एसडीएम पर लगाए पक्षकारों को अपमानित करने के आरोप

अधिवक्ताओं ने जनहित को देखते हुए एसडीएम को यहां से हटाने की मांग की है

By: anil rawat

Published: 07 Mar 2020, 11:44 AM IST

टीकमगढ/बल्देवगढ़. एसडीएम की कार्यप्रणाली से असुंष्ट अधिवक्ताओं ने उन पर पक्षकारों को अपमानित करने एवं तानाशाही करने के आरोप लगाए है। अधिवक्ताओं ने उनकी शिकायत कलेक्टर से की है। अधिवक्ताओं ने जनहित को देखते हुए एसडीएम को यहां से हटाने की मांग की है।


शुक्रवार को अधिवक्ताओं ने एसडीएम प्रमोद सिंह गुर्जर के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। अधिवक्ता बृजबिहारी यादव ने बताया कि एसडीएम द्वारा पक्षकारों के साथ ही वकीलों के साथ अभद्रता कर अपमानित किया जाता है। अधिवक्ताओं का आरोप है कि यह कई प्रकरणों में सुनवाई के दौरान उनके निराकरण में मनमानी करते है। इसका विरोध करने पर अधिवक्ताओं के पंजीयन निरस्त करने एवं एफआइआर दर्ज कराने की धमकी देते है। वकीलों ने एसडीएम पर सुनवाई के लिए पर्याप्त समय न दिए जाने एवं साक्ष्य उपस्थित न करने देने की भी शिकायत की है।

 

बदली जा रही तारीख: अधिवक्ताओं ने बताया कि यहां पर चलने वाले प्रकरणों की ऑन लाइन कुछ तारीख दी जाती है, जबकि एसडीएम उन तारीखों से अलग तारीखों पर प्रकरणों की सुनवाई कर लेते है। वहीं वकीलों को प्रकरण देखने एवं अध्ययन करने के लिए भी नहीं दिए जाते है।

 

वकीलों का कहना था कि इस प्रकार के आचरण से वकीलों के साथ ही पक्षकारों को भी परेशानियां हो रही है। ज्ञापन देने वालों में गोविन्द्र सिंह सिसौदिया, चंद्रभान, महेश, रामकिशन नायक, हरिराम राय सहित बड़ी संख्या में अधिवक्ता उपस्थित रहे।


कहते है अधिकारी: अधिवक्ताओं द्वारा जो भी आरोप लगा जा रहे है वह निराधार है। आरोप लगाने के लिए लोग स्वतंत्र है। यदि किसी के साथ दुव्र्यवहार किया गया हो, तो यहां के स्टॉफ से पता किया जा सकता है।-प्रमोद गुर्जर, एसडीएम, बल्देवगढ़।

Show More
anil rawat Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned