एबीवीपी ने रैली निकालकर किया विरोध प्रदर्शन

राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय के छात्रों की 11 सूत्रीय समस्याओं को लेकर एबीवीपी ने रैली निकालकर गुरुवार को प्राचार्य को ज्ञापन सौंपा।

By: pawan sharma

Published: 12 Feb 2021, 06:19 PM IST

टोंक. राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय के छात्रों की 11 सूत्रीय समस्याओं को लेकर एबीवीपी ने गुरुवार को प्राचार्य को ज्ञापन सौंपा। इसमें बताया कि महाविद्यालय में अधिकांश छात्र मजदूर वर्ग व ग्रामीण क्षेत्र के हैं। महाविद्यालय जिले का सबसे पुराना व बड़ा है। जिसमें जिले भर के लगभग 3500 छात्र-छात्राएं अध्ययनरत है।


महाविद्यालय में समस्याओं के कारण छात्र-छात्राओं को मजबूरन अन्य निजी महाविद्यालयों व बड़े शहरों में जाकर अपना अध्ययन करना पड़ रहा है। ऐसे में महाविद्यालय में स्थायी प्राचार्य नियुक्त करने, शारीरिक शिक्षक की नियुक्ति, पुस्तकालय में नियुक्ति, नई पुस्तकों की खरीद, पीजी विज्ञान संकाय में जूलोजी, बोटनी, फिजिक्स विषय बढ़ाने, पीजी कला संकाय में अंग्रेजी साहित्य व संस्कृत साहित्य के विषय बढ़ाने, बंद पड़ी केंटीन का टेण्डर देने समेत अन्य मांगों का निस्तारण करने को कहा है। ज्ञापन देने वालों में इकाई अध्यक्ष दिनेश देवन्दा, जिला संयोजक धारासिंह, प्रान्त सह मंत्री दीपक कुमार, अजय डोई, विक्रम, दिव्या विजय, नरेन्द्र लांगड़ी आदि शामिल थे।

समस्याओं के निस्तारण की मांग
टोडारायसिंह. एबीवीपी इकाई टोडारायसिंह ने विद्यार्थियों की बंद छात्रवृत्ति शुरू कराने व दस्तावेज बनाने में आ रही समस्याओं के निस्तारण की मांग को लेकर मुख्यमंत्री के नाम तहसीलदार मनमोहन गुप्ता को ज्ञापन सौंपा। प्रांत संयोजक (एसएफएस) विवेक औदिच्य की अगुवाई में सौंपे ज्ञापन में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा बिना परीक्षा विद्यार्थियों को प्रमोट किए जाने के कारण उच्च शिक्षा में मिलने वाली छात्रवृत्ति को बंद किया गया है।

इस दौरान नगर मंत्री नवीन बलरेवा, अंशुल अग्रवाल, छात्रसंघ अध्यक्ष रामराज, उपाध्यक्ष मनोज, धनराज धाकड़, नगर सह मंत्री संचित, कालू शर्मा, दिनेश सैनी,धीरज, मनीष सोनी, दीपक अग्रवाल, अमित वर्मा, आशाराम बैरवा, धनराज नागरा दिलकुश, आशाराम, राजाराम गुर्जर, राकेश आदि एबीवीपी पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद थे।

pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned