पानी की बढऩे लगी किल्लत, टैंकर के पास दिखी लॉकडाउन में भीड़

शहर में नलों के माध्यम आने वाला पेयजल बरीघाट प्लांट पर पर्याप्त मात्रा में भरा हुआ है।

By: akhilesh lodhi

Published: 18 Apr 2020, 07:00 AM IST

टीकमगढ़.शहर में नलों के माध्यम आने वाला पेयजल बरीघाट प्लांट पर पर्याप्त मात्रा में भरा हुआ है। इसके बाद भी कही प्रतिदिन नलों की सप्लाई की जा रही है तो कही चार दिनों में तो कही एक दिन छोड़ एक पेयजल सप्लाई छोड़ी जा रही है। वार्डो के लोगों के पास पेयजल का स्टॉक नहीं होने से वह लॉकडाउन में भी हैंडपंप और टैंकरों पर सोशल डिस्टेंस को तोड़ रहे है। यह नगर पालिका के पीएचई प्रभारी की लापरवाही के कारण हो रहा है।
ढोंगा निवासी बीडी यादव ने बताया कि ढोंगा की नूतन विहार कॉलोनी में चार दिनों में पेयजल की सप्लाई नलों के माध्यम से की जाती है। इसी वार्ड के खुशीपुरा में प्रतिदिन नलों का आना बना हुआ है। इसके साथ ही इससे आगे वाली कॉलोनी में दो दिन और तीन में नलों की सप्लाई की जाती है। पानी का स्टॉक खत्म होने के कारण दिन में हैंडपंपों क सहारा लेना पड़ता है। लेकिन कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन के पालन में बाहर निकलना नियम तोडऩा होता है। मामले को लेकर नगरपालिका पीएचई प्रभारी को मोबाइल पर सूचना देने की कोशिश की। लेकिन मोबाइल रिसीव ही नहीं किया गया।


टैंकर पर लगी लोंगों की भीड़
नपा द्वारा नलों से पनी सप्लाई में परहेज करने में पानी का स्टॉक खत्म हो गया है। जिसके कारण पार्षद और सीएमओ से की गई शिकायत पर लुकमान चौराहा और मोटे का मोहल्ला मे पानी टैंकर जैसे ही पहुंचा। वहां के निवासी उस पर टूट पड़े। सभी लोग पाइप, खली बर्तन को लेकर एकत्रित हो गए। वहां न तो कोरोना वायरस का संक्रमण दिखाई दिया और ना ही लॉकडाउन के साथ धारा १४४ के नियम दिखाई दिए। टैंकर पूरी तरह खाली होने के बाद लोग अलग-अलग हो गए।
इनका कहना
बरीघाट से जो-जो लीकेज थे। उन्हें टीम को लेकर सही कराया गया है। नगर के लोगों को पेयजल के लिए परेशान नहीं किया जाएगा। नियम अनुसार ही नलों को छोड़ा जाएगा।
हरिहर गर्धंव सीएमओ नगरपालिका टीकमगढ़।

akhilesh lodhi Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned