आंगनबाड़ी केंद्रों में बिजली की व्यवस्था नहीं होने से गर्मी में फिर होगी परेशानी

पसीना-पसीना होंगे नौनिहाल

By: Sanket Shrivastava

Published: 29 Mar 2019, 10:11 AM IST

बल्देवगढ़. इस बार भी गर्मी में आंगनबाड़ी केन्द्र आने वाले बच्चों को गर्मी में पसीना बहाना होगा। शासन के आदेश के एक साल बाद भी विभाग आंगनबाड़ी केन्द्रों में पंखे नही लगवा सका है। शासन ने आंगनबाड़ी केन्द्रों को दीनदयाल ग्राम ज्योति योजना से जोडऩे की योजना बनाईथी। आलम यह है कि अब इस योजना से अधिकारी खुद को अनजान बता रहे है।
आंगनबाड़ी केन्द्र में आ रहे बच्चों को सुविधाएं मुहैया कराने के लिए शासन द्वारा आंगनबाड़ी केन्द्रों में विद्युत व्यवस्था की जानी थी। इसमें आंगनबाड़ी केन्द्रों को दीनदयाल ग्राम ज्योति योजना से जोड़ा जाना था। योजना के तहत हर आंगनबाड़ी केन्द्र में दो पंखे, लाईट लगाई जानी थी। लगभग एक वर्षपूर्व यह योजना प्रारंभ की गई थी। विभागीय सूत्रों की माने तो योजना का पूरा प्रस्ताव भी जिला मुख्यालय भेज दिया गया था। लेकिन लगभग एक साल हो जाने के बाद भी यह योजना धरातल पर नही उतर सकी है।
गर्मी में फिर पसीना-पसीना होंगे बच्चें: आंगनबाड़ी केन्द्रों में विद्युत व्यवस्था न होने से एक बार फिर से नौनिहालों को इस गर्मी में पसीना-पसीना होना पड़ेगा।
मार्च माह के अंत में ही गर्मी ने अपने तेवर दिखने शुरू कर दिए है और पारा 36 डिग्री पर पहुंच गया है। इसके बाद मई-जून में क्या हाल होगा समझा जा
सकता है।
लेकिन विभाग को इन नौनिहालों की कोई सुध नही है। विदित हो कि विकासखण्ड के अंतर्गत 374 आंगनबाड़ी केन्द्र संचालित है। इसमें लगभग 28 हजार बच्चें पंजीकृत है।
200 केन्द्रों का बना था प्रस्ताव
विभागीय सूत्रों की माने तो विकासखण्ड के 374 आंगनबाड़ी केन्द्रों में से 200 के लिए प्रस्ताव बनाया गया था। यह प्रस्ताव उन केन्द्रों के लिए बना था, जिनके पास विभाग के खुद के भवन है। यह प्रस्ताव बनाकर लगभग एक वर्ष पूर्व जिला मुख्यालय भेजा गया था। लेकिन इस पर अब तक कोई अमल नही हुआ है। इस संबंध में विभाग के नवागत अधिकारी खुद को अनभिज्ञ बता रहे है।
- मुझे इसकी जानकारी नहीं है। मैं पता करके ही बता
सकता हूं।
महेन्द्र सिंह दोहरे, परियोजना अधिकारी, बल्देवगढ़।

Sanket Shrivastava
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned