किसान बोले अधिकारी दफ्तरों से निकलकर खेतों में आएं तो पता लगे हकीकत

जिले में बुधवार की सुबह और दोपहर में हुई बारिश से किसानों के चेहरे पर चिंता की लकीरेंं दिखाई देने लगी है।

टीकमगढ़.जिले में बुधवार की सुबह और दोपहर में हुई बारिश से किसानों के चेहरे पर चिंता की लकीरेंं दिखाई देने लगी है। हालांकि 15 से 20 मिनिट बाद आसमान साफ हो गया है। फसलों में हुए नुकसान का सर्र्वे कराने की गुहार किसानों ने प्रशासन से की है।
लगातार बारिश से औसम बारिश का आंकड़ा पार हो चुका है। अधिक बारिश होने के कारण खरीफ की फसल पर विपरीत असर दिखाई देने लगा था। स्थिति यह थी कि मूंग और उड़द की फ ल्लियां खेत में ही टूटकर गिरने लगी थी। लगातार बारिश के बाद दो दिन पहले ही सूर्य देव की दर्शन किसानों को हुए। जहां धूप निकलने से किसानों ने राहत की सांस ली थी। लेकिन बुधवार की सुबह और दोपहर की बारिश से किसानों के चेहरे पर चिंता की लकीरें दिखाई देने लगी है। किसानों का कहना है कि कृषि विभाग के अधिकारियों ने किसानों से दूरियां बनाए हुए है। जिसके कारण किसान चिंता बढ़ती जा रही है। खरीफ फसल के बचाव के लिए न तो कृषि विभाग के वरिष्ठ अधिकारी सामने आ रहे है और न ही क्षेत्रीय कर्मचारी। कृषि विभाग से फसलों को सर्वे कराने की बात की जाती है तो वह 10 से 15 फीसदी नुकसान न कहने की बात कर रहे है। किसानों का कहना है कि कृषि विभाग के अधिकारी दफ्तरों से निकलकर खेतों में आएं तो पता लगे हकीकत क्या है।


25 से 30 फ ीसदी फ सल हुई खराब
किसान बोले अधिकारी दफ्तरों से निकलकर खेतों में आएं तो पता लगे हकीकत कृषि विभाग के अधिकारी भले ही नुकसान को अभी शुरुआती ही बता रहे हो। किसान मोहनगढ़ क्षेत्र के किसानरतिराम केवट, धीराम केवट,धनुवा केवट, सुखराम कवेट, हरचरण लिटौरिया, ओमत प्रकाश लिटौरिया,बसनेरा निवासी सूकस केवट, इमरत लोधी ने बताया कि अधिकारियों को वास्तविकता पता ही नहीं है। सैकड़ों एकड की उड़द और मूंग पानी में सड़ गई है। अब यह फसलें कटाई के लिए भी नहीं बची है।
किसानों ने की सर्वे की मांग
हनुमानसागर, मानिकपुरा, महाराजपुरा, बौरी, नयाखेरा, मऊघाट सहित अन्य गांव के किसान दामोदर लोधी, कन्हैयालाल कुशवाहा, जुगल अहिरवार, संतोष पाल, भूपेंद्र यादव, संतोष यादव ने बताया कि लगातार बारिश से उड़द,मूंग और मिली की फसल खराब हो गई है। खेतों में पानी भरे रहने के कारण उड़द और मूंग की फल्लियों से अंकुर निकल आए है। जिसके कारण फसल खराब हो गई है। किसानों ने इस फसल में भारी नुकसान की बात की है। किसानों ने प्रशासन से खरीफ की फसलों का सर्वे कराने की मांग प्रशासन से की है। मामले को लेकर कृषि उपसंचालक एसके श्रीवास्तव ने बात करनी चाही लेकिन उनके द्वारा फोन रिसीव नहीं किया गया है।

akhilesh lodhi
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned