अन्नदाताओं पर जुल्म और सरकारी कार्यालयों में रहम

बिजली कम्पनी द्वारा सरकारी कार्यालयों से बिलों की ११ करोड़ की राशि वसूलने के लिए कई प्रकार की योजनाओं को चलाना पड़ रहा है।

By: akhilesh lodhi

Published: 17 Jun 2020, 12:00 AM IST

टीकमगढ़.बिजली कम्पनी द्वारा सरकारी कार्यालयों से बिलों की ११ करोड़ की राशि वसूलने के लिए कई प्रकार की योजनाओं को चलाना पड़ रहा है। इसके बाद भी कोई विभाग बिल राशि जमा नहीं कर रहा है। जबकि कम्पनी द्वारा कई बार पत्र भी भेज दिए गए है। वहीं कम्पनी अन्नदाताओं के साथ उद्योगपतियों से रुपए वसूलने में आगे है।
जिले के सरकारी विभागों द्वारा बिजली बिलों को जमा नहीं कराया जा रहा है। बिजली जमा नहीं होने के कारण सरकारी कार्यालयों की बकाया राशि ११ करोड़ ४९ लाख ३3 हजार से अधिक है। इसके साथ ही किसानों के विद्युत पम्पों की बकाया राशि ६७ करोड़ रूपए है। बिलों की वसूली के लिए विभाग के स्टाफ की कमी है। जिसके कारण बिजली बिलों की राशि में ४५ प्रतिशत बढोत्तरी हुई है। समय पर बिजली बिलों की राशि जमा नहीं होने के कारण शनिवार को किसानों सहित सरकारी कार्यालयों में कुल बकाया राशि 1 अरब की राशि बांकी है। जिसकी वसूली के लिए विभाग द्वारा मंथन किया जा रहा है। इसके साथ ही वसूली का कार्य भी युद्ध स्तर पर कार्य किया जा रहा है।


यह विभाग नहीं करते बिजली बिल जमा करोड़ों रुपए बकाया
दूसरों को शिक्षा देने वाला शिक्षा विभाग को १ करोड़ ५३ लाख ६५ हजार रुपए ,न्याय देने वाला पुलिस विभाग १ करोड़ २० लाख रुपए, ग्राम पंचायतों में विकास कराने वाला विभाग ग्राम पंचायत ४ करोड़ ४८ लाख रुपए,नगरपालिका और नगर परिषद १ करोड़ २६ लाख, पीएचई ५४ लाख १३ हजार रुपए, स्वास्थ्य विभाग ६५ लाख ८१ हजार रुपए, पीडब्ल्यूडी विभाग १२ लाख ९९ हजार रुपए, वन विभाग ८ लाख ६७ हजार रुपए के साथ अन्य विभागों में ११ करोड़ ४९ लाख रुपए बकाया है।
कोरोना के कारण 4५ प्रतिशत बढ़ी बकाया राशि
कोरोना वायरस बढऩे के कारण किसानों से बिजली बिलों की वसूली नहीं हो पाई है। जिसके कारण जिले में 4५ प्रतिशत बिलों की राशि की बढोत्तरी हो गई। जिसके कारण विभाग में वसूली नहीं होने से कर्मचारियों की कमी बताई जा रही है। विभाग के अधिकारियों का कहना है वूसली के लिए टीम बनाई गई है।
स्टाफ की कमी से नहीं हो पा रही वसूली
बिजली विभाग में बढ़ते उपभोक्ता और घटते कर्मचारियों के कारण वसूली नहीं हो पा रही है। जिसके कारण जिले के उपभोक्ताओं पर विद्युत कम्पनी का करोड़ों रूपए बकाया पड़ा हुआ है। वसूली नहीं होने से विभाग की चिंता दिनों दिन बढ़ती जा रही है।
फैक्ट फाइल
सरकारी कार्यालयों का बिजली बिलों का कुल बकाया-११ करोड ४९ लाख
शिक्षा विभाग का कुल बिजली बिल बकाया- १ करोड़ ५३ लाख ६५ हजार रुपए
पुलिस विभाग का कुल बिजली बिल बकाया-१ करोड़ २० लाख रुपए
ग्राम पंचायत का कुल बिजली बिल बकाया- 2४ करोड़ ४८ लाख रुपए
स्वास्थ्य विभाग का कुल बिजली बिल बकाया- ६५ लाख ८१ हजार रुपए
पीडब्ल्यडी विभाग का कुल बिजली बिल बकाया- १२ लाख ९९ हजार रुपए
वन विभाग का कुल बिजली बिल बकाया- ८ लाख ६७ हजार रुपए
कहते है अधिकारी
जिले के सरकारी कार्यालयों पर बिजली बिलों की राशि करोड़ों रुपए बकाया है। बिजली बिलों की राशि जमा करने के लिए पत्र भेजे गए है। इसके साथ ही वसूली के लिए टीम बनाई गई है। वसूली का कार्य लगातार किया जा रहा है।
एमके सोनी एसई बिजली कम्पनी टीकमगढ़।

akhilesh lodhi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned