BREAKING News- जो मोबाइल लूटा था, उसी से पकड़े गए थे आरोपी, अब मिली पांच साल की सजा

BREAKING News- जो मोबाइल लूटा था, उसी से पकड़े गए थे आरोपी, अब मिली पांच साल की सजा

Anil Kumar Rawat | Publish: Jun, 12 2019 03:58:23 PM (IST) Tikamgarh, Tikamgarh, Madhya Pradesh, India

दंपत्ति से की थी लूट, चार साल पहले का मामला

टीकमगढ़. लूट की घटना को अंजाम देने वाले 2 आरोपियों को न्यायालय ने 5 साल की सजा से दंडित किया है। इस मामले का एक आरोपी अब भी फरार बना हुआ है। आरोपियों ने एक दंपत्ति के साथ इस घटना को अंजाम दिया था। इस मामले में खास बात यह है कि आरोपियों द्वारा इस घटना में दंपत्ति का मोबाइल भी लूटा गया था और यही मोबाइल इन आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस का हथियार बना था।


मामले की जानकारी देते हुए अपर लोक अभियोजक रतन सिंह ठाकुर ने बताया कि लगभग 4 वर्ष पूर्व 17 जून 2015 को आरोपी बृजेश कुचबंदिया, अरविंद उर्फ सुरेन्द्र कुचबंदिया एवं मिथुन कुचबंदिया ने एक लूट की घटना को अंजाम दिया था। बड़ागांव थाना क्षेत्र के ग्राम डूंडा निवासी हरिराम लोधी अपनी पत्नी के साथ ग्वालियर से वापस आया था। यह दोनों पति-पत्नी ग्वालियर में मजदूरी कर अपने घर वापस आ रहे थे। नए बसस्टैंड पर उतरने के बाद जब यह दंपत्ति मुखर्जी चौराहे पर पहुंचे तो उक्त तीनों आरोपियों ने इन्हें घेर लिया और इनके साथ मारपीट की। यह तीनों आरोपी इन लोगों से 22160 रुपए के साथ ही इनका मोबाइल छीन कर ले गए थे।

 

पुलिस से की शिकायत: इसके बाद इन पीडि़त दंपत्ति ने इसकी शिकायत कोतवाली थाना पुलिस से की थी। मामले को गंभीरता से लेते हुए पुलिस ने अज्ञात आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर इनकी शिनाख्त शुरू कर दी थी। पुलिस ने जल्द ही इन आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया। इसके बाद न्यायालय ने हरिराम से इनकी शिनाख्ती कराई और वह इन आरोपियों को पहचान गया।
मोबाइल से पकड़े गए आरोपी: इस घटना का महात्वपूर्ण पहलू यह था कि पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार करने का हथियार, इनके द्वारा लूटे गए मोबाइल को बनाया। पुलिस की आइटी सेल ने लूटे गए मोबाइल के नंबर को सर्विलांस पर डालकर आरोपियों की लोकेशन ट्रेस की और इन्हें पकड़ लिया। इसके बाद पुलिस ने आरोपियों को न्यायालय में पेश किया था।

यह सुनाई सजा: मामले की सुनवाई के चतुर्थ अपर सत्र न्यायाधीश ने आरोपी बृजेश एवं अरविंद उर्फ सुरेन्द्र कुचबंदिया को धारा 394 में पांच-पांच वर्ष का कारावास एवं एक-एक हजार रूपए जुर्माने की सजा से दंडित किया है। जुर्माना अदा न करने पर आरोपियों को डेढ़-डेढ़ वर्ष का कारावास पृथक से भुगतना होगा। इसके साथ ही घटना में शामिल तीसरे आरोपी मिथुन कुचबंदिया के गिरफ्तार होने के बाद उसे पृथक से सजा सुनाई जाएगी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned