जवान बने देवदूत, रात को आत्महत्या करने बेतवा में कूदे बुजुर्ग को बचाया , 2 युवतियों की भी बचाई जान

नदी में किसी के कूदने की आवाज आई तो टीम के सदस्यों को समझ आ गया कि कुछ गड़बड़ है.....

By: Ashtha Awasthi

Published: 23 Sep 2021, 02:42 PM IST

ओरछा। पर्यटन नगरी में बेतवा घाट पर तैनात डीआरसी के जवान पिछले 24 घंटे में तीन लोगों के लिए देवदूत साबित हुए हैं। रात को नदी में कूंदे 80 वर्ष के बुजुर्ग को बचाने के साथ ही दो युवतियों को नदी की मझधार से बाहर निकालकर नई जिंदगी दी है। बेतवा नदी में होने वाली घटनाओं को देखते हुए पर्यटन चौकी पुलिस के साथ ही यहां पर डीआरसी की टीम को तैनात किया गया है। इसके जवान 24 घंटे नदी के घाटों के आसपास नजर बनाए रखते हैं।

बीती रात 10.40 बजे यह जवान ड्यूटी कर रहे थे। तभी इन्हें नदी में किसी के कूदने की आवाज आई तो इन्होंने लाइट की मदद से आवाज की ओर देखना शुरू किया। टीम के सदस्यों को समझ आ गया कि कुछ गड़बड़ है। जवानों ने बिना किसी देरी के नदी में कूंदकर डूब रहे 80 वर्ष के मंगल पाल निवासी रक्सा जिला झांसी उत्तर प्रदेश को सकुशल बाहर निकाल लिया। बताया जा रहा है कि वह आत्महत्या करने के लिए नदी में कूंदे थे। परिजनों को जानकारी देकर बुलाया और उनके सुपुर्द किया गया।

नहाने आईं युवतियां बही

बुधवार की दोपहर 3.30 बजे के कहकशा खान एवं गुलाब खान निवासी थाना नबावाद झांसी बेतवा में नहाने के लिए ओरछा आई थीं। दोनों बहनें हैं। वे तैरना नहीं जानती थीं। दोनों नदी के बीच एक चट्टान पर बैठकर नहा रही थीं तभी पैर फिसलने से एक के बाद एक वाहननदी में जा गिरीं। गनीमत रही कि उसी समय यहां पर तैनात जवानों की नजर पड़ गई और इन्हें सकुशल बाहर निकाल लिया। इन दोनों रेस्क्यू में नायक शिवदयाल रजक, पवन कुमार, सैनिक सुरेंद्र जोशी एवं मनोज चावला की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

Ashtha Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned