धार्मिक कार्यक्रम नहीं होने से सब्जी में किसानों को हुआ भारी नुकसान

लॉकडाउन में शहर के साथ साप्ताहिक बाजार पर प्रतिबंध लगा दिया है। इससे किसान टमाटर और बेगन के साथ भिंड़ी को बाजार में नहीं खफा रहे है।

By: akhilesh lodhi

Published: 05 May 2020, 06:00 AM IST


टीकमगढ़.लॉकडाउन में शहर के साथ साप्ताहिक बाजार पर प्रतिबंध लगा दिया है। इससे किसान टमाटर और बेगन के साथ भिंड़ी को बाजार में नहीं खफा रहे है। यह फसल खेतों में ही खराब हो रही है। वहीं कुछ सब्जी की फसल को तोड़कर जरूरतमंदो को दे रहे है। इस फसल में मुनाफा नहीं होने के कारण किसानों में असंतोष फैला हुआ है। किसानों का कहना है कि जिस खेती के लिए पांच महीने मेहनत की।उसकी पैदाबार भी भरपूर हुई। लेकिन बेचने में समस्याएं आ रही है।
किसान कन्हैया कुशवाहा, जमुना कुशवाहा, सरमन कुशवाहा, खरौ निवासी रूपसिंह लोधी, रविंद्र सिंह ने बताया कि टमाटर, प्याज, भिंडी, बेगन के साथ अन्य संब्जियां खेतों में ही सड़ रही है। कुछ सब्जियां शहर में जरूातमंदों को दे दी जाती है। लेकिन यह सब्जी की पैदाबार कम होने का नाम नहीं ले रही है। पिछले वर्ष तो बाजार में जाते ही सब्जी के सामने ग्राहकों की भीड़ लग जाती थी। वहीं एक सप्ताह में क्षेत्र के सभी सप्ताहिक बाजारों में यह फ सल बेच लेते थे। उसका अच्छा मुनाफा भी मिल जाता था। जिसमें परिवार का भरण पोषण तो चलता ही था। इसके साथ ही बच्चों की पढ़ाई के साथ अन्य धार्मिक कार्यक्रमों में भाग ले लेते थे।
जिला के साथ दूसरे जिलों में जाते थे सब्जी बेचने
किसानों का कहना था कि शादी, धार्मिक कार्यक्रमों के साथ दूसरे शहरों के मजदूर वर्ग के लोग निवास करते थे। उसके कारण बाजार जाते ही सब्जी की खेती फसल रहती थी। उससे अच्छा मुनाफा मिल जाता था। कोरोना वायरस को लेकर ना तो शादियां आयोजित की जा रही है और ना ही धार्मिक कार्यक्रम। इसके साथ ही शहर में बेचने पर प्रतिबंध लगा दिया है। इस कारण से किसानों पर संकट आ गया है।


खेत में खराब न हो सब्जी की फसल, इसलिए गांव में कर देते वितरण
बनयानी निवासी कृष्णप्रताप सिंह और मुखिया राजपूत के साथ किसान खुमान कुशवाहा, स्वामी कुशवाहा ने बताया कि इद दिनों हरी सब्जी, टमाटर, बेगन के साथ अन्य सब्जियों की पैदाबार अधिक हो रही है। उस फसल को बाजार में बेचने का मौका नहीं मिला रहा है। जिसके कारण सब्जियों को गांव के साथ शहर के लोगों को निशुल्क वितरण कर रहे है।

akhilesh lodhi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned