Breaking News दीवार गिरने से छात्र दबा, तोड़ा दम, देखते रहे लोग, हाथ ठेले से ले गए शव

मानवीय संवेदनाए शून्य

By: anil rawat

Published: 24 Jul 2018, 11:45 AM IST

टीकमगढ़. आज हमारा समाज भले ही विकसित और अत्याधुनिक होता जा रहा हो, लेकिन हमारी मानवीय संवेदनाए शून्य होती जा रही है। वहीं विकास का दंभ भरने वाली सरकार आज भी आधारभूत सुविधाएं उपलब्ध कराने में कहां है, इसका जीता-जागता और मानवता को शर्मसार करने वाला उदाहरण देखने को मिला जतारा कस्बे में। यहां पर घर से ट्यूशन पढऩे के लिए निकले एक छात्र के ऊपर दीवाल गिर जाने पर वह वहां एक घंटे तक घायल अवस्था में पड़ा रहा लेकिन किसी ने उसे उठा कर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भेजने की जहमत नही उठाई और यह युवक तड़प-तड़प कर यही मर गया।

जतारा निवासी करने वाला कक्षा 11वीं का 17 वर्षीय छात्र अमित पुत्र अशोक जैन सुबह से ट्यूशन के लिए अपने घर से निकला था। सुबह 7.30 बजे के लगभग जब यह मदरसे के पास से गुजर रहा था, उसी समय मदरसे की छत एवं दीवाल धसक कर सीधे अमित के ऊपर जा गिरी। इस घटना में अमित गंभीर रूप से घायल हो गया। दीवाल गिरने की आवाज सुनकर आसपास के अनेक लोग बाहर निकल आए और अमित को गंभीर अवस्था में देखकर एम्बूलेंस को फोन लगाया। लेकिन फोन लगाने के एक घंटे बाद भी एम्बूलेंस मौके पर नही पहुंची।तड़तपा रहा अमित, देखते रहे लोग: लगभग एक घंटे तक गंभीर रूप से घायल अमित यहां पर पड़ा रहा और लोग एम्बूलेंस आने का इंतजार करते रहे। इस बीच किसी ने डायल 100 को भी फोन किया लेकिन किसी ने यह जहमत नही की चलो इस युवक को उठा कर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र ले जाया जाए, ताकि इसकी जान बचाई जा सके। लोग एम्बूलेंस और डायल 100 का इंतजार करते रहे और इधर तड़पकर अमित के प्राण-पखेरू उड़ गए। जब तक डायल 100 वाहन मौके पर पहुंचा अमित की सांसे रूक चुकी थी।

हाथ ठेले पर ले गए शव: मानवता को शर्मसार करने का क्रम यही पर नही रूका। घटना स्थल पर ही मृत हुए अमित के शव को पीएम के लिए जाने के लिए फिर से शव वाहन नही मिला और उसके शव को हाथ ठेले पर रखकर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भेजा गया। विदित हो कि लगभग एक पखवाड़ा पूर्व शव वाहन न मिलने के कारण एक युवक अपनी मां के शव को मोटर साईकिल से बांध कर जिला अस्पताल लाया था। इसके बाद भी न तो प्रशासन की मानवीय संवेदनाए जाग रही है और न ही लोगों की। अमित की मौत ने एक बार फि से समाज की खोखली हो चुकी बुनियाद को हिला दिया है।
कहते है अधिकारी: पुलिस के पास 8 बजे के लगभग सूचना मिली थी। इसके बाद डायल 100 वाहन मौके पर भेजा गया था, लेकिन अमित की मौत हो चुकी थी। नगर पालिका में शव वाहन न होने के कारण उसका शव हाथ ठेले पर लाया गया। पुलिस ने मर्ग कायम कर पोस्ट मार्टम कराकर शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया है।- विवेक कुमार, थाना प्रभारी, जतारा।

anil rawat Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned