Mp Election 2018 : टीकमगढ़ में मुद्दे हो सकते हैं दरकिनार, उम्मीदवारों पर रहेगी नजर

Mp Election 2018 : टीकमगढ़ में मुद्दे हो सकते हैं दरकिनार, उम्मीदवारों पर रहेगी नजर

anil rawat | Publish: Sep, 05 2018 12:54:47 PM (IST) | Updated: Sep, 05 2018 12:54:48 PM (IST) Tikamgarh, Madhya Pradesh, India

जिले की विधानसभा सीटों पर पार्टियों से जुड़े तमाम वरिष्ठ एवं युवा नेताओं टिकट पाने की कवायद शुरू कर दी गई है। ज्यादा दावेदारी भाजपा में दिखाई दे रही है।

टीकमगढ़. जिले की विधानसभा सीटों पर पार्टियों से जुड़े तमाम वरिष्ठ एवं युवा नेताओं द्वारा टिकट पाने की कवायद शुरू कर दी गई है। सबसे ज्यादा दावेदारी भाजपा में दिखाई दे रही है। कांग्रेस के टिकट से भी विधानसभा पहुंचने की लालसा रखने वालों की संख्या भी कुछ कम नहीं। टिकट पाने के लिए पार्टी के आलाकमान से लेकर अपनी विजय सुनिश्चित करने के लिए इन नेताओं ने जनता के बीच जाना शुरू कर दिया है।

 

पिछले चुनाव में वोट
केके श्रीवास्तव : 57968
यादवेंद्र सिंह : 41079
अंतर : 16889

चुनौती/मुद्दे
1- बेरोजगारी
2- मेडिकल कॉलेज
3- निवाड़ी जिला बनाने का प्रस्ताव
4- उद्योग, धंधे नहीं
5- कॉलेजों में टीचिंग फैकल्टी की कमी

 

टीकमगढ़ से भाजपा दावेदार
केके श्रीवास्तव- पिछला चुनाव रिकॉर्ड मतों से जीता। एक हजार करोड़ से सड़कें बनवाईं। बान सुजारा से 272 करोड़ की समूह नल-जल योजना स्वीकृत कराई।
राकेश गिरि- पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष, पत्नी वर्तमान में नगर पालिका अध्यक्ष। बहन कामनी जनपद अध्यक्ष
राजेन्द्र तिवारी- पार्टी में सक्रियता। क्षेत्र में मजबूत पकड़। बेटा राहुल तिवारी युवा मोर्चा जिलाध्यक्ष।
अमित नुना- आरएसएस से तृतीय वर्ष शिक्षित। जिला कार्यवाह पद पर रहे।
ये भी कतार में- विहिप जिलाध्यक्ष राजकुमार पाठक पप्पू, अनिल बड़कुल, बृजकिशोर तिवारी एवं विवेक चतुर्वेदी।

टीकमगढ़ से कांग्रेस दावेदार
यादवेन्द्र सिंह बुंदेला- दिग्विजय सिंह के शासनकाल में आबकारी मंत्री रहे। 2008 में उमा भारती को हराने से कद बढ़ा
अखण्ड प्रताप सिंह यादव- दो बार के कैबिनेट मंत्री। 1977, 1993 एवं 2003 में विधायक चुने गए।
इनका भी नाम- कांग्रेस के पूर्व प्रदेश सचिव विकास यादव, मंडी अध्यक्ष सूर्यप्रकाश मिश्रा दद्दी, पूर्व जिलाध्यक्ष रविन्द्र अध्वर्यु एवं वरिष्ठ कांग्रेसी प्रफुल्ल पस्तौर।


टीकमगढ़ में भाजपा अपनी लीड कायम रखेगी। सामान्य वर्ग की अकेले भाजपा से नाराजगी नहीं है। भाजपा ने हर वर्ग के लिए योजनाएं चलाई हैं। भाजपा समाज के हर वर्ग को साथ लेकर चलती है।
- अभय प्रताप सिंह यादव, जिलाध्यक्ष भाजपा

 

पार्टी ने पारंपरिक वोट को जोडऩे के साथ ही युवाओं को जोडऩे के लिए भी काम किया है। कांग्रेस पार्टी संविधान के साथ है। हम चाहते है समाज का विघटन न हो। कांग्रेस हमेशा ही समाज के हर वर्गको साथ लेकर चली है।
- महेश यादव, जिलाध्यक्ष कांग्रेस।

 

Ad Block is Banned