दिन में बंद रात में चालू रहती ग्रामीण क्षेत्रों में २४ घंटे सप्लाई होने वाली बिजली

विद्युत कम्पनी की मनमानी इन दिनों ग्रामीण क्षेत्रों में अधिकतर मिल रही है। सुबह १०.३० से ४ बजे तक विद्युत सप्लाई लगभग सभी सबस्टेशनों की बंद रहती है।

By: akhilesh lodhi

Published: 28 Mar 2020, 06:00 AM IST

टीकमगढ़.विद्युत कम्पनी की मनमानी इन दिनों ग्रामीण क्षेत्रों में अधिकतर मिल रही है। सुबह १०.३० से ४ बजे तक विद्युत सप्लाई लगभग सभी सबस्टेशनों की बंद रहती है। अगर मामले में शिकायत की जाती है तो लाइन रखरखाव का बहाना ले लेते है। वहीं मार्च आते ही वसूली निम्न नियमों को बताकर कर रहे है। जिसको लेकर ग्रामीणों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।
जिले के ११ विद्युत वितरण केंद्रों में से बौरी, मांची, मवई, धजरई, बुडेरा के साथ गुदनवारा में सबसे अधिक कटौती की परेशानी लोगों को मिल रही है। बौरी में सबस्टेशन पर तो करीब एक माह से रखरखाव का बहाना बनाकर दिन भर के लिए बिजली लाइन को बंद किया जाता है। सब स्टेशन पर बैठे कर्मचारियों को न तो एसई, डीई और जेई को बिजली लाइन बंद करने की कोई अनुमति भी नहीं लेनी पड़ती है। मामले को लेकर ग्रामीणों ने डीई के साथ जेई को भी कई बार शिकायत दर्ज कराई है। इसके साथ ही जेई की मनमानी पर सैट्रल कॉल सेंटर पर भी शिकायत दर्ज की थी। इसके बाद भी बिजली सप्लाई जस की तस बनी हुई है।
न सूचना और न ही नोटिस, कर रहे कटौती
बौरी सबस्टेशन के साथ मवई, बुडेरा, गुजनवारा के साथ अन्य सबस्टेशन कर्मचारियों द्वारा जब मन चाहे तब बिजली सप्लाई को बंद किया जा रहा है। बिजली बंद करने की उपभोक्ताओं को न तो कोई बजह बताई जा रही है और न ही नोटिस के साथ सूचना। उनके द्वारा दिन भर के लिए बिजली सप्लाई बंद कर दी जाती है।
वसूली में अजमा रहे कई प्रकार नियम
२४ घंटेे बिजली सप्लाई का दावा करने वाले कम्पनी के कर्मचारी आज ग्रामीण क्षेत्र में १० घंटों से कम ही दे रहे है। इसके साथ ही वसूली में क म्पनी के अलावा कई प्रकार के नियम अपना रहे है। जिससे ग्रामीणों में भय का बातावरण को छाया हुआ है। इसके साथ ही गलत रीडिंग और गलत राशि का सुधार भी नहीं करवा पा रहे है। जहां ग्रामीण के उपभोक्तओं द्वारा लाइन मेन के साथ जेई और वरिष्ठ अधिकारियों को शिकायत भी दर्ज करवा चुके है। इसके बाद भी कार्रवाई नहीं की जा रही है।


११ वितरण केंद्रों में से ८ के बुरे हालात
ग्रामीणों को बिजली देने का सरकार के साथ अधिकारी और कर्मचारी भले ही दावा कर रहे हो। लेकिन बिजली के मामले में गांव की स्थिति उसके उलट है। ११ विद्युत वितरण केंद्रों में से ८ वितरण केंद्रों में बिजली सप्लाई की स्थिति बद से बदत्तर बनी हुई है। जहां सुधार के भी कोई इंतजाम नहीं किए जा रहे है।
इनका कहना
ग्रामीण क्षेत्रों में २४ घंटे बिजली नहीं पहुंच रही तो वितरण कें द्रों पर जाकर निरीक्षण कराया जाएगा। अगर लाइन मेन, जेई के साथ अन्य जिम्मेदारों द्वारा बिजली के मामले में लापरवाही की जा रही है, जांचकर कार्रवाई की जाएगी।
एमके सोनी एसई विद्युत कम्पनी टीकमगढ़।

akhilesh lodhi Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned