प्री-मानसून में ही व्यवस्था फेल, बार-बार गुल हो रही बिजली

anil rawat

Publish: Jun, 14 2018 12:41:00 PM (IST)

Tikamgarh, Madhya Pradesh, India
प्री-मानसून में ही व्यवस्था फेल, बार-बार गुल हो रही बिजली

ग्रामीण क्षेत्रों में हर घर में बिजली देने के लिए अलट ज्योति योजना लागू की गई।

अखिलेश लोधी.टीकमगढ़.ग्रामीण क्षेत्रों में हर घर में बिजली देने के लिए अलट ज्योति योजना लागू की गई। जिसके प्रचार प्रसार में लाखों रूपए खर्च किए गए। इसके बाद सौभाग्य ज्योति योजना का शुभारंभ किया गया। जिसमें बिजली कम्पनी के अधिकारियों और कर्मचारियों द्वारा ३० हजार ३८० परिवारों के घरों में बिजली पहुंचाने का बादा किया गया। जिसमें १८ हजार के करीब परिवारों के घरों में बिजली को दिया गया है। लेकिन अभी भी जिले में कई गांव ऐसे है जिनमें वर्षो से बिजली की पहुंच से दूर है। ग्रामीणों द्वारा कई बार क्षेत्रीय कार्यालय से लेकर बरिष्ट कार्यालय तक शिकायतें दर्ज करा चुके है। वहीं प्री मानसून के पहले विभाग द्वारा बिजली विभाग का मेनटीनेंस का कार्य किया गया। इसके बाद भी हालत जस के तस बने हुए है।
मोहनगढ़ क्षेत्र के रामलाल कुशवाहा, काशीराम कुशवाहा, परमोला कुशवाहा ने बताया कि सांसद ग्राम गौर का खिरक गोपालपुरा और दरगांयकलां का खिरक ढ़ुलाई में वर्षो से बिजली नहीं पहुंची है। सांसद द्वारा सांसद ग्राम गौर में कई बार समस्याओं के निराकरण के लिए जनचौपाल का आयोजन किया गया। लेकिन जन चौपाल में लोगों की समस्याओं का निराकरण नहीं किया गया। इसके साथ ही ग्रामीणों ने कहा वर्षो से गांव की बिजली बंद है। इसके बाद भी हजारों रूपए की लागत से बिजली बिल आ रहे है। वहीं दरगांयकलां की हरीजनवस्ती निवासी रमेश वंशकार, दयाराम वंशकार,लखन अहिरवार का कहना था कि मोहल्लाा से करीब एक किमी दूर से गांव के लोग तारों के सहारे बिजली को ल रहे है। जहां कभी बड़ा हादसा हो सकता है। हरीजन मोहल्ला में बिजली के पोल लगाने की मांग क्षेत्रीय अधिकारियों से की गई है।

मानसून के प्री टेस्ट में ही व्यवस्था फेल, बार-बार गुल हो रही बिजली
श्हर सहित जिले भर में भले ही बिजली कम्पनी ने मानसून पूर्व मेनटीनेंस कार्य कराया हो। लेकिन प्री मानसून में ही मेनटीनेंस की पोल खुल रही है। स्थिति यह है कि जरा सी बारिश या हवा चलने के बाद बत्ती गुल हो रही जाती है। शहर में शाम, रात और सुबह बिजली बगैर समय के गुल हो रही है। जहां लोग खासे परेशान नजर आए है। खास बात यह है कि ऐसी स्थिति में केवल शहर में ही नहीं बल्कि जिले भर के गांवों और कस्बों में भी है। बावजूद इसके बिजली कंपनी के अफसर गंभीर दिखाई नहीं दे रहे है।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned