खेत तालाब के नाम पर खानापूर्ति, ग्रामीणों ने लगाया भ्रष्टाचार का आरोप

ग्राम पंचायत सुजारा में भ्रष्टाचार चरम पर है। शिकायतों के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं हो रही है।

By: akhilesh lodhi

Published: 05 Sep 2020, 06:00 AM IST

टीकमगढ़/बल्देवगढ़.ग्राम पंचायत सुजारा में भ्रष्टाचार चरम पर है। शिकायतों के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। ग्राम पंचायत सुजारा में जिम्मेदार अधिकारियों की सांठगांठ से जमकर अनियमितता की जा रही है। ग्रामीणों की मानें तो गांव में सरकार द्वारा संचालित योजनाओं में भ्रष्टाचार किया जा रहा है। पंचायत में किए गए सभी कार्यों में भारी अनियमितता बरती जा रही है। सुजारा निवासी महेंद्र लोधी, रामस्वरूप लोधी, दामोदर लोधी, मनु लोधी, धनीराम लोधी ने बताया कि जनपद के अधिकारियों व सुजारा सरपंच विमलेश अहिरवार और रोजगार सहायक राकेश अहिरवार की मिलीभगत से शासन को लाखों रुपए का चूना लगाया जा रहा है।
इन दिनों गांव में रोजगार गारंटी से स्वीकृत खेत तालाब का निर्माण शांति रजक के नाम स्वीकृत हुआ है। खेत तालाब का निर्माण करवाया जा रहा है लेकिन हद तो यह हो गई कि जिस भूमि पर निर्माण कार्य किया जा रहा है वह भूमि सुजारा हल्का में नहीं आती है। यह भूमि बल्देवगढ़ जनपद के ग्राम पंचायत लमेरा हरपुरा हल्का में है। थोड़ी मिट्टी डालकर तालाब का रूप दे दिया गया। अधिकारियों ने भी कमीशन के चक्कर में उसका मूल्यांकन कर दिया। ग्रामीणों ने इस मामले की जांच करा कर दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई की मांग की है।


पहले भी सुजारा ग्राम पंचायत में किए गए घोटाले
रोजगार गारंटी योजना के तहत 2019 में ग्राम पंचायत सुजारा देव बाबा पहाड़ी पर मुक्तिधाम बनाया जाना था। इस पर सरपंच विमलेश अहिरवार व रोजगार सहायक राकेश अहिरवार ने मिलकर लाखों रुपए के फर्जी मस्टर रोल डालकर राशि निकाल ली। मौके पर कोई काम नहीं हुआ। इस मामले की शिकायत उच्च अधिकारियों से की गई लेकिन किसी के कान पर जूं तक नहीं रेंगी।
गुणवत्ताहीन सीसी रोड का निर्माण
ग्वाल बाबा के पास एवं देशराज लोधी के घर से रामदयाल अहिरवार के घर तक पंच परमेश्वर योजना के तहत 4 लाख 43 हजार की लागत से एवं रामदीन के घर से भगवान के घर तक गुणवत्ताहीन सीसी रोड का निर्माण कराया गया। इसी का नतीजा है कि पांच महीने में ही सीसी रोड की पोल खुल गई।
इनका कहना है
अगर सुजारा ग्राम पंचायत में शासकीय राशि का दुरुपयोग किया जा रहा है तो यह गलत है। सभी कार्यों की जांच करवा कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
चंद्रसेन सिंह, जनपद सीईओ, टीकमगढ़।
लेमरा ग्राम पंचायत से किसी भी खेत तालाब के लिए सुजारा ग्राम पंचायत को स्वीकृति नहीं दी गई। सुजारा टीकमगढ़ जनपद में आता है और लमेरा बल्देवगढ़ जनपद में है। इसलिए अगर सुजारा के सरपंच द्वारा लमेरा हल्का में खेत तालाब निर्माण करवाया जा रहा है तो यह गलत है। वरिष्ठ अधिकारियों इस मामले से अवगत कराया जाएगा।
सोनू चढ़ार, सचिव, ग्राम पंचायत लमेरा

akhilesh lodhi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned