अपहृत गद्दीदार को किया बरामद, चार आरोपी भी गिरफ्तार

अपहृत गद्दीदार को किया बरामद, चार आरोपी भी गिरफ्तार

Anil Kumar Rawat | Publish: Sep, 10 2018 02:27:56 PM (IST) Tikamgarh, Madhya Pradesh, India

पलेरा के कुबरी पढ़आ रेत खदान से शिवा कंपनी के गद्दीदार के अपहरण के 4 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

टीकमगढ़. पलेरा के कुबरी पढ़आ रेत खदान से शिवा कंपनी के गद्दीदार के अपहरण के 4 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। साथ ही गद्दीदार को भी बरामद कर लिया है। वहीं अपहरण में शामिल 2 आरोपी फरार हो गए है। आरोपियों द्वारा यह मामला फर्जी पिटपास को लेकर हुए विवाद का बताया जा रहा है।
शनिवार की शाम 6 बजे के लगभग पलेरा के कुबरी पढुआ रेत खदान के गद्दीदार धर्मेन्द्र सिंह 22 वर्ष अपना काम कर रहे थे। उसी समय एक वाहन क्रमांक यूपी 17 डी 000 यहां आकर रूकी और इसमें से 6 लोग नीचे आए। इन लोगों की धर्मेन्द्र सिंह ने कुछ देर बात हुई और बाद में विवाद होने लगा। विवाद होने पर इन लोगों ने धर्मेन्द्र का मोबाईल छीन लिया और उसे जबदरस्ती अपने वाहन में बैठा कर वहां से भाग निकले। इससे पहले कि कोई कुछ समझ पाता यह लोग फरार हो गए। इस घटना को देखकर खदान पर काम करने वाले मेघनंद पुत्र मनीराम यादव ने पलेरा पुलिस से इसकी शिकायत की।
घेराबंदी कर किया गिरफ्तार: इस अपरहण की सूचना मिलते ही जानकारी वरिष्ठ अधिकारियों को दी गई और इस वाहन की खोजबीन शुरू की गई। इससे पहले की पुलिस कुछ कर पाती है, यह वाहन पलेरा थाने की सीमा से आगे निकाल गया। वहीं सूचना पर छतरपुर जिले की नौगांव पुलिस ने इस वाहन को बापू कॉलेज के पास पकड़ लिया और इसकी सूचना पलेरा पुलिस को दी। मौके पर पहुंच कर पलेरा पुलिस ने अपरहण करने वाले आरोपी यतीन्द्र सिंह सचान निवासी कबरई महोबा, मान सिंह पटेल निवासी टीकामऊ महोबा, प्रीतम पटेल निवासी टीकामऊ मोहबा एवं पवन कुमार पाठक निवासी महोबकंठ महोबा को गिरफ्तार कर लिया।

वहीं अपहृत धर्मेन्द्र सिंह को भी इस वाहन से बरामद कर लिया। इस घटना में शामिल 2 अन्य आरोपी मौका देखकर भागने में सफल हो गए। आरोपियों को जहां नौगांव पुलिस के द्वारा गिरफ्तार करने की बात कहीं जा रही है, वहीं पलेरा पुलिस इस वाहन को ग्राम बेला तिगैला के पास से पकडऩे की बात कह रही है।
दिए थे फर्जी पिटपास: इस मामले में गिरफ्तार किए गए आरोपी यतीन्द्र सिंह सचान का कहना है कि वह भी रेत का काम करते है और शनिवार को इस घाट से उनके 6 वाहन लोड हुए थे। इसने से 2 वाहनों को जो पिटपास दिए गए थे, वह फर्जी थे। इसकी जानकारी उन्हें तब हुई जब उनके वाहनों को महोबा के खन्ना गांव के पास पुलिस ने पकड़ लिया और पिटपास की जांच की। पुलिस ने जब मोबाईल के मैसेज में आई ईटीपी को फर्जी बताया तो यह लोग खदान के गद्दीदार से इस मामले में बात करने के लिए आए। वह लोग गद्दीदार धर्मेन्द्र सिंह से पिटपास के विषय में बात कर रहे थे लेकिन वह कुछ नही मान रहा था। इस पर उन लोगों ने उसका मोबाईल छीन लिया, जिससे उसने पिटपास का मैसेज किया था और कहा कि वह उनके साथ चलकर पुलिस को बताए कि यह मैसेज उसके मोबाईल से किया गया था। लेकिन वह भागने लगा तो इन लोगों ने उसे पकड़ लिया और महोबा पुलिस के पास ले जा रह थे। इस बीच इन लोगों अपहरण की झूठी कहानी रच कर उनके खिलाफ मामला दर्ज कराया है।
कहते है अधिकारी: रेत खदान के कर्मचारी की रिपोर्ट पर आरोपियों के खिलाफ 365 का मामला दर्ज किया गया है। चार आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है, 2 की तलाश जारी है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।- आरए सोनकर, थाना प्रभारी, पलेरा।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned