सब्जी विक्रेताओं को नहीं मिल रहा ठिकाना

कोरोना वायरस संक्रमण के बचाव के लिए देशभर में जारी लाकडाउन ४.० के बाद अनलाक १.० में बाजारों में नियमित रूप से दुकानें खुलने लगी लेकिन सब्जी विक्रेताओं को आज भी कोई ठिकाना नहीं मिला है।

By: akhilesh lodhi

Published: 01 Jul 2020, 05:00 AM IST

टीकमगढ़/निवाडी.कोरोना वायरस संक्रमण के बचाव के लिए देशभर में जारी लाकडाउन ४.० के बाद अनलाक १.० में बाजारों में नियमित रूप से दुकानें खुलने लगी लेकिन सब्जी विक्रेताओं को आज भी कोई ठिकाना नहीं मिला है। ऐसे में सब्जी व फल विक्रेता सिर पर या फिर ठेले पर सब्जी बेचने को मजबूर हैं। प्रशासन सब्जी व फल विक्रेताओं को मुख्य बाजार से हटाने के तमाम प्रयास असफल साबित हुए हैं। तीन महीनों में सब्जी व फल विक्रेताओं के तीन ठिकाने बदल चुके हैं। पहले प्रशासन ने घर घर जाकर सब्जी एवं फल बेचने को कहा, इसके बाद रामलीला मैदान में और अब बड़ी फील्ड में सब्जी बेचने को कहा जा रहा है।
दर-दर की ठोकरें रहे हैं सब्जी विक्रेता व किसान
शहर के बीचोंबीच तथा मुख्य बाजार में ही सब्जी मंडी पिछले कई वर्षों से लगती थी। सब्जी विक्रेताओं के बैठने के लिए शेड भी लगाए गए थे लेकिन प्रशासन सब्जी विक्रेताओं को अब यहां नहीं बैठने दे रहा।


प्रशासन की सख्ती के चलते किसान सब्जी विक्रेताओं ने कुछ दिनों तक विधायक निवास के पीछे वाली गली को अपना ठिकाना बनाया लेकिन यहां से भी प्रशासन ने उन्हें खदेड़ दिया। इसके बाद रामलीला मैदान में सब्जी की दुकानें लगाने को कहा। इसके बाद रामलीला मैदान के समीपस्थ निवासियों ने आपत्ति जताते हुए सब्जी विक्रेताओं को यहां से हटाने के लिए ज्ञापन दे दिया। इसके बाद बड़ी फील्ड में सब्जी विक्रेताओं के लिए जगह सुनिश्चित की गई। लेकिन यहां छाया पानी की सुविधा नहीं होने के कारण सब्जी विक्रेता परेशान हैं। ऐसे में ज्यादातर किसान सिर पर सब्जी का भार लिए घर-घर सब्जी बेचने को मजबूर हैं।
लगाई गुहार, किया अनुरोध
सब्जी विक्रेताओं ने प्रशासन से सब्जी बेचने के लिए जगह सुनिश्चित करने तथा वहां पर सुविधाएं मुहैया कराने की मांग की है। सब्जी विक्रेताओं ने पुलिस व प्रशासन द्वारा परेशान नहीं करने का भी अनुरोध किया है।

akhilesh lodhi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned