खरगापुर के गंज मोहल्ले में एक ही परिवार के पांच सदस्य फांसी के फंदे संदिग्ध परिस्थियों में लटके मिले

खरगापुर नगरपरिषद के गंज मोहल्ला वार्ड ८ में सोनी परिवार के पांच सदस्य संदिग्ध परिस्थितियों में फंदे पर लटके मिले।

By: akhilesh lodhi

Published: 24 Aug 2020, 05:00 AM IST

टीकमगढ/खरगापुर.खरगापुर नगरपरिषद के गंज मोहल्ला वार्ड ८ में सोनी परिवार के पांच सदस्य संदिग्ध परिस्थितियों में फंदे पर लटके मिले। फंदे पर लटके हुए सभी सदस्यों के पैर जमीन पर होने के बाद मामला आत्म हत्या और हत्या के बीच की चर्चा में उलझा हुआ है। मोहल्ले वालों ने घटना की सूचना थाना प्रभारी को दी। उसके बाद कलेक्टर सुभाष द्विवेदी, एसपी प्रशांत खरे और उसके बाद क्षेत्रीय विधायक राहुल सिंह मौके पर पहुंचे। शव को कब्जे में लेकर पोस्ट मार्टम के लिए भेज दिया है। मामला संदिग्ध होने से पुलिस जांच में जुटी है।
रविवार को गंज मोहल्ले वालों ने बताया कि रविवार की सुबह ८ बजे के करीब जब दूध देने वाला घर गया। उसने काफी देर तक दरवाजा खटखटाया। लेकिन दरवाजा नहीं खुला। इसके बाद उसने साइडमें खुले छत के जीना से अंदर पहुंचा। लेकिन वहां के दरवाजा पर अंदर से ताला लगा हुआ था। इसके बाद पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने आकर देखा तो दरवाजा को तोड़ा गया। जहां ९ फुट ऊंची छत पर पांच सदस्य फंदे पर लटक रहे थे। इस घटना को देख सभी लोगों के होश उड़ गए। अंदर जाकर देखा तो संदिग्ध परिस्थितियों में घर के अंदर धर्मदास सोनी ६२ वर्ष, पत्नि पूना सोनी ५५ वर्ष, पुत्र मनोहर सोनी २७ वर्ष, पुत्रवधु सोनम सोनी २५ वर्ष और पोता सानिध्य सोनी ४ वर्ष फंदे पर लटक रहे थे। लेकिन चार सदस्यों का शव एक कमरा में था और मनोहर सोनी का दूसरे कमरे में लटक रहा था। पुत्रवधु जमीन पर फंदे के सहारे लेटी थी। वहीं धर्मदास और उसकी पत्नी के पैर जमीन पर और पोता पलंग से झुका हुआ था। घटना को लेकर एफएसएल टीम पहुंची। टीम ने बारिकी से जांच की जा रही है। इसके बाद एसपी प्रशांत खरे और जनप्रतिनिधि पहुंचे। पुलिस ने मौके का पंचनामा बनाकर शवों को कब्जे में ले लिया। मर्ग कायम कर पोस्ट मार्टम के लिए भेज दिया है।
१० अगस्त को धर्मदास ने सवा करोड़ की बेची थी जमीन
खरगापुर नगर में चर्चाहै कि धर्मदास सोनी के दो भाई और थे। धर्मदास के नाम खरगापुर मौजे में ८ एकड़ जमीन रोड़ किनारे जमीन पड़ी हुई थी। जिसे १० अगस्त को धर्मदास ने १ करोड़ २५ लाख रुपए में बेची थी । उसके बाद भी सभी को हिस्से अनुसार बांट दिए गए। मामला संदिग्ध पड़ा हुआ है।
खरगापुर एफएसएल के साथ कलेक्टर, एसपी और डीआई जी पहुंचे
रविवार की सुबह ८ बजे जब घटना की सूचना खरगापुर पुलिस को दी। घटना को देख पुलिस के साथ नगर के लोगों के होश उड गए। पूरे मोहल्ले में मातम छा गया। घटना की सूचना मिलते ही सुबह ११.३० बजे कलेक्टर सुभाष द्विवेदी, सुबह ११.४५ बजे खरगापुर विधायक राहुल सिंह और १२ बजे एसपी प्रशांत खरे पहुंचे। इसके साथ ही ११ बजे बल्देवगढ़ एसडीएम संजय कुमार, खरगापुर तहसीलदार जन्मेजय मिश्रा, आरआई के साथ चार पटवारी और बल्देवगढ़ थाना प्रभारी बैजनाथ शर्मा, खरगापुर टीआई सुनील शर्मा और जतारा टीआरई हिमांशु चोबे पहुंचे। इसके साथ ही एफएसएल टीम पहुंची। वहां पर पहुंचकर शव का पंचनामा बनाकर शव को कब्जे लेकर जांच शुरू कर दी।

घटना स्थल पर पहुंचे डीआईजी
३ बजे पहुंचे डीआईजी विवेकराज सिंह खरगापुर थाना पहुंचे। उन्होंने घटना के बारे में थाना प्रभारी से जानकारी ली। उसके बाद घटना स्थल का निरीक्षण किया। जांच के निर्देश दिए है।
मनोहर और दो महिलाओं को मिली चौटे
जानकारी के अनुसार फंदे पर लटकी महिलाओं की कलाई की नसे कटी हुई दिखाईदी। इसके साथ ही धर्मदास के पैर और मनोहर के कान के पास चौटे थी। संदिग्ध परिस्थितियों में शवों का पोस्टमार्टम पैनल में किया गया है।
इनका कहना
खरगापुर नगर के सोनी परिवार के पांच सदस्यों ने फांसी लगाकर जान दे दी है। तत्काल उस क्षेत्र को सील करवा दिया था। उसके बाद वैज्ञानिक अधिकारी और एफएसएल टीम को जांच के लिए छोड़ दिया है। पंचायत नामा के साथ घरों की जांच की जाएगी। हाल ही में अभी फांसी दिखाई दे रही है। कारण का पता नहीं पड़ पा रहा है। जांच के बाद ही पता चलेगा ही आत्महत्या है या फिर हत्या।
प्रशांत खरे एसपी टीकमगढ़।

akhilesh lodhi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned