सरकारी नौकरी और ठेकेदार बने गरीब, अति गरीब परिवार का ले रहे निशुल्क राशन

लॉकडाउन के कारण प्रदेश सरकार ने बीपीएल सूची के साथ अतिगरीब परिवारों को निशुल्क राशन देने के आदेश दिए है।

By: akhilesh lodhi

Published: 18 Apr 2020, 06:00 AM IST

टीकमगढ़/जतारा.लॉकडाउन के कारण प्रदेश सरकार ने बीपीएल सूची के साथ अतिगरीब परिवारों को निशुल्क राशन देने के आदेश दिए है। लेकिन नगर परिषद के जनप्रतिनिधियों के साथ अधिकारियों ने सरकारी नौकरी, ठेकेदार और बड़े दुकान संचालकों को गरीबी वाली सूची में दर्जकर निशुल्क राशन का लाभ ले रहे है। ऐसे उपभोक्ताओं के नाम काटने और कार्रवाई किए जाने की मांग लोगों ने की है।
कोरोना वायरस में जिले को लॉकडाउन कर दिया है। जिससे श्रमिक और गरीबों के साथ अतिगरीब परिवारों को मजदूरी नहीं मिलने से हालात खराब हो गए है। ऐसे परिवारों को निशुल्क राशन देने की घोषिणा प्रदेश सरकार ने की है। जिसमें १६२ लोगों की सूची तैयार की गई है। जिसमें गरीब और अतिगरीब तो ठीक सरकारी नौकरी करने वाले के परिजन, ठेकेदारी, रेस्टोरेंस के साथ बड़े-बडे व्यवसाई के साथ दुकानदारों को शामिल किया गया है। उन्होंने निशुल्क मिलने वाले राशन का उपयोग भी कर लिया है। जो नगर में चर्चा का विषय बना हुआ है। स्थानीय लोगों ने आरोप लगाते हुए जांच की मांग की है।


यह है आपात्र लोग जो ले रहे निशुल्क राशन का लाभ
नगर के समाजसेवी डॉ. आरपी यादव ने आरोप लगाते हुए कहा कि १६२ गरीब और अतिगरीबों के सूची में अमीर भी शामिल है। उनके पास आय के कई साधन बने हुए है। जिसमें नगर के रामगोपाल वर्मा ठेकेदार जिनकी पत्नी जसोदा वर्मा को सूची में शामिल किया गया है। ग्राम पंचायतों में मटेरियल सप्लायर के साथ सीमेंट के साथ लोहे के थॉक विक्रेता और २५ टैंकरों को किराए पर चलाना उनका व्यवसाह है। इसके साथ ही वार्ड ८ के पार्षद चिंतामन चौरसिया की पत्नी भगवती चौरसिया का चार पहिया वाहन के साथ आलीशान मकान, वार्ड १२ पुष्पेंद्र जैन की पत्नी उर्मिला जैन जिनकी स्थानीय बस स्टेंड पर स्वयं का मकान और रेस्टोरेंट है। प्रतिभा जैन के पति अभय जैन कपड़ो के थोक व्यापारी, मेडिकल संचालक रामबाबू साहू, कस्तूरी सोनी पत्नी मनोहर सोनी जिनकी सोने चांदी की दुकान, स्वयं का मकान इनका पुत्र सरकारी नौकरी, शंकर भोले तिवारी निवासी गंज मोहल्ला सुरेंद्र गुप्ता की मुख्य बाजार में लाखों रुपए की जूता चप्पल की दुकान, चेतना पत्नी अभिनंदन जैन की दुकान, मकान एवं इनका पुत्र एसबीआई बैंक में कर्मचारी है। इसके बाद गरीबों का लाभ ले रहे है। समाजसेवी डॉक्टर ने आपात्रों और पात्रों की सूची एसडीएम को सौंपी है। जिसकी जांच कराकर कार्रवाई की मांग की है।
इनका कहना
यह सूची लगभग दो, ढाई साल पहले की है। अगर इसमें अमीरों के नाम जुड़े हुए हैं, तो हम कार्रवाई का ऐसे व्यक्तियों के नाम सूची से काटे जाएंगे और जो वास्तव में गरीबों उनके नाम जोड़े जाएंगे। जो भी आपात्र उपभोक्ता निशुल्क राशन का उपयोग कर रहे जांच कर कार्रवाई की जाएगी।
डॉ. सौरभ कुमार सौनबणे एसडीएम जतारा।

akhilesh lodhi Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned