हैंडपंप सुधार की खुली पोल, पानी की जगह हवा उगल रहे हैंडपंप

Akhilesh Lodhi

Publish: Jun, 17 2019 08:00:00 AM (IST)

Tikamgarh, Tikamgarh, Madhya Pradesh, India

टीकमगढ़.जिले में जलसंकट गहरा गया है। हैंडपंपों ने जवाब देना भी शुरू कर दिया है। पेयजल की पूर्ति के लिए लोगों को घंटो लाइन में लगने के साथ कुओं का मटमैला पानी पीने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। हैंडपंपों में पाइप लाइन बढ़ाने और चैनों को डलवाने की शिकायत क्षेत्रीय पीएचई विभाग सहित जनसुनवाई में की गई। लेकिन मामले को लेकर कोई कार्रवाई नहीं की गई है।
गर्मी शुरू होते ही पीएचई विभाग ने हैंडपंप सुधार अभियान चलाया था। ज्यो-ज्यो जलसंकट गहराता जा रहा है। त्यो-त्यो हैंडपंपों सुधार की पोल खुलती जा रही है। चाहे वह वैसा उगड़ गांव के हैंडपंपों की हो याह फिर देवीनगर के साथ दर्शनों गांवों में सुधारे गए हैंडपंपों की हो। विभाग में बैठे बरिष्ठ अधिकारियों द्वारा सोशल मीडिया के द्वारा ही हैंडपंपों की सही और गलत रिपोर्ट तैयारकर ओके रिपोर्ट पेश की जा रही है। जहां विभाग के दस्तावेजों में पूर्ण और जमीनी स्तर पर खस्ताहाल पड़े हुए है। जिनकी शिकायतों के बाद भी कोई सुनवाई नहीं की जा रही है।
मटमैला पानी को मजबूर ग्रामीण
जनपद पंचायत गौरा और कुडीला पंचायत में हैंडपंप और नलजल योजनाओं के हालात बद से बदततर हो गए है। नलजल योजनाए गांव के नाम से संचालित की जा रही है। इनकी स्थिति जमीनी स्तर पर देखी जाए तो हालात कुछ उलट दिखेंगे। आधें गांवो तो पाइप लाइन बिछाई गई है। वहीं बांकी गांवों में लाइन बिछाने का आश्वासन दिय गया है। इसके साथ हैंडपंप खराब हो गए है। जिसके कारण गौरा और कुडीला गांव के लोगों को मटमैला पानी के लिए मजबूर होना पड़ रहा है।
खाली बर्तन लेकर किया प्रदर्शन
कुडीला गांव में नलजल योजना संचालित करने की मांग को लेकर खाली बर्तन लेकर प्रदर्शन किया गया। ग्रामीण पंकज पाठक, मोहन लोधी, बटन बंशकार, राकेश अहिरवार, बृजेश लोधी, नुर मोहम्मद खान, छत्रपाल सिंह, लछमन लोधी, असफ ाक खान ने बताया कि ग्राम की नल जल योजना पूरी तरह से बंद पड़ी है। ग्राम के बीचों बीच सघन बस्ती में एक भी हैंडपम्प नहीं है। ग्राम वासियों को पानी के लिए प्रतिदिन गांव से दूर जाना पड़ता है। पानी की समस्या की सूचना ग्रामवासियों ने ग्राम पंचायत से लेकर सांसद दे चुके है। लेकिन मामले को लेकर कोई कार्रवाई नहीं की गई है।


करोड़ों खर्च के बाद भी नहीं हुई चालू नललाइन
कुडीला के लोगों ने बताया कि नललाइन को बिछाने के लिए करोड़ों रुपए खर्च किए गए है। पूरी लाइन कई जगहों से लीकेज हो रही है। उसके सुधार और पूरे गांवों में पाइप लाइन बिछाने की मांग की गई। मामले को लेकर कुडीला सरपंच प्रतिनिधि लल्लू राजा ने बताया कि नल जल योजना लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के तहत आती है। जिसकी सूचना विभाग को दी जा चुकी है।
इनका कहना
जहां-जहां हैंडपंप खराब है, वहां के हैंडपंपों को चिन्हित किया जाएगा। इसके साथ ही लापरवाह कर्मचारियों पर कार्रवाई की जाएगी।
जितेंद्र मिश्रा ईई पीएचई विभाग टीकमगढ़।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned