परिवहन मंत्री ने साधा भाजपा पर निशाना, कहा- मोदी-शाह का अहंकार ले डूबा भाजपा को

मोदी जी और अमित शाह की जो अहंकार की भाषा है, उसी अहंकार की भाषा का प्रयोग प्रदेश में भाजपा के नेता करते है।

By: anil rawat

Published: 19 Jan 2019, 07:01 AM IST

टीकमगढ़. मोदी जी और अमित शाह की जो अहंकार की भाषा है, उसी अहंकार की भाषा का प्रयोग प्रदेश में भाजपा के नेता करते है। शायद इसी अहंकार के कारण कांग्रेस की यह हालत हुई है। इससे भी बड़ा जनादेश हमें 2019 के चुनाव में मिलेगा। यह बाद प्रदेश के परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने कहीं। वह पृथ्वीपुर में अमर सिंह राठौर की स्मृति में आयोजित राष्ट्रीय वॉलीवाल प्रतियोगिता के शुभारंभ कार्यक्रम में आए हुए थे।
वॉलीवाल प्रतियोगिता के शुभारंभ के बाद पत्रकारों से चर्चा करते हुए, जो जनादेश हमें 2018 में मिला है, उससे भी बड़ा जनादेश 2019 के लोकसभा चुनाव में हमें मिलेगा। केवल यूपी में ही नही बल्कि पूरे देश में यह जनादेश मिलेगा। वहीं उन्होंने अधिकारियों की बात पर कहा कि वह अधिकारियों से इतना ही कहना चाहते है कि अब प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बन चुकी है। यह आम आदमी की सरकार है। जो अधिकारी भाजपा के रंग में रंगे है, वह भाजपा का रंग उतार दें। अब उन्हें आम लोगों की बात सुननी होगी।

गोविंद सिंह ने पूछा गया कि भाजपा के नेता आए दिन सरकार गिराने की बात कह रहे है, हाल ही में नेता प्रतिपक्ष में एक बार फिर से लोकसभा चुनाव में मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद प्रदेश से भाजपा की सरकार गिराने की बात कहीं है। इस पर गोङ्क्षवद सिंह का कहना था कि मोदी जी और अमित शाह की जो अहंकार की भाषा है, वहीं भाजपा प्रदेश में भाजपा के नेता बोलते है। शायद इसी अहंकार के चलते भाजपा की यह स्थिति हुई है। उन्होंने कहा कि चाहे विजयवर्गीय हो, या भार्गव जी। भार्गव जी नेता प्रतिपक्ष है, ऐसे में उन्हें बड़ा संयम बरतना चाहिए। उन्होंने कहा कि यदि अब भी यही अहंकार रहा तो लोकसभा में भी ऐसा ही हाल होगा।

वहीं गोङ्क्षवद सिंह राजपूत ने कहा कि जिले में जहां भी आवश्यकता होगी विकास कार्य किया जाएगा। राजपूत ने कहा कि आज कर्मचारियों की कमी के कारण लोग अपने काम कराने परेशान है। एक-एक पटवारी के पास तीन से चार हल्कों का प्रभार है। इसलिए सरकार ने निर्णय लिया है कि 3 माह के अंदर पटवारियों की भर्ती की जाएगी। प्रदेश में पहली बार लोक राजस्व शिविर लगाए जाएंगे। पूरे प्रदेश में 16 फरवरी से यह शिविर लगाएं जाएंगे। यहां पर मौके पर ही नामांतरण, खसरा-खतौनी सहित अन्य प्रकरणों का निराकरण किया जाएगा।

anil rawat Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned