scriptपानी की कमी और देखरेख के अभाव में दम तोडने लगे पेड पौधे | Trees and plants started dying due to lack of water and care | Patrika News
टीकमगढ़

पानी की कमी और देखरेख के अभाव में दम तोडने लगे पेड पौधे

सविल लाइन का चिल्ड्रन पार्क।

टीकमगढ़Jun 12, 2024 / 07:48 pm

akhilesh lodhi

सविल लाइन का चिल्ड्रन पार्क।

सविल लाइन का चिल्ड्रन पार्क।

गंजी खाना मैदान द्वार पार्क भी हो गया बदहाल

टीकमगढ़.नगर के पार्क और डिवाइडर में रोपे गए पौधों ने दम तोड़ दिया हैं। कई पार्क तो उजड़ गए और कईयों की जालियां टूट गई जो उजडऩे की स्थिति में आ गए हैं। कई जगह के तो सभी पौधे नष्ट हो गए हैं। इस भीषण गर्मी के बीच पौधों में पानी डालना भूल गए। वहीं चिल्ड्रन पार्क दो साल से निर्माणाधीन पड़ा हैं। इसकी लापरवाही जिम्मेदार अधिकारियों और कर्मचारियों की बताई जा रही हैं। नपा द्वारा सिर्फ नगर के कुछ ही पार्कों का ध्यान रखा जा रहा हैं, जिसमें शहर के लोग घूमने के लिए जा रहे हैं।
शहर में कलेक्ट्रेट से लेकर वीजी कॉलेज तक और सागर हाइवे से लेकर नया बस स्टैंड तक के कई स्थानों पर पार्क निर्माण किए हैं। डिवाइडर भी बनाए गए हैं, जिनमें महोत्सव के दौरान पौधे रोपे गए और कई में हरियाली बनाने के साथ शहर लोगों को सुविधा के अनुसार पौधों का रोपण किया गया हैं, लेकिन नपा द्वारा इसकी देखरेख नहीं की जा रही हैं। जिसके कारण गंजी खाना द्वारा के पास बनाए गए पार्क उजड़ गए और मंदिर के रास्ते के पार्क की जालियां टूट गई हैं। जिनक े के लिए प्रयास नहीं किए जा रहे हैं।
सागर हाइवे के सुभाष पार्क में वर्षों पहले रोपे गए पौधों ने पेड़ का रूप से ले लिया है, लेकिन क्यिारियों में लगाए गए पौधे सूखने लगे हैं। पौधों जमीन की ओर झुक गए हैं। स्थानीय लोगों ने बताया कि यहां पर पानी की कमी आ गई हैं, जिसके कारण पार्क की सूरत भद्दी दिखाई दे रही हैं।
गंजी खाना मैदान के तीन दरवाजे हैं। आंबेडकर चौक की सडक़ ओर दो दरवाजे हैं, दोनों दरवाजों के अगल-बगल में पार्क बनाए गए थे। कीमती पौधों को रोपा गया था। उनकी सुरक्षा के लिए लोहे की जालियां लगाई थी, लेकिन नपा पौधों में पानी डालना भूल गया, जिसके कारण पार्क में लग पौधे सूखकर नष्ट हो गए हैं। पौधे के पास लगाई गई तख्ती ही गड्ढों के पास पड़ी दिखाई दे रही हैं। वहीं झिरकी बगिया मंदिर की ओर के दरवाजा के पार्क में पौधे पेड बन गए है, लेकिन उनकी सुरक्षा नपा नहीं कर पा रही हैं। जिसके कारण मवेशियों ने नुकसान करना शुरू कर दिया हैं।
रेलवे स्टेशन रोड से चकरा की ओर के डिवाइडर में पौधों को रोपा गया था, लेकिन उन पौधों ने दम तोड़ दिया हैं। कुछ ही पौधे बाकी है, वह भी कुछ दिनों में दम तोड़ जाएगे। इसके साथ ही शहर के सभी डिवाइडर की जालियां निकल गई हैं। जिसके कारण पेड पौधे सुरक्षित नहीं बचे हैं।
सिविल लाइन में बच्चों के नाम से पार्क निर्माण किया था, कछुए की गति से चल रहे निर्माण से दो साल गुजर गए है, लेकिन निर्माण कार्य पूर्ण नहीं हो पाया हैं। जिससे स्थानीय सिविल लाइन, पुलिस लाइन के साथ अन्य कॉलोनियों के बच्चों, बुर्जुगों को घूमने में असुविधा हो रही हैं।

चिल्ड्रन पार्क का निर्माण किया जा रहा हैं। बाकी पार्कों का निरीक्षण किया जाएगा। जहां के पेड सूखे है वहां पर सिंचाई करने के निर्देश दिए जाएगें और पेड पौधों की देखरेख करें। डिवाइडर की मरम्मत के लिए टेंडर जारी किए जाएंगे। उसके बाद सुधार किया जाएगा।
गीता मांझी, सीएमओ नगरपालिका टीकमगढ़।

Hindi News/ Tikamgarh / पानी की कमी और देखरेख के अभाव में दम तोडने लगे पेड पौधे

ट्रेंडिंग वीडियो