नहीं चेता प्रशासन तो करेंगे नमस्ते ओरछा का विरोध

अतिक्रमण हटाने के विरोध में सामूहिक बैठक

By: Sanket Shrivastava

Published: 06 Jan 2020, 10:24 AM IST

ओरछा. धार्मिक और पर्यटन नगरी में प्रशासन द्वारा अतिक्रमण हटाने की मुहिम को लेकर रविवार को फूलबाग प्रांगण में सार्वजनिक बैठक आयोजित की गई। बैठक में लोगों ने प्रशासन द्वारा मनजर्मी से अतिक्रमण हटाने का विरोध किया। महेश केवट ने कहा कि ओरछा नगर में प्रशासन अतिक्रमण शब्द के नाम पर जो लोगों का शोषण करने की योजना बना रहा है । उस योजना में हम कभी उन्हें कामयाब नहीं होने देंगे । उन्होंने कहा कि अगर सड़क चौड़ीकरण करना है तो बायपास मार्ग इसके लिए बिल्कुल सही है । नगर के मुख्य मार्ग से लोगों क े घरों को नष्ट करके सड़क चौड़ी करना विकास नहीं विनाश है । पूर्व नगर परिषद अध्यक्ष प्रमोद तिवारी ने कहा कि नमस्ते ओरछा के नाम पर अगर किसी प्रकार का शोषण किया जाता है तो हम नमस्ते ओरछा का विरोध करते हैं और अगर अब भी प्रशासन नहीं मानता है तो हम आगे भी आंदोलन करेंगे ,जरूरत पड़ी तो अनितिकालीन हड़ताल भी करेंगे । उन्होंने कहा कि अगर नगर परिषद द्वारा बनाई गयी नाली तक अतिक्रमण हटाते हैं तो उससे किसी को कोई परेशानी नहीं है । लेकिन अगर इससे आगे बढ़ेंगे तो हम अहिंसात्मक तरीके से विरोध करेंगे। अखिल भारतीय युवा यादव महासभा के बृजेन्द्र यादव ने कहा कि वर्ष 2012 में हटाये गये अतिक्रमण से जनमानस अभी तक नहीं उभर पाया है। नगर के रोहित यादव ने कहा कि प्रदेश सरकार टूरिस्ट को बढावा देने के लिए नमस्ते ओरछा जैसे कार्यक्रमों को कर रही है ,लेकिन जिला प्रशासन से पूछना चाहता हूं कि नमस्ते ओरछा की आड़ में नगर के मकानों को गिराकर ओरछा का सौंदर्यकरण होगा या पुरानी धरोहरें नष्ट हो जाएगीं। पूर्व में भी अतिक्रमण हटाए जाने से टूरिस्ट का ओरछा आना बहुत कम हुआ है। बैठक में सभी नगरवासियों ने यह मांग रखी कि ओरछा के विकास योजना की कॉपी सभी लोगों को प्रशासन नक्शे सहित दे । बैठक में बालकृष्ण दुबे ,पूर्व नगर परिषद अध्यक्ष प्रमोद तिवारी,समाजसेवी डॉ संजीव शर्मा, एडवोकेट संतोष तिवारी, ओमप्रकाश जैन ,अधिवक्ता जगदीश तिवारी, नीरज कडा, संजय कड़ा, अजीत ठाकुर, पप्पू सेन, ,शिवशंकर बोहरे, राजू केवट सहित सैकडों नगरवासी मौजूद रहे।

Sanket Shrivastava
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned