scriptHigher education department wrote a letter to PUI | भवन तक जाने के लिए नहीं मिल रहा रास्ता, विधि कॉलेज में कहां से जाएगें छात्र और छात्राएं | Patrika News

भवन तक जाने के लिए नहीं मिल रहा रास्ता, विधि कॉलेज में कहां से जाएगें छात्र और छात्राएं

बडोरा घाट और तखा गांव के बीच में विधि महाविद्यालय का निर्माण ६ करोड ५० लाख की से किया गया है। लेकिन वहां तक पहुंचने के लिए रास्ता नहीं है। जहां से सुरक्षा है वहां पर पटैती की जमीन है और जहां सुरक्षा नहीं है वहां का रास्ता सुरक्षा विहीन है।

टीकमगढ़

Published: March 21, 2022 08:26:21 pm

टीकमगढ़़. बडोरा घाट और तखा गांव के बीच में विधि महाविद्यालय का निर्माण ६ करोड ५० लाख की से किया गया है। लेकिन वहां तक पहुंचने के लिए रास्ता नहीं है। जहां से सुरक्षा है वहां पर पटैती की जमीन है और जहां सुरक्षा नहीं है वहां का रास्ता सुरक्षा विहीन है। इसके साथ ही भवन का निर्माण कार्य 9३ फीसदी पूर्ण हुआ है। जिसमें काल्पनिक न्यायालय और बिजली की फिटिंग कार्य पूर्ण नहीं किया गया है। जिसके कारण छात्रों को तीन कक्षों में ही पढ़ाई करनी पड़ रही है। मामले को लेकर विधि कॉलेज प्राचार्य द्वारा रास्ते की मांग के लिए कलेक्टर को पत्र लिखा है।
विधि कॉलेज के अधिकारियों और कर्मचारियों का कहना था कि संभाग में पहला विधि कॉलेज टीकमगढ़ के बडोरा और तखा गांव के बीच में करोड़ों की लागत से निर्माण किया जा रहा है। उसका निर्माण 9३ फीसदी पूर्ण कर लिया गया है। लेकिन बाउंण्ड्रीबाल, बिजली फिटिंग, पानी की सुविधाएं, साफ-सफाई और मूट कोर्ट काल्पनिक न्यायालय नहीं बनाया गया है। जिसके कारण भवन को हैंडओवर नहीं कर पा रहे है। मामले को लेकर कलेक्टर को पत्र लिखा था। जिनके द्वरा उच्च शिक्षा विभाग से पत्र के माध्यम से चर्चा की गई। उन्होंने अव्यवस्थाओं को पूर्ण करने के लिए पीयूआई को निर्देश दिए है। लेकिन मामले को लेकर जिम्मेदारों द्वारा उन्हें पूर्ण नहीं कराया जा रहा है।
नहीं मिल पा रहा रास्ता
विधि प्राचार्य डॉ. पुष्पेंद्र सिंह का कहना था कि विधि कॉलेज को अच्छे स्थान पर निर्माण किया है। लेकिन वहां तक जाने के लिए सुरक्षित रास्ता नहीं है। तखा गांव में से रास्ता बनाया जा सकता है। लेकिन वहां पर असामाजिक तत्वों का माहौल बना रहता है। जहां से छात्र-छात्राओं का कॉलेज जाना खतरे से कम नहीं है। वहां पर आदिवासी वस्ती की वसाहट बनी है। जहां से कॉलेज आना और जाना सुरक्षा विहीन है। अगर वहीं रास्ता केंद्रीय विद्यालय के पीछे बना दियाा जाए तो छात्रों को कोई परेशानियांं नहीं होती। छात्र-छात्राएं वहां से पैदल और अकेले निर्डर होकर कॉलेज में पढ़ाई करने के लिए आ सकती है।
भवन के लिए आरक्षित की गई जमीन भी नहीं है पूरी
विधि कॉलेज के लिए जमीन को आरक्षित किया गया था। जिसमें भवन निर्माण तो किया जा रहा है। लेकिन बाउंण्ड्रीबाल नहीं बनाई गई है। इसके साथ ही आसपास के किसान विधि कॉलेज की जमीन पर कब्जा किए गए है। उसका सीमांकन भी किया जाना है। जिससे छात्रों की सुरक्षा के लिए बाउंण्ड्रीबाल निर्माण कर सके। कॉलेज की जमीन में से तखा गांव के लोग मिट्टी मुरम खोद रहे है। जिन्हें रोकना मुश्किल है। हालांकि उसके निर्माण के लिए ३० लाख रुपए आवंटित किए गए है।
 Higher education department wrote a letter to PUI
Higher education department wrote a letter to PUI
9३ फीसदी काम अधूरा
उनका कहना था कि लॉ कॉलेज का निर्माण करोड़ों की लागत में किया गया है। जिसमें छात्रों को प्रशिक्षण कराने के लिए न्यायालय के साथ अन्य सुविधाएं दी गई है। अभी हाल ही में बिजली फिटिंग, मूट कोर्ट ( काल्पनिक न्यायालय ) सर्विस रोड, ट्रांसफार्मर से तार और बिजली के खम्भें, चारों ओर बाउंड्रीबाल, साफ-सफाई के साथ अन्य कमियां अभी बांकी है। उन्हें पूर्ण करने के लिए लगातार कार्य किया जा रहा है।
तीन कक्षों में संचालित हों रहा विधि कॉलेज
कुुुण्डेश्वर रोड पर विधि कॉलेज संचालित किया जा रहा है। जिसके लिए सिर्फ तीन ही कक्ष है। जिसमें सैकड़ों की संख्या में छात्र-छात्राएं दर्ज है। वहां पर उन्हें ना तो शिक्षण कार्य के लिए प्रयोग शालाओं की व्यवस्थाएं है और दैनिक क्रियाओं की सुविधाएं है। जहां छात्रों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है।
इनका कहना
सर्विस रोड और भवन को पूर्ण करने के लिए प्रशासन को पत्र लिखा था। उन्हें पूर्ण करने के लिए पीयूआई विभाग को उच्च शिक्षा विभाग ने पत्र लिखा है। संभाग का पहला विधि कॉलेज संचालित किया जा रहा है। फीस कम और सुविधाएं अधिक होने के कारण छात्रों की संख्या अधिक है। जिसके कारण नवीन भवन जल्द पूर्ण करने के प्रयास किए जा रहे है।
डॉ. पुष्पेंद्र सिंह प्राचार्य विधि कॉलेज टीकमगढ़।
विधि कॉलेज की सड़क के लिए प्रस्ताव आया है। जिसमें कुछ राशि भी स्वीकृृत भी हुई है। जिसकी जानकारी पीयूआई विभाग को है। विधि कॉलेज और छात्र-छात्राओं के लिए अच्छी जगह से सड़क हो, जहां से सुविधा बनी रहे। उसके लिए प्रयास किए जा रहे है।
सुभाष कुमार द्विवेदी कलेक्टर टीकमगढ़।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

Gyanvapi Masjid-Shringar Gauri Case: सुप्रीम कोर्ट में 20 मई और वाराणसी सिविल कोर्ट में 23 मई को होगी सुनवाईदिल्ली हाई कोर्ट से AAP सरकार को झटका, डोर स्टेप राशन डिलीवरी योजना पर लगाई रोकसुप्रीम कोर्ट का फैसला: रोड रेज केस में Navjot Singh Sidhu को एक साल जेल की सजा, जानें कांग्रेस नेता ने क्या दी प्रतिक्रियाGST पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, जीएसटी काउंसिल की सिफारिश मानने के लिए बाध्य नहीं सरकारेंपंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ BJP में शामिल, दिल्ली में जेपी नड्डा ने दिलाई पार्टी की सदस्यतासुप्रीम कोर्ट द्वारा साइरस मिस्त्री की पुनर्विचार याचिका खारिज पर रतन टाटा ने क्या कहा?अलगाववादी नेता यासीन मलिक आतंकवाद से जुड़े मामले में दोषी करार, 25 मई को होगी अगली सुनवाईPalm Oil Export Ban : पाम आयल एक्सपोर्ट पर से बैन हटाने जा रहा इंडोनेशिया, अब भारत में खाद्य तेल सस्ते होने की उम्मीद
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.