मानसून: 28 बांधों से जिले में 29895 हैक्टेयर में हो सकेगी सिंचांई

सिंचाई विभाग के 28 बांधों में गत वर्ष की अपेक्षा अधिक पानी होने से सम्बंधित इलाकों के किसानों को सिंचाई के लिये पानी मिल सकेगा।

By: pawan sharma

Published: 13 Sep 2021, 08:32 AM IST

टोंक. कमजोर मानसून रहने पर जिले के बीसलपुर बांध में इस साल पर्याप्त पानी की आवक नही होने से सिंचाई के लिये पानी चाहे नही मिल पाएगा, लेकिन सिंचाई विभाग के 28 बांधों में गत वर्ष की अपेक्षा अधिक पानी होने से सम्बंधित इलाकों के किसानों को सिंचाई के लिये पानी मिल सकेगा।

टोंक में हुई बरसात से 30 बांधों में पानी की अच्छी आवक हुई है। बांधों पानी आने से किसानों को रबी की फसल में सिंचाई के लिए पानी भी मिल सकेगा। बांधों में पर्याप्त मात्रा में पानी की आवक होने से क्षेत्र के कुओं ओर अन्य जलस्त्रोतों में पानी का जल स्तर बढऩे से पीने व खेती के लिए पानी की पूर्ति हो सकेगी। बांधो में पानी की हुई आवक भी गत वर्षो के मुकाबले अधिक रही है।

624.82 एमएम औसत हुई बारसात

टोंक जिले में सिंचाई विभाग के 28 बांध है जिनके अंतर्गत 50386.71 हेक्टेयर सिंचित भूमि है। जिसमे से वर्ष 2020 में 1688.19 एमसीएफटी पानी सिंचाई के लिये किसानों को उपलब्ध कराया गया था। जिससे 20704. 05 हेक्टेयर भूमि सिंचित हुई थी। जब कि वर्ष 2020 में कुल औसत बारसात 467. 33 एमएम हुई थी। वर्तमान में टोंक जिले के सिंचाई के सभी 28 बांधों में वर्ष 2021 में अब तक 624.82एमएम औसत बारसात हुई है ।

गत वर्ष से अधिक होगी सिंचाई

सिंचाई विभाग के सूत्रों के मुताबिक टोंक जिले के सिंचाई विभाग के अधीनस्थ बांधों में कुल 5185.05 एमसीएफटी पानी उपलब्ध है जो वर्ष 2020 से 3497.21 एमसीटीएफ पानी अधिक है, जिससे अनुमानित 29895 हेक्टेयर भूमि सिंचित हो सकेगी। अर्थात टोंक जिले के सिंचाई विभाग के अधीनस्थ 28 बांधों से 599 किमी नहरी तंत्र के जरिये पिछले साल से 9190.95 हेक्टेयर अधिक भूमि सिंचित हो सकेगी।

दो में नही है नहरी तंत्र
उनियारा के लघु दूदी सागर व टोडारायसिंह के लघु बोटून्दा बांध में भी बरसात के पानी की आवक अच्छी हुई है। लेकिन दोनों में नहरे नही होने के कारण किसान अन्य साधनों का प्रयोग कर सिंचाई के लिए पानी लेता है।

11 बांधों में 90 प्रतिशत से उपर आया पानी
विभाग के अनुसार इस बार बरसात का पानी सभी बांधों व तालाबों में अच्छी मात्रा में आया है। जिलें के 11 बांधों में पानी की आवक भी 90 प्रतिशत से अधिक रही है। इनमें टोड़ारासिंह क्षेत्र के लघु ढ़ीबरू सागर, मालपुरा के लघु भावलपुर केरवालिया व लघु हालोलाव कलमण्डा बांधों में सौ प्रतिशत पानी की आवक हुई है।

विभाग के अधीन टोंक जिले के बांधों में पानी की आवक पिछले वर्ष की तुलना में अधिक रही है। किसानों को रबी फसल की सिंचाई के लिए जल वितरण कमेठी द्वारा बैठक में तारीख तय करने के बाद विभाग की ओर से पानी छोड़ा जाएगा।

गजानन्द सामरिया अधिशासी अभियंता, जल संसाधन विभाग टोंक।

pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned