पृथ्वीपुर में भाजपा को मिलेगी कड़ी चुनौती

पृथ्वीपुर में भाजपा को मिलेगी कड़ी चुनौती

anil rawat | Publish: Sep, 06 2018 11:18:28 AM (IST) Tikamgarh, Madhya Pradesh, India

अपने-अपने जीत के दावे कर रहे उम्मीदवार और पार्टियां

टीकमगढ़. आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर एक बार फिर से तमाम पार्टियां और टिकिट के दावेदार अपनी-अपनी जीत के दावे कर रहे है। क्षेत्र की समस्याओं को चुनौतियों को लेकर जहां कांगे्रस भाजपा सरकार के सिर पर तोहमत मड़ रही है, वहीं भाजपा उम्मीदवार अगली पानी में इन्हें पूरा करने का दावा कर रहे है। इन तमाम दावों और आश्वासनों के बाद पार्टी किसके सिर टिकिट का सेहरा बांधती है और जतना किसे जीत की डोली में बैठा कर विधानसभा भेजती है, यह तो वक्त बताएंगा। लेकिन इस बार पृथ्वीपुर विधानसभा में भाजपा को इस बार कड़ी चुनौती मिलती दिखाई दे रही है।
पृथ्वीपुर विधानसभा से कांग्रेस के दावेदार
बृजेन्द्र सिंह राठौर: पृथ्वीपुर से कांग्रेस के टिकिट का सबसे प्रबल दावेदार पूर्व विधायक बृजेन्द्र सिंह राठौर को माना जा रहा है। दो बार निर्दलीय और 2 बार कांगे्रस के टिकिट से चुनाव जीत चुके बृजेन्द्र सिंह राठौर कांग्रेस के विभिन्न पदों पर रह कर संगठन के लिए भी काम कर चुके है। बृजेन्द्र सिंह राठौर 1993 से 2003 तक 20 वर्ष लगातार विधायक रहे है।
यह भी दावेदार: इस बार पृथ्वीपुर से कांग्रेस का टिकिट पाने के लिए जतारा के ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष रमन पस्तोर एवं भगतराम यादव भईयन का नाम भी सामने आ रहा है। भगतराम यादव पूर्व में टीकमगढ़ जनपद के अध्यक्ष रह चुके है। वर्तमान में कांग्रेस ने भईयन को प्रदेश कार्यसमिति में स्थान दिया है।
भाजपा को सीट बचाने की चुनौती: इस बार यहां से भाजपा के सामने अपनी सीट बचाने की चुनौती होगी। पिछले बार यहां से बृजेन्द्र सिंह राठौर 8627 मतों से चुनाव हारे थे। लेकिन क्षेत्र में अपेक्षाकृत विकास कार्य न होने एवं क्षेत्र की वर्षों से चली आ रही सिंचार्ई सुविधा, एसडीएम कोर्ट सहित तमाम मांगों पर काम न होने से क्षेत्र में भाजपा का ग्राफ कम हुआ है। वहीं भाजपा में दावेदारों की लंबी फेरहस्ती होने से चुनाव के समय भितरघात का भी खतरा दिखाई दे रहा है।

इनका कहना है:
क्षेत्र में सिंचाई, पेयजल, बेरोजगारी के साथ ही आवारा मवेशी बड़ी समस्या है। सरकार आने पर पृथ्वीपुर में एसडीएम कोर्ट की स्थापना के साथ ही जेरौन एवं दिगौड़ा को पूर्ण तहसील का भी दर्जा दिलाया जाएगा। बेरोजगारों के रोजगार दिलाने के लिए कांग्रेस पूरा काम करेगी।- बृजेन्द्र सिंह राठौर, पूर्व विधायक पृथ्वीपुर विधानसभा।
पिछले चुनाव में मिले मत
अनीता सुनील नायक (भाजपा)- 51147
ृबृजेन्द्र सिंह राठोर (कांग्रेस)- 42520
हार/जीत का अंतर 8627
चुनौतियां/मुद्दे
औद्योगिक क्षेत्र की स्थापना
न्यायालय/एसडीएम कोर्ट की स्थापना
सिंचाई की सुविधाओं का अभाव
किसान और मजदूरों का पलायन
स्वास्थ्य सेवाओं एवं शिक्षा के क्षेत्र में

भाजपा की लंबी फेरहस्ती: पृथ्वीपुर से भाजपा का टिकिट पाने वालों में प्रमुख नाम वर्तमान विधायक अनीता नायक का है। विदित हो कि वर्ष 2008 के विधानसभा चुनाव में पूर्व मंत्री सुनील नायक की हत्या के बाद उनकी पत्नि अनीता नायक को यहां से टिकिट दिया गया था। उन्होंने ही अजेय विधायक बृजेन्द्र सिंह राठौर की जीत का सिलसिला तोड़ा था।
भाजपा जिलाध्यक्ष भी कतार में: इस बार यहां से दावेदारी करने वालों में भाजपा के जिलाध्यक्ष अभय प्रताप सिंह यादव का नाम भी प्रमुखता से लिया जा रहा है। अभय पिछले 6 वर्षों से भाजपा का नेतृत्व कर रहे है। इनके साथ ही अनीता नायक के देवर गनेशी लाल नायक का नाम भी टिकिट के दावेदारों के रूप में देखा जा रहा है। गनेशी लाल नायक को संघ के नजदीक माना जाता है। वहीं भाजपा के पूर्व महामंत्री अनिल पाण्डे, भाजपा की प्रदेश कार्यसमिति सदस्य रोशनी यादव(भूतपूर्व राज्यपाल रामनरेश यादव की पौत्रवधु), बसपा से भाजपा में आए ओमप्रकाश रावत, जेरौन नगर परिषद के पूर्व अध्यक्ष राकेश शर्मा, मंडल अध्यक्ष राजेश साहू एवं भाजपा के जिला उपाध्यक्ष आकाश अग्रवाल भी दावेदारी कर सकते है।

इनका कहना है:

क्षेत्र की जनता की हर समस्या को सुलझाने का प्रयास किया गया है। कुछ चीजे है, तो शासन स्तर से होनी थी। इस बार इन समस्याओं का भी समाधान कराया जाएगा। क्षेत्र की जनता का मुझ पर पूरा भरोसा है। अगले चुनाव में क्षेत्र में सिंचाई की पर्याप्त सुविधाएं, एसडीएम कोर्ट और न्यायालय की स्थापना के लिए पूरा प्रयास किया जाएगा।- अनीता सुनील नायक, विधायक पृथ्वीपुर।

Ad Block is Banned