चोर की पिटाई से हुई थी मौत, एेसे खुला राज

चोर की पिटाई से हुई थी मौत, एेसे खुला राज

anil rawat | Publish: Oct, 14 2018 10:57:23 AM (IST) | Updated: Oct, 14 2018 10:57:24 AM (IST) Tikamgarh, Madhya Pradesh, India

डेढ़ वर्ष बाद यह राज खुलने पर पुलिस ने 9 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है

टीकमगढ़. सिटी कोतवाली पुलिस ने लगभग डेढ़ वर्ष पूर्व ग्राम माडूमर के समीप रमन्ना में स्थित प्रेमसागर तालाब के समीप एक युवक द्वारा फंदे पर लटक कर जान देने के मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर गहन पड़ताल उपरांत सनसनीखेज खुलासा किया है। दरअसल यह आत्महत्या नहीं बल्कि हत्या का मामला था। 9 लोगों ने चोरी के आरोपी के साथ मारपीट की थी और इस मारपीट में उसकी मौत हो गई थी। घटना से डरे हुए सभी लोगों ने सुनियोजित ढंग से फंदा बनाकर उक्त युवक के शव को फंदे पर लटका कर उसे आत्महत्या का रूप दे दिया।
सिटी कोतवाली टीआई नवल आर्य ने इस सनसनीखेज मामले का खुलासा करते हुए बताया कि 25 मार्च 2017 को किशोरी काछी निवासी माडूमर ने अपने घर में चोरी की घटना की सूचना दर्ज कराई थी। जिस पर पुलिस ने अज्ञात आरोपियों पर धारा 454, 380 आईपीसी के तहत मामला किया था। फरियादी एवं गांव के कुछ लोगों ने गांव के भज्जू उर्फ कमलेश काछी, उसके पिता चिमन काछी एवं मां मिनिया बाई पर चोरी का संदेह जताया। पुलिस को भी मामले की सूचना दी गई। पुलिस ने 31 मार्च 2017 को चिमना एवं मिनिया बाई को गिरफ्तार कर उनके पास से चोरी किए गए चांदी के जेवरात जब्त किए थे। वहीं मामले का तीसरा आरोपी भज्जू उर्फ कमलेश काछी फरार था।

उसी दिन शाम 7 बजे भज्जू के अपने खेत पर होने की सूचना मिली। जिस पर गांव के कई लोग एकत्रित होकर भज्जू के खेत पर पहुंचे, तो लोगों को देखकर भज्जू वहां से भाग खड़ा हुआ। रमन्ना जंगल में मनुवा काछी के ख्ेात में सभी लोगों ने उसे पकड़ लिया और उसके साथ मारपीट कर दी। मारपीट से उसकी मौत हो गई तो सभी ने एकराय होकर भज्जू उर्फ कमलेश के शव को प्रेमसागर तालाब के समीप फंदा लगाकर एक पेड़ से टांग दिया और इस पूरे मामले को आत्महत्या का रूप दे दिया। पुलिस द्वारा मामले में मर्ग कायम कर इसकी जांच की जा रही थी। जांच में पाया गया कि यह आत्महत्या नहीं बल्कि उसकी हत्या की गई है।
9 आरोपी हुए गिरफ्तार: इस मामले के खुलासे के लिए वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के निर्देशन में टीआई नवल आर्य के नेतृत्व में एसआई वीरेन्द्र सिंह पंवार, रंजीत सिंह, हिमांशू भिण्डिया, रघुराज सिंह, एएसआई बीएन साहू, प्रधान आरक्षक परवेज, वरिष्ठ आरक्षक राकेश घोष, कैलाश विश्वकर्मा, नीलेश चौधरी, मुकेश उपाध्याय, अवनीश यादव, गोविन्द मेहरा, कमल अहिरवार, एनआरएस सेवक अहिरवार की टीम का गठन किया गया। टीम ने मामले की जांच उपरांत शुक्रवार की रात 12 के लगभग इस मामले के आरोपी मनुआ उर्फ मनोहर काछी पुत्र घनश्याम काछी (32), घन्सू उर्फ घनश्याम काछी पुत्र मुलू काछी (6 0), सुन्तू काछी पुत्र प्यारेलाल काछी (45), नत्थू उर्फ नाथूराम काछी पुत्र नंदू काछी (53), कालीचरण काछी पुत्र हल्कू काछी (60), भगवानदास पुत्रलछुआ काछी (35), हरिशचन्द्र पुत्र नाथूराम सेन (40), रवि महाराज उर्फ भारतभूषण तिवारी पुत्र रामेश्वर तिवारी (37), किशोरी काछी निवासी माडूमर को कुण्डेश्वर धाम से गिरफ्तार कर लिया। सभी आरोपियों के विरूद्ध धारा 302, 201, 34 आईपीसी के तहत मामला कायम किया गया है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned