखिया बहनों को लुभा रही है।
इन दुकानों पर भी रही भीड:इसके साथ ही खिलौनों, मिठाईयों एवं कपड़ों की दुकानों पर भी लोगों की भीड़ देखी गई। लोग अपने घर में छोटे बच्चों के लिए खिलौने भी तलाशते दिखाई दिए। इसके साथ ही पर्व के लिए लोगों ने कपड़ों की खरीदारी भी की।
वहीं बाजार में लोगों ने अभी से यह तलाशना शुरू कर दिया है कि इस वर्ष मिठाईयों में स्पेशल क्या बन रहा है। कपडा व्यापारी राहुल नायक का कहना था कि रक्षाबंधन के लिए विशेष रूप के सभी रेंज की साडिय़ां मंगाई गई है ताकि बजट के साथ भाई अपनी बहन को उपहार दे सके।सड़कों पर आई दुकानें:रक्षा बंधन के पर्व को लेकर एक बार फिर से दुकानें सड़कों तक आ गई है। ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए व्यापारियों ने दुकानों के बाहर सामान लगा लिया। ताकि लोग दूर से देखकर उनकी दुकानों पर पहुंच सके। वहीं मिठाई विक्रेताओं ने भी अपने काउंटर बाहर कर लिए है। सड़कों तक आई दुकानों के कारण बाजार में संकीर्णता
बढ़ गई है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned