मंडी में गेहूं की नहीं हो सकी नीलामी, व्यापारी पर माल बदलने का आरोप

जतारा तहसीलदार एवं अधिकारियों ने व्यापारियों को गेहूं दिखाया तो कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी सपना सेन भड़क गई।

By: vivek gupta

Published: 04 Apr 2019, 01:25 AM IST

टीकमगढ..जतारा स्थानीय कृषि उपज मंडी समिति में प्रशासन के द्वारा बीते 2 साल पहले जब्त किए गए सरकारी गेहूं की बोली बुधवार को नहीं लगाई जा सकी।विदित हो कि बोली को लेकर न्यायालय के आदेश पर जतारा एसडीएम आरएस बाकना के द्वारा प्रशासनिक अधिकारियों की टीम का गठन किया गया था। इसमें जतारा तहसीलदार एसडी प्रजापति, कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी सपना सेन, राजस्व निरीक्षक, मंडी सचिव एवं अधिकारियों को शामिल किया गया था।


प्रशासनिक अधिकारियों के द्वारा जब्त किए गए सरकारी गेहूं की मंडी में नीलामी की जाने की तैयारियां पूरी कर ली गई थी। व्यापारी विनोद कुमार जैन के द्वारा गेंहू को कृषि मंडी समिति परिषद में ट्रक व तीन पिकअप वाहन से मंडी परिषद में 6 77 बोरी गेहूं पहुंच गया था,लेकिन मामला बिगड़ गया। जैसे ही जतारा तहसीलदार एवं अधिकारियों ने व्यापारियों को गेहूं दिखाया तो कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी सपना सेन भड़क गई।

उन्होंने बोली प्रक्रिया को कार्रवाई के पहले ही रोक दिया। शाम पांच बजे तक मंडी में माल पहुंचता गया।इस बीच मामला और संदेह के घेरे में आ गया।

अधिकारियों ने देखा तो जो माल जब्त किया गया था, वह नहीं था। उक्त गेहूं की बोरी पर नरसिंहपुर गाडरवारा लिखा हुआ था। इस बात की पुष्टि सरकारी वेयरहाउस के प्रभारी ने भी की।

इसी बीच इस मामले की जानकारी तहसीलदार एसडी प्रजापति ने जतारा एसडीएम को दी। उन्होंने इस मामले से अवगत कराने के लिए कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी सपना सेन को एसडीएम के पास भेजा।
गेहूं बदलने का संदेह और गहरा गया।इस गेहं की बोरी पर उत्तर प्रदेश के आगरा और छत्तीसगढ मध्यप्रदेश के टीकमगढ जिले की कई सरकारी समिति की सील लगी पाए जाने के कारण गेहूं की नीलामी नहीं की गई। इस पर व्यापारियों को बिना बोली लगाए ही घर लौटना पड़ा।

कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी सपना सेन ने बताया कि जब्त किए गेहूं नहीं होने के कारण संशय की स्थिति बन गई।व्यापारी के द्वारा अमानत में खयानत की गई है। ऐसी स्थिति में उक्त गेहूं को जब्त कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि इस बात की पड़ताल की जा रही है कि आखिर गेहूं कहां गया और गेहूं कहां से लाया गया। इस संबंध में वरिष्ठ अधिकारियों को भी जानकारी दी गई है।

vivek gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned