बैंक कर्मचारियों की लापरवाहियों से संक्रमण की हो सकती है घटनाएं

स्टेंट बैंक, ग्रामीण बैंक के साथ अन्य बैंकों में उपभोक्ताओंं की भीड़ बैंकों के दरवाजों पर नजर आ रही है। यह भीड़ भीड़ संक्रमण का खतरा बड़ा रही है।

By: akhilesh lodhi

Published: 18 May 2021, 09:50 PM IST


टीकमगढ़. स्टेंट बैंक, ग्रामीण बैंक के साथ अन्य बैंकों में उपभोक्ताओंं की भीड़ बैंकों के दरवाजों पर नजर आ रही है। यह भीड़ भीड़ संक्रमण का खतरा बड़ा रही है। प्रबंधन द्वारा उपभोक्ताओं के लिए कोई व्यवस्थाएं नहीं की गई है। वहीं समर्थन मूल्य में बेचे गए अनाज की राशि की निकासी के लिए किसान घंटों बैंकों के बाहर खड़ा हुआ है। वहीं जिला प्रशासन द्वारा किसानों की राशि निकासी में कोई स्थाई पहल नहीं की जा रही है।
समर्थन मूल्य के तहत किसानों द्वारा खरीद केंद्रों पर अनाज को बेचा गया था। सरकार द्वारा उनके अनाज की राशि को किसानों की बैंक खातों में भेज दिया है। अब किसानों को उस राशि की निकासी के लिए हफ्तों मशक्कत करनी पड़ रही है। वहीं बैंक द्वारा मुख्य दरवाजा बंद करके कार्यो को धीमी गति से किया जा रहा है। जिसके कारण किसानों समय पर राशि नहीं मिल पाने से परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।
दिगौड़ा में बैंक के बाजर लगी भीड़ भाड़
भारतीय स्टेट बैंक और जिला सहकारी बैंक में कोरोना कफ्र्यू के दौरान रुपयों को निकालने के लिए लोगों की भीड़ जमा हो रही है। बैंक के सामने ना तो प्रबंधन द्वारा उपभोक्ताओं के लिए चूने के गोले बनाए गए है और ना ही सोशल डिस्टेंस के लिए कोई प्रयास किए जा रहे है। कस्बा की सभी बैंकों के बाहर भीड़ भाड़ होने ेसे संक्रमण का खतरा बना हुआ है। जहां लोगों में डर बना हुआ है।
बल्देवगढ़ में नहीं की गई उपभोक्ताओं के लिए व्यवस्थाएं
नगर में स्टेंट बैंक, ग्रामीण क्षेत्र के साथ अन्य बैंकों में उपभोक्ताओं की भीड़ लगी हुई है। उस भीड़ को कम करने के लिए ना तो नगर प्रशासन द्वारा कोई पहल की जा रही है और ना ही पुलिस प्रशासन द्वारा की गई है। उपभोक्ताओं का कहना था कि बैंक प्रबंधन की लापवाही के कारण उपभोक्ताओं को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं किसानों ने बताया कि बैंक प्रबंध्रन उपभोक्ताओं को राशि तो दी जा रही है, लेकिन चहेतों को ज्यादा महत्व दिया जा रहा है। जिसके कारण बैंकों के बाहर सैकड़ों की संख्या में लोगों की भीड़ जमी है।हीं फैलाई जा रही थी।


नहीं बनाए गए गोले
लिधौरा में स्टेंट बैंक के साथ ग्रामीण बैंकों में सोमवार को राशि की निकासी के लिए भीड़ भाड़ दिखाई दी। वहीं बँक कर्मचारियों द्वारा बैंकों के दरवाजों को बंद कर लिया था। जिसके कारण किसानों के कार्य प्रभावित देखे गए। बैंकों का उपभोक्ताओं को कोई सहयोग नहीं मिलने के कारण संक्रमण का खतरा बना हुआ है।
बैंकों की भीड़ से फैल सकता है संक्रमण
बैंकों के बाहर कई दिनों से भीड़ लगी हुई है। उसे हटाने और उनकी राशि निकासी की कोई व्यवस्थाएं नहीं की जा रही है। प्रतिदिन उपभोक्ताओं को सुबह से शाम तक दरवाजों पर बैंक के दरवाजे खुलने का इंतजार रहता है। अगर समय रहते भीड़ भाड़ को अलग नहीं किया गया तो कभी भी संक्रमण का खतरा फैल सकता है।
किसी भी बैंक के सामने नहीं थे चूने के गोले
टीकमगढ़, बल्देवगढ़, खरगापुर, लिधौरा, दिगौड़ा की बैंकों के बाहर उपभोक्ताओं के लिए चूने के गोले नहीं लगाए गए। ना ही बैंक गार्डो द्वारा सोशल डिस्टेंसों में उपभोक्ताओं को रखा गया। वहीं कई उपभोक्ता द्वारा ना तो सेनेटाइजर किया जा रहा था और ना ही मास्क का उपयोग किया जा रहा है। इसके बाद भी बैंक प्रबंधन और गार्ड द्वारा कोई जागरूकता न

akhilesh lodhi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned