अस्पताल में मरीजों को मिल रही गर्म हवा और गर्म पानी

कोरोना वायरस का भय और गर्मी से उल्टी जस्त के साथ बुखार के मरीजों की संख्या बढऩे लगी है।

By: akhilesh lodhi

Published: 27 May 2020, 06:00 AM IST

टीकमगढ़.कोरोना वायरस का भय और गर्मी से उल्टी जस्त के साथ बुखार के मरीजों की संख्या बढऩे लगी है। लेकिन अस्पतालों के वार्डो में लगे कूलर चालू तो हो गए है, लेकिन गर्म हवा दे रहे है। गर्मी की तपन से दोपहरी में मरीजों और उनके परिजनों को बाहर आना पड़ता है। वहीं बाटर कूलर भी गर्म पानी निकाल रहे है। जिसके कारण मरीजों के प्यास बुझ नहीं पा रही है।
जिले में शनिवार का अधिकतम तापमान ४४ डिग्री और न्यूनतम तापमान २९ रहा। सुबह से दोपहर तक शहर के साथ ग्रामीण क्षेत्रों से आए मरीजों द्वारा डॉक्टरों से उपचार कराया। डॉक्टरों की टीम द्वारा इस महामारी में प्रत्येक मरीज का प्राथमिकता से उपचार किया जा रहा था। दोपहर होते ही मरीज और उनके परिजन वार्डो में कम बरामदें में बैठने के लिए आ रहे थे। वहां बाहर से आने वाली ठंडी हवा के कारण राहत मिल रही थी। वार्डो के कूलर चालू हो हो गए है। लेकिन पानी नहीं होने के कारण गर्म हवा निक ाल रहे है। जिसके कारण भर्ती मरीजों को मई की तेज गर्मी का सामना करना पड़ रहा है
बाटर कूलर भी निकाल रहे गर्म पानी
अस्पताल के अंदर और बाहर लगे बाटर कूलर गर्म पानी निकाल रहे है। जहां ऐसी गर्मी में लोगों को ठंडा पानी नहीं मिल रहा है। कंठ की ठंडे पानी से प्यास बुझाने के लिए मरीजों को अंदर और बाहर जाना पड़ रहा है।
बंद पड़े थे कू लर, नहीं था उनमें पानी
गर्मी के कारण सर्जिकल वार्ड में मरीजों की हालत खराब थी। पंखे गर्म हवा को दे रहे थे। गर्मी के कारण मरीज वार्ड से बाहर और अंदर चल रहे थे। सर्जिकल वार्डो के कुछ कूलर बंद और उनकी टंकी खाली पड़ी हुई थी। जिसके कारण सभी वार्ड गर्म पड़े हुए थे। जिसके कारण मरीजों सहित उनके परिजनों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था।


पेयजल भी गम, नहीं मिल रहा ठंडा पानी
मरीज के परिजन जितेंद्र अहिरवार, संतोष यादव और कुंवर बाई रैकवार ने बताया कि हम लोग करीब दो दिनों से अस्पताल में उपचार करा रहे है। वार्ड में सुबह 10 बजे से रात 8 बजे तक गर्म हवा पंखे देते है। इसके साथ ही पेयजल के लिए वाटर कूलर नाममात्र के लिए लगे हुए है। इसके साथ ही पानी की टंकी गर्म पानी निकाल रही है। अस्पताल में ठंडा पानी नहीं मिलने के कारण मरीजों को दुकान से खरीदकर पिलाना पड़ रहा है।
इनका कहना
कूलरों को तो चालू कराया गया है। अगर कोई भी कूलर खराब हो गया है तो उसका सुधार किया जाएगा। इसके साथ ही बाटर कूलरों को भी चैक करवाया जाएगा। जिससे मरीजों के साथ अस्पताल के लोगों को ठंडा पानी मिल सके।
डॉ. अमित चौधरी सिविल सर्जन जिला अस्पताल टीकमगढ़।

akhilesh lodhi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned