महेन्द्र सागर तालाब की पाल व ढोंगा में भी लगेगी सब्जी की अस्थाई दुकानें

कोरोना (कोविड 19) वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए जिला प्रशासन सोशल डिस्टेंस के उद्देश्य से शहर में नित प्रयोग कर रहा है।

By: akhilesh lodhi

Published: 07 Apr 2020, 06:00 AM IST

टीकमगढ़. कोरोना (कोविड 19) वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए जिला प्रशासन सोशल डिस्टेंस के उद्देश्य से शहर में नित प्रयोग कर रहा है। विदित हो कि सम्पूर्ण लॉकडाउन में शहर में एक दिन छोड़ कर एक दिन शहरवासियों को सुबह सात बजे से ९ बजे तक दूध, सब्जी सहित अन्य जीवनपयोगी सामग्री की खरीदारी के लिए छूट दी जा रही है। शहर के राजमहल व ताल दरवाजे में सुबह लगने वाली दुकानों को सोशल डिस्टेंस के उद्देश्य को पूरा करने के लिए बंद कर दिया गया है। राजमहल में दुकान लगाने वाले सब्जी विक्रेताओं को ढोंगा मैदान के पास (पूरब दिशा में) और ताल दरवाजे स्थित लगने वाली सब्जी विक्रेताओं को महेन्द्र सागर तालाब पर दुकान लगाने के निर्देश दिए गए हैं। नगर पालिका के एमएस सिद्दिकी ने बताया कि महेन्द्र सागर तालाब व ढोंगा मैदान के पास १५-१५ फीट की दूरी पर दुकानदारों के लिए जगह बना दी गई है। इसी तरह सभी अस्थाई दुकानों के बाहर निश्चित दूरी पर सफेद गोले बनवा दिए गए हैं।
यह होगा फायदा
शहर के महेन्द्र सागर तालाब व ढोंगा के पास सब्जी की अस्थाई दुकान लगाए जाने से शहर में अनावश्यक भीड़ कम होगी। शहर के बाहरी क्षेत्रों से आने-वाले लोगों को महेन्द्र सागर तालाब या फिर ढोंगा में सब्जी मिल जाएगी। लाकडाउन के दौरान नजरबाग, चकरा तिगेला सहित अन्य अस्थाई दुकानें यथावत रहेंगी। सब्जी विक्रेताओं को भी अनावश्यक शहर के बीचोंबीच जाने की परेशानी से निजात मिलेगा।


खेत-खलिहानों में भी कफ्र्यू का असर
टीकमगढ़.
कोरोना (कोविड 19) वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए देशभर में जारी लॉकडाउन का असर अब खेत-खलिहानों पर भी पडऩे लगा है। शासकीय आदेशों के मद्देनजर किसान व खेतिहर मजदूरों में संशय की स्थिति बनी हुई है। हालांकि वे इक्का-दुक्का किसान खेतों में लगी गेहूं की फसल की कटाई कर थ्रेसिंग भी कर रहे हैं। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में किसान धड़ल्ले से अपने खेती कार्य निपटा रहे हैं, लेकिन शहरी क्षेत्रों के आसपास की स्थिति वैसी नहीं है। शहरी क्षेत्र के आसपास दौड़-भाग में लगी पुलिस गाड़ी को देखकर किसान सहम जाते हैं। नाम नहीं छापने की शर्त पर एक किसान ने बताया कि शासन यदि किसानों के लिए कोई स्पष्ट निर्देश जारी कर दे तो हम किसानों का संशय दूर हो जाएगा और समय पर फसल भी घर पहुंच जाएगा। दूसरी ओर लॉकडाउन के कारण कृषि उपज मंडी बंद होने से किसानों की चिंता बढऩे लगी है।

akhilesh lodhi Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned