राष्ट्रीय राजमार्ग से कैसे होगा ओरछा को खतरा..जाने

नापजोख से हुई आशंका,विभाग को नही जानकारी

By: vivek gupta

Published: 29 Mar 2019, 01:00 AM IST

टीकमगढ़..शाहगढ़ से ओरछा तिगैला मार्ग के बनने वाले रोड के राष्ट्रीय राजमार्ग होने की खबर से ओरछा नगर में मुख्य मार्ग पर रहने वाले लोगों में हडकंप की स्थिति बन रही है। सभी दलों के लोगों और नगरवासियों ने पर्यटन नगरी से राष्ट्रीय राजमार्ग के निकलने की संभावनाओं को लेकर विरोध जताया है। हालाकि नगर से राष्ट्रीय राजमार्ग गुजरने को लेकर अभी आधिकारिक कोई अधिसूचना जारी नही की गई है। लेकिन कुछ दिन पहले ओरछा के मुख्य मार्ग पर नाप भी की गई और ५५ फुट को लेकर निशान भी लगाए गए थे । ओरछा नगर के मुख्य मार्ग पर राजशाही दौर से आबादी बस्ती रहती चली आ रही है। भगवान श्रीरामराजा के ओरछा आने से लेकर नगर में बसे परिवारो के लोग अपनी आजीवका चला रहे हैं।

गौर करने वाली बात यह है कि 17 सितम्बर 2012 को जिला प्रशासन ने नगर परिषद के सहयोग से मुख्य मार्ग पर चौडीकरण को लेकर तोड़ फोड़ की थी और अब फि र से इतने बड़े पैमाने पर तोडफ़ ोड़ को लेकर बस्ती वासी अपनी रोजी रोटी और बच्चों के भविष्य को लेकर चिंतित हैं। खास बात है कि यदि ओरछा से शाहगढ का राज्य का रोड़ एन एच में तब्दील किया जाता है तो ओरछा के साथ ही मुख्य मार्ग पर बसे पृथ्वीपुर,जेवरा,बम्हौरी बराना,दिगौडा, टीकमगढ़,पपौरा,समर्रा,बडागावं,घुवारा और शाहगढ़ नगरो को भी नुकसान हो सकता है।

 

नगर की जगह बायपास का सहारा
ओरछा नगर के लोगो का कहना था कि देश में कई जगह बायपास से राष्ट्रीय राजमार्ग निकाले गए हैं। जिसके कारण नगर की आबादी वाले क्षेत्र को सुरक्षित किया गया है। दूसरा मुख्य बिंदु यह हैं कि श्रीरामराजा मंदिर मुख्य सड़क से कुछ ही कदमो की दूरी पर है। जहां रोजाना के साथ ही प्रतिमाह आने वाले पुष्य नक्षत्र पर हजारो श्रद्धालु दर्शन करने आते हैं । जिनकी सुरक्षा को लेकर खतरा बढ़ जाएगा ।

साथ ही विश्वविख्यात श्रीराम मंदिर के पास से इतना बढा एनएच रोड नही निकल सकता । इसके साथ ही प्राचीन चतुर्भुज मंदिर भी मुख्य मार्ग से सटा हुआ है। यह मंदिर पुरातत्व विभाग का प्रमुख स्मारक है । इसके अलावा मुख्य मार्ग पर पुरातात्विक महत्व के दरवाजे जैसे गणेश दरवाजा और अन्य दरवाजे भी है । पर्यटन नगरी में मुख्य मार्ग को साइलेंट जोन बनाकर बस्ती को सुरक्षित किया जा सकता है । जैसा कई पर्यटक स्थलों पर किया गया है ।गाइड मोहित त्रिवेदी ने बताया कि कई विदेशी पर्यटकों से उनकी बात हुई है । जिन्होंने बस्ती के मुख्य मार्ग से राष्ट्रीय राजमार्ग निकालने पर अपनी नाराजगी जताई है।

इनका कहना है
नगरवासियों के हितों का पूरा ख्याल रखा जाएगा । प्रयास किया जाएगा कि एनएच रोड बाईपास मार्ग से होकर निकाला जाए।
बृजेन्द्र सिंह राठौर वाणिज्यकर मंत्री

ओरछा एक बहुत छोटा नगर है। देश में अधिकांश स्थानो पर एन एच रोड बाईपास से निकलते हैं। जहां बस्तियों को सुरक्षित रखा जाता है । शासन के अधिकारियों से अनुरोध किया जाएगा कि बाईपास से ही यह मार्ग निकाले। जनहित में आवश्यकता हुई तो आंदोलन भी किया जाएगा।
अखिलेश अयाची जिलाध्यक्ष भाजपा

जनहित में एन एच रोड को बाईपास या अढवारे नाले के पास से निकाल सकते हैं। इससे बस्ती वालों को कोई नुकसान नही होगा। नाले मार्ग का पूर्व में सर्वे भी किया जा चुका है।
बलराम सिंह यादव अध्यक्ष प्रतिनिधि नगर परिषद ओरछा

ओरछा में पहले जो मास्टर प्लान बनाया गया था। उसमें नगर के मुख्य मार्ग को साइलेंट जोन रखने की योजना बनी थी। बाईपास से मार्ग निकलने की योजना बनी थी। उसी को अमल में लाया जाना चाहिए।
डॉ.संजीव शर्मा समाजसेवी

मुख्य मार्ग से एन एच निकलने की बात व्यावहारिक रूप में संभव नही है। क्योंकि एन एच के पास श्रीरामराजा सरकार का मंदिर है । जहां देश विदेश से बडी संख्या में श्रद्धालु दर्शन करने आते हैं
प्रमोद मिश्रा जिला उपाध्यक्ष कांग्रेस सेवादल
फिलहाल ओरछा को लेकर कोई नोटिफिकेशन नही किया गया है। इस प्रस्ताव की जानकारी नही है।
अजय कुमार एनएच कार्यालय भोपाल

Show More
vivek gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned