निवाड़ी में कांग्रेस को योग्य प्रत्याशी की तलाश

निवाड़ी में कांग्रेस को योग्य प्रत्याशी की तलाश

Anil Kumar Rawat | Publish: Sep, 06 2018 11:14:18 AM (IST) Tikamgarh, Madhya Pradesh, India

पिछले दो विधानसभा चुनाव के बाद भी निवाड़ी विधानसभा में कांग्रेस को एक योग्य जिताऊ उम्मीदवार नही मिल रहा है।

टीकमतगढ़. पिछले दो विधानसभा चुनाव के बाद भी निवाड़ी विधानसभा में कांग्रेस को एक योग्य जिताऊ उम्मीदवार नही मिल रहा है। पिछले 2 विधानसभा चुनाव के पहले तक जहां यह सीट एक तरफा कांग्रेस के गढ़ के रूप में जानी जाती और 2013 के चुनाव में पहली बार यहां से भाजपा का खाता खुला था, वहीं अब इस सीट पर कांग्रेस को एक जिताऊ प्रत्याशी की तलाश बनी हुई है।

निवाड़ी विधानसभा से भाजपा के दावेदार
अनिल जैन: निवाड़ी विधानसभा से वर्तमान विधायक अनिल जैन सबसे प्रबल दावेदार माने जा रहे है। निवाड़ी को जिला बनाने की घोषणा की जाने के बाद अनिल जैन की दावेदारी को और भी मजबूती से देखा जा रहा है। 2013 में अनिल जैन ने 27 हजार से अधिक मतों से जीत दर्ज की थी। अनिल जैन निवाड़ी जनपद के अध्यक्ष भी रह चुके है।
यह भी लाईन में: अनिल जैन के साथ ही निवाड़ी से भाजपा का टिकिट पाने की लाईन में पृथ्वीपुर मंडी अध्यक्ष एवं किसान मोर्चा के जिलाध्यक्ष राजेश पटैरिया, पूर्व साड़ा अध्यक्ष अखिलेश अयाची एवं अवधेश राठौर का नाम भी दावेदारों के रूप में सामने आ रहा है। इसके साथ ही निवाड़ी मंडी अध्यक्ष लाखन सिंह यादव भी पार्टी के सामने अपनी दावेदारी पेश करेंगे। वहीं रमेश निराला भी इस बार चुनाव लडऩे के मूड में है। विदित हो कि रमेश निराला जहां खुद नगर परिषद के अध्यक्ष रह चुके है वहीं इस बार उनकी पत्नि गीता निराला इस पद पर काबिज है। रमेश निराला खुद ही चुनाव लडऩे की बात कह चुके है।
पिछले चुनाव में मिले मत
अनिल जैन (भाजपा) 60395
मीरा दीपक यादव(समाजवादी पार्टी) 33186
हार/जीत का अंतर 27209
चुनौतियां/मुद्दे
जिला निर्माण
उच्च शिक्षा/ केन्द्रीय विद्यालय
किसानों की समस्या/ सिंचाई
स्वास्थ्य सेवाओं की कमी
पर्यटन नगरी ओरछा में ट्रेनों के स्टॉपेज
इनका कहना है:
चुनाव के समय जो भी बड़े मुद्दे थे, वह पूरे किए गए है। निवाड़ी जिला निर्माण की प्रक्रिया जारी है। पेयजल की समस्या का निराकरण किया जा चुका है। जामनी-बेतवा पुलों का टेंडर हो चुका है। केन्द्रीय विद्यायल की फायल भी चल रही है। अन्य जो भी विकास कार्य शेष है, वह इस बार पूरे किए जाएंगे। यहां पर भाजपा की अब किसी से चुनौती नही है।- अनिल जैन, विधायक, निवाड़ी।
पार्टी का सर्वे चल रहा है। जनता का केन्द्र और प्रदेश सरकार से मोहभंग हो चुका है। प्रदेश में कांग्रेस की लहर चल रही है। पार्टी सर्वे के आधार पर टिकिट वितरण करेगी और कांगे्रस का प्रत्याशी ही जीतेगा।- ब्रजेन्द्र सिंह राठौर, पूर्व प्रदेश महासचिव, कांग्रेस।

यह करेंगे कांग्रेस से दावेदारी: निवाड़ी विधानसभा से कांग्रेस का टिकिट पाने के लिए लगभग आधा दर्जन उम्मीदवार मैदान में दिखाई दे रहे है। पिछली बार 6 हजार वोट पाकर हार चुके बाल किशन दुबे के साथ ही कांग्रेस के पूर्व ब्लॉक अध्यक्ष दिनेश तिवारी, जिला संगठन मंत्री नारायण रिछारिया, निवाड़ी से प्रत्याशी रह चुके प्रदीप यादव, किसान कांग्रेस के संगठन महामंत्री सुरेन्द्र यादव का नाम भी सामने आ रहा है।
सपा ने मीरा दीपक यादव लगभग तय: इसके साथ ही निवाड़ी विधानसभा चुनाव में एक बार फिर से सपा अपनी मजबूत दावेदारी पेश करेगी। 2008 के चुनाव में निवाड़ी को पहली महिला विधायक की सौगात देने वाली मीरा दीपक यादव का यहां से टिकिट तय माना जा रहा है। वहीं इस बार पहली बार यहां से आम आदमी पार्टी भी अपना प्रत्याशी मैदान में उतारेगी। आम आदमी पार्टी की ओर से गोपाल सिंह ठाकुर ने अपनी तैयारियां शुरू कर दी है।
कांग्रेस को प्रत्याशी की दरकार: निवाड़ी विधानसभा में कांग्रेस के लिए योग्य प्रत्याशी की तलाश पूरी नही हो पा रही है। बृजेन्द्र सिंह राठौर के निवाड़ी से पृथ्वीपुर विधानसभा में जाने के बाद से कांगे्रस को यहां पर अब तक योग्य प्रत्याशी नही मिला है। पिछले चुनाव में कांग्रेस के बालकृष्ण दुबे को महज 6617 मतों से संतोष करना पड़ा था। इस बार भी यहां मुख्य मुकाबला भाजपा और समाजवादी पार्टी के बीच देखा जा रहा है।

पार्टी का सर्वे चल रहा है। जनता का केन्द्र और प्रदेश सरकार से मोहभंग हो चुका है। प्रदेश में कांग्रेस की लहर चल रही है। पार्टी सर्वे के आधार पर टिकिट वितरण करेगी और कांगे्रस का प्रत्याशी ही जीतेगा।- ब्रजेन्द्र सिंह राठौर, पूर्व प्रदेश महासचिव, कांग्रेस।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned