जिले में बढ़ रहा बेरोजगारी का आंकड़ा, लक्ष्य तो दे दिया लेकिन नहीं दिया बजट

जिले में बढ़ रहा बेरोजगारी का आंकड़ा, लक्ष्य तो दे दिया लेकिन नहीं दिया बजट

Akhilesh Lodhi | Updated: 19 Aug 2019, 08:00:00 AM (IST) Tikamgarh, Tikamgarh, Madhya Pradesh, India

जिले में हर वर्ष सैकड़ों की संख्या में बेरोजगारी का आंकड़ा बढ़ रहा है। लेकिन शासन और प्रशासन द्वारा रोजगार के लिए शिक्षित युवाओं के लिए लक्ष्य तो दे दिया है।

टीकमगढ़.जिले में हर वर्ष सैकड़ों की संख्या में बेरोजगारी का आंकड़ा बढ़ रहा है। लेकिन शासन और प्रशासन द्वारा रोजगार के लिए शिक्षित युवाओं के लिए लक्ष्य तो दे दिया है। लेकिन विभाग में बजट नहीं दिया। रोजगार देने के लिए प्राइवेट कम्पनियां भी नहीं आ रही है। जिसके कारण युवा महानगरों की ओर रूख अपनाना पड़ रहा है। वहीं पंजीयन कार्यालय को आईटीआई में मर्ज करने की बात की जा रही है।
जिले में बेरोजगारों को रोजगार देने के लिए शासन ने विभाग को १८ सौ करियर कॉउसिलिंग और १८ सौ जॉब फेयर का लक्ष्य दिया है। लेकिन महीनों से विभाग बजट के अभाव में चल रहा है। जिसके कारण शिक्षित युवाओं के लिए न तो विभाग द्वारा रोजगार मेले लगाए जा रहे है और न ही प्राइवेट कम्पनियों को जिले में आमंत्रित कर पा रहे है। जबकि जिले में ३६ हजार ३५२ शिक्षित युवा बेरोजगार रोजगार की तलाश में विभाग के साथ प्राइवेट कम्पनियों के चक्कर काट रहे है।
युवाओं ने किया अपने दर्द को ब्यां
महाराजपुरा निवासी संतोष यादव, बालाराम, यादव, कुण्डेश्वर रोड़ परमलाल कुशवाहा, रामकिशोर अहिरवार, देवेंद्र लोधी ने बताया कि रोजगार के चक्कर में स्न्नातकोत्तर के बाद अन्य डिग्ररियों को पूर्ण कर लिया है। इसके बाद भी रोजगार पाने के लिए महानगरों सहित अन्य शहरों में भटक रहे है। युवाओंं का कहना है कि जिले में कई जगहों पर कौशल विकास प्रशिक्षण केंद्रों को संचालित किया जा रहा है। लेकिन उन केंद्रोंं से शिक्षित बेरोजगार युवाओं को कोई लाभ नहीं मिला है। न ही जिम्मेदारों द्वारा बेरोजगार युवा को रोजगार देने की बात की जा रही है।
शिक्षित युवा गारंटी कानून बने
कई संगठनों द्वारा सरकार से मांग की गई कि जैसे मनरेगा का कानून बनाया है। वैसे ही शिक्षित बेरोजगारों के लिए शिक्षित युवा गारंटी कानून बनाए जाने की बात की जा रही है। जिला में युवा बड़ी-बड़ी डिग्री लेकर घूम रहे है। लेकिन रोजगार नहीं मिल रहा है।
जमीन पर नहीं दिया कौशल प्रशिक्षण
युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए केंद्र और प्रदेश सरकार द्वारा कई जगहों पर कौशल प्रशिक्षण केंद्रों को खुलवाया गया है। लेकिन उसका लाभ जमीनी स्तर पर दिखा नहीं दे रहा है। कई योजनाओं के तहत प्रशिक्षण दिए गए। लेकिन रोजगार का अवसर युवाओं को नहीं दिया गया है।


बेरोजगारी का बढ़ रहा इजाफा
जिले में बेरोजगारी बड़ी समस्या बनती जा रही है। रोजगार की कमी के कारण युवाओं को रोजगार मुहैैया नहीं हो पा रहा है। रोजगार केंद्र में पंजीकरण कराने वालों की संख्या में तेजी से इजाफ ा हुआ है। लेकिन उनको रोजगारर नहीं दिया जा रहा है। युवाओं को रोजगार देने के लिए कई इस वर्ष दो रोजगार मेला लगाए गए थे। लेकिन उनमें कुछ ही लोगों को रोजगार मिल पाया है। बांकी हजारों शिक्षित युवा बेरोजगार घूम रहे है।
फैक्ट फाइल
रोजगार कार्यालय में कुल दर्ज रोजगार - 36352
दो सालों में कुल रोजगार मेला - ११
सिलेक्शन - ८२२
जॉब - ४६२
आर्मी भर्ती में - ३६०
जॉब फेयर का लक्ष्य - १८००
करियर कॉउसिलिंग का लक्ष्य - १८००
इनका कहना
बेरोजगारों के लिए सरकार द्वारा रोजगार मेले समय-समय पर आयोजित किए जाते है। शासन द्वारा बेरोजगारों को मौका दिया जाएगा। सरकार ने रोजगार देने के लिए लक्ष्य तो दिया गया है। लेकिन बजट नहीं दिया गया। जिसके कारण रोजगार मेले नहीं लगाए जा रहे है।
संजीव कुमार जैन जिला रोजगार अधिकारी टीकमगढ़।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned