अंतिम दिन श्रद्धालुओं ने यज्ञ वेदी में दी आहुतियां

गायत्री महायज्ञ का समापन

जतारा. नगर के छोटी देवी मानस मंच मैदान में शुक्रवार को आयोजित 24 कुण्डीय गायत्री महायज्ञ के अंतिम दिवस सैकड़ों लोगों ने वैदिक मंत्रोच्चार के साथ हवन कुंड में आहुतियां दी। इसके साथ ही क्षेत्र के सैकड़ों लोगों ने कार्यक्रम में भाग लिया।
गुरुवार की शाम 6 बजे से 9 बजे तक दीप महायज्ञ का आयोजन किया गया। जिसमें 1100 दीपों को जलाकर अंधकार से प्रकाश की ओर मानव में देवत्व का उदय और धरती पर स्वर्ग का अवतरण लाने का संदेश टोली द्वारा दिया गया। दीप महायज्ञ में शांतिकुंज से पधारे टोली नायक नरेंद्र विद्यार्थी ने वेद मंत्रों का उच्चारण किया। गायत्री मंत्र, महामृत्युंजय मंत्र, तुष्टीकरण, लोक आराधन, पर्यावरण संरक्षण, अनिष्ट निवारण एवं राष्ट्र की चौमुखी विकास के लिए भगवान को आहुतियां समर्पित की गई। अपने उद्बोधन में उन्होंने गंगा गीता, गायत्री का ज्ञान दिया। जिसमें राष्ट्र में गंगा और गायत्री को बचाने की बात कही अंतिम दिवस में यज्ञ प्रारंभ के साथ विभिन्न संस्कार नामकरण विद्यारंभ, दीक्षा संस्कार, निशुल्क करवाए गए हैं। इस अवसर पर नगर पंचायत अध्यक्ष कमला साहू , जिला समन्वयक केपी शर्मा, शंकर सिंह राठौर, कृष्ण कुमार कौशिक,अशोक श्रीवास्तव राजेंद्र सिंह, अजय शर्मा, केशव दास शर्मा, अमृतलाल मिश्रा, विनीत गुप्ता, प्रबंध ट्रस्टी सुरेश दुबे, उर्मिला तिवारी, मालती दुबे, विमला शर्मा, अंजू अग्रवाल, रामू तिवारी, प्रशांत खरे, छोटू तिवारी, लक्ष्मी नारायण साहू, खन्ना नगायच, हरिनारायण खरे, संजीव नामदेव, जालम प्रजापति, हरिदास रैकवार, डा.दयानंद समेले, मदन समेले, सारिका सिरोठिया, हरिओम चढ़ार, शैलेन्द्र, अंकित, महेश मौजूद रहे।

नितिन सदाफल
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned