९५ फीसदी निजी और ६५ फीसदी शासकीय विद्यालयों ने जमा नहीं की खेल की राशि, ३० अगस्त तक होनी थी फीस जमा

.निवाड़ी और टीकमगढ़ जिले के शासकीय और अशासकीय हाईस्कूल और हायर सेकेंडरी स्कूलों में ८२ हजार के करीब छात्र-छात्राएं अध्ययनरत है।

By: akhilesh lodhi

Published: 06 Jan 2020, 07:00 AM IST

टीकमगढ़.निवाड़ी और टीकमगढ़ जिले के शासकीय और अशासकीय हाईस्कूल और हायर सेकेंडरी स्कूलों में ८२ हजार के करीब छात्र-छात्राएं अध्ययनरत है। जिनसे सभी स्कूलों ने खेल के नाम पर राशि तो वसूल ली है। लेकिन उस राशि को जिला शिक्षा कार्यालय के खाते में जमा नहीं की गई है। जिसके कारण खिलाडियों को खेल सामग्री के साथ खेलने का मौका नहीं मिल रहा है। जबकि यह राशि ३० अगस्त तक जमा कर देना चाहिए। जिसको लेकर शिक्षा विभाग की खेल शाखा ने हाईस्कूल और हायर सेकेंडरी स्कूल संचालकों को नोटिस जारी किया है।
जिले के २०७ शासकीय और अशासकीय हाईस्कूल और हायरसेकेड्ररी स्कूलों मेंं ७५ हजार ६०३ छात्र-छात्राओं ने प्रवेश लिया है। उनसे खेल के नाम पर प्राइवेट और शासकीय स्कूल प्रबंधनों कक्षा ९ से १० वीं तक के छात्र-छात्राओं से ६० रुपए और कक्षा ११वीं से १२वीं तक के छात्र-छात्राओं से १०० रुपए एक वर्ष की राशि को जमा करा दिया है। लेकिन प्रबंधनों द्वारा उस छात्रों की राशि को जिला शिक्षा कार्यालय के खाते में ४५ फीसदी जमा नहीं की है। लेकिन ६५ फीसदी शासकीय विद्यालय और ९५ फीसदी अशासकीय विद्यालयों ने छात्रों की राशि को जमा नहीं किया है। जिसके कारण उन छात्र-छात्राओंं को ब्लॉक, जिला, संभाग, प्रदेश और नेशनल में खेल खेलने का मौका नहीं मिल पा रहा है।
ऐसे करते है खेल की राशि को जाम
शासन स्तर पर छात्रों के लिए खेलकूंद में दर्जनों योजनाएं संचालित हो रही है। जिले में २०७ हाईस्कूल और हायरसेकेंड्ररी स्कूल में प्रवेश लेने वाले कक्षा ९ वीं,१०वीं के छात्रों से ६ रुपए महीना और कक्षा ११वीं,१२वीं छात्रों से १० रुपए महीना के हिसाब से खेल क्रीड़ा की शुल्क जमा करा ली जाती है। उस राशि को १५ प्रतिशत संयुक्त संचालक लोक शिक्षण संभाग सागर, ४० प्रतिशत स्कूल कार्यालय में जमा करके ४५ प्रतिशत जिलाशिक्षा अधिकारी के बैंक खाता में जमा करा लिया जाता है। खेल में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले छात्रों पर खर्चा की जाती है। जिसका लाभ छात्रों को नहीं मिल पा रहा है।
छात्र खेल में नहीं निखार पा रहे अपनी प्रतिभाएं
छात्रों की प्रतिभा में संकुल केंद्र और संस्था प्रमुख छात्रों के खेल प्रतियोतिगाओं में रोड़ा बन रहे है। स्कूल से लेकर संकुल स्तर पर खेल प्रतियोगिताएं जिम्मेदारों द्वारा छात्रों को सिखाई नहीं जा रही है। लेकिन छात्रों से खेल के नाम १० महीनों का कक्षा ९वीं,१० वीं और ११वीं,१२वीं के छात्रों से राशि को जमा करा लिया गया है। लेकिन जिम्मेदारों द्वारा छात्रों के लिए कोई कार्य नहीं किए जा रहे है।


जेडी ने डीईओ को दिया पत्र
जिले के शासकीय और प्राईवेट स्कूल द्वारा खेल के नाम पर फीस तो वसूली गई। लेकिन उनके द्वारा विभाग में राशि को जमा नहीं की गई। राशि जमा नहीं होने के कारण संयुक्त संचालक लोक शिक्षण संभाग सागर ने डीईओ को पत्र जारी किया है। जिसको लेकर डीईओ ने प्राइवेट और शासकीय स्कूलों को नोटिस जारी किए गए है। जिसमें नगर के शासकीय उत्कृष्ट उच्चतर माध्यमिक विद्यालय क्रमांक-1, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय क्रमांक-२, शासकीय उच्चतर कन्या माध्यमिक विद्यालय नजरवाग, शासकीय उच्चतर सीनियर बेसीक विद्यालय, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मवई, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय अस्तौन, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बड़ागांव धसान, शासकीय हाईस्कूल रानीपुरा, शासकीय हाईस्कूल महाराजपुरा, शासकीय हाईस्कूल दरगुवां, शासकीय हाईस्कूल ऊमरी, शासकीय हाईस्कूल नयागांव, शासकीय हाईस्कूल डिकौली, शासकीय हाईस्कूल अनंतपुरा, शासकीय हाईस्कूल राधापुर, शासकीय हाईस्कूल लारखुर्द के साथ प्राईवेट स्कूल सरोज कॉन्वेंट, ऐंजेल ऑवोर्ड, टीकमगढ़ पब्लिक स्कूल, केशवबाल संस्कार स्कूल, क्रियटिव कान्ॅवेंट स्कूल, यूनिक अकादमिक स्कूल, डेफोडल स्कूल के साथ अन्य स्कूलों ने क्रीड़ा खेल की राशि जमा नहीं की। जिसके कारण उन सभी स्कूलों को नोटिस जारी किए गए है।
ये खिलाएं जाते खेल
जिलास्तरीय, संभाग स्तरीय, राज्यस्तरीय खेलकूं द प्रतियोगिताओं में छात्रों को शासन द्वारा इन खेलों को खिलाना अनिवार्य रखा गया है। जिसमें बॉक्सिंग, तलवारबाजी, फुटवाल, टेबिल टेनिस, कूडो, बेसबाल, किक बाक्सिंग, हॉकी, खो खो, बाल बेडमिंटन, जूडो, शतरंज, बालीबाल, सॉफ्टबाल, हैण्डबॉल, बॉलीवाल, कराटे, सॉफ्टबाल सहित कई खेलों को खिलाया जाता है।
फै क्ट फाइल
हाईस्कूल और हायरसेकेंड्ररी के छात्रों से ली गई खेल के नाम पर कुल फीस - ५८२७०२०
हाईस्कूल और हायरसेकेंड्ररी - २०७
हाईस्कूल और हायरसेकेंड्ररी के कुल छात्र-छात्राएं - ७५६०३
इनका कहना
दोनों जिलों के ९५ फीसदी अशासकीय और ६५ फ ीसदी शासकीय स्कूलों ने खेल की राशि को जमा नहीं किया है। जिसके कारण स्कूलों में अध्ययनरत खिलाडियों के लिए सामग्री नहीं मिल पा रही है। जिन-जिन स्कूलों ने राशि खेल की सामग्री को जमा नहीं किया है। उन स्कूल प्रबंधनों को नोटिस जारी किए गए है।
एसडी अहिरवार जिला खेल क्र ीडा अधिकारी टीकमगढ़।

akhilesh lodhi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned