scriptRabi crops were damaged due to hailstorm | खेतों पर नहीं पहुंचे सरकारी अधिकारी और नहीं मिल पाया मुआवजा | Patrika News

खेतों पर नहीं पहुंचे सरकारी अधिकारी और नहीं मिल पाया मुआवजा

निवाड़ी जिले के पृथ्वीपुर और टीकमगढ़ जिलेे के दिगौड़ा, मोहनगढ़ तहसील में ओलावृष्टि हुई थी। इस ओलावृष्टि में खेतों में खड़ी फसल ध्वस्त हों गई थी। नुकसान का सर्वे करने के लिए मुख्यमंत्री ने जिले के अधिकारियों को निर्देश दिए थे।

टीकमगढ़

Published: February 18, 2022 08:56:03 pm

टीकमगढ़.निवाड़ी जिले के पृथ्वीपुर और टीकमगढ़ जिलेे के दिगौड़ा, मोहनगढ़ तहसील में ओलावृष्टि हुई थी। इस ओलावृष्टि में खेतों में खड़ी फसल ध्वस्त हों गई थी। नुकसान का सर्वे करने के लिए मुख्यमंत्री ने जिले के अधिकारियों को निर्देश दिए थे। सर्वे करके नुकसान वाले गांवों में सूची चस्पा करने की बात कही थी। लेकिन मामले को लेकर कोई कार्रवाई नहीं की गई है।
किसानों का कहना था कि गेहूं, सरसों, चना, मटर के साथ अन्य फसलों को बोया गया था। लेकिन विगत महीने मावट की बारिश में ओलावृष्टि हो गई थी। उस ओलावृष्टि से फसलों के खेत वर्फ से भर गए थे। उसमें खड़ी फसल कई स्थानों से टूट गई थी। इसके साथ ही कई खेतों की फसलें तो गायब हो गई थी। किसानों पर आए दुखों के पहाड़ को शांतुना देने के लिए जनप्रतिनिधि, पटवारी, तहसीलदार और कलेक्टर के साथ अन्य अधिकारियों ने भ्रमण किया था। जिसमें नुकसान अधिक पाया गया था। जिसकी सूचना प्रदेश स्तर पर दी गई थी। उसको लेकर मुख्यमंत्री ने सर्वे कराने के निर्देश दिए थे।
कराया गया सर्वे, लेकिन छूट गए कई किसान
किसानों का कहना था कि सारा एप के माध्यम से ओलावृष्टि से हुए नुकसान से सर्वे किया गया है। लेकिन उसमें कई किसानों को छोड़ दिया गया है। किसानों ने क्षेत्र में हुए नुकसान का सर्वे कराने के लिए कलेक्टर और अन्य अधिकारियों से मांग की है। उसके बाद भी सर्वे कार्य नहीं किया गया है। जिसके कारण किसानों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।
नुकसान वाले किसानों की नहीं चस्पा की सूची
किसानों का कहना था कि ओलावृष्टि के समय हजारों किसानों की फसलों को नुकसान हुआ था। उस नुकसान का सर्वे करने के लिए क्षेत्रीय विधायक, कलेक्टर, मंत्री के साथ अन्य अधिकारी आए थे। उनके द्वारा कहा गया था कि जिन गांवों में जिन-जिन किसानों का नुकसान हुआ है। उन किसानों की सूची बनाकर गांव के चिन्हित स्थान पर चस्पा किए जाने के निर्देश दिए थे। लेकिन मामले में ऐसा कोई कार्य नहीं किया गया है। जिसके कारण छूटे किसानों की चिंता बढ़ गई है।

Rabi crops were damaged due to hailstorm
Rabi crops were damaged due to hailstorm
इनका कहना
एक तरह की ओलावृष्टि क्षेत्र में पहली हुई थी। गेहूं के खेतों में ओला रुपी वर्फ सफेद दिखाई दे रही थी। ओला गिरने से फसले तो नष्ट हो गई थी। उन्हें देखने के लिए जनप्रतिनिधि आए, अधिकारी आए। लेकिन लाभ नहीं मिल पाया है।
मिथला कुशवाहा किसान।
महंगे दामों में बीज और खाद को खरीदना पड़ा था। फसल भी अच्छी थी। ओलावृष्टि से खेत खाली हो गए है। अब उन खेतों की फसलें टूटकर सूख गई है। इस वर्ष नुकसान सबसे अधिक हुआ है। उसके बाद भी सरकार द्वारा कोई राहत नहीं दी जा रही है।
मेवा कुशवाहा किसान।
रबी फसलों में हुए नुकसान को देखने के लिए विधायक, अधिकारी और अन्य लोग आए थे। सभी ने सर्वे कराने का आश्वासन दिया था। लेकिन सर्वे कार्य करने के लिए कोई भी राजस्व का अधिकारी और कर्मचारी खेत की मेड पर नहीं आया है। आज भी उन अधिकारियों का खेत पर इंतजार कर रहे है।
रामसेवक रजक किसान
निरीक्षण के दौरान अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों ने नुकसान वाले किसानों की सूची चस्पा करवाने की बात कही थी। लेकिन ऐसा कोई काम नहीं किया गया है। सर्वे कराने की मांग किसान ने प्रशासन ने की है।
परम कुशवाहा किसान।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

पंजाब की राह राजस्थान: मंत्री-विधायक खोल रहे नौकरशाही के खिलाफ मोर्चा, आलाकमान तक शिकायतेंद्वारकाधीश मंदिर में पूजा के साथ आज शुरू होगा BJP का मिशन गुजरात, मोदी के साथ-साथ अमित शाह भी पहुंच रहेVIP कल्चर पर पंजाब की मान सरकार का एक और वार, 424 वीआईपी को दी रही सुरक्षा व्यवस्था की खत्मओडिशा में "भ्रूण लिंग" जांच गिरोह का भंडाफोड़, 13 गिरफ्तारमां की खराब तबीयत के बावजूद बल्लेबाजों पर कहर बनकर टूटे ओबेड मैकॉय, संगकारा ने जमकर की तारीफRenault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चAnother Front of Inflation : अडानी समूह इंडोनेशिया से खरीद राजस्थान पहुंचाएगा तीन गुना महंगा कोयला, जेब कटना तयसुकन्या समृद्धि योजना में सरकार ने किए बड़े बदलाव, जानें क्या है नए नियम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.