अधूरे सडक़ निर्माण से आए दिन हो रही दुर्घटनाएं, सानिवि व ठेकेदार की लापरवाही अटका निर्माण

सानिवि व ठेकेदार की लापरवाही के चलते एक वर्ष से अधिक समय में भी दूनी-सरोली सडक़ मार्ग के निर्माण को पूर्ण नहीं किए जाने से अधूरे सडक़ निर्माण के चलते तहसील मुख्यालय सहित इससे जुड़ी दो दर्जन से अधिक पंचायतों के ग्रामीण, राहगीर एवं दुपहियां-चौपहियां वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

दूनी. सानिवि व ठेकेदार की लापरवाही के चलते एक वर्ष से अधिक समय में भी दूनी-सरोली सडक़ मार्ग के निर्माण को पूर्ण नहीं किए जाने से अधूरे सडक़ निर्माण के चलते तहसील मुख्यालय सहित इससे जुड़ी दो दर्जन से अधिक पंचायतों के ग्रामीण, राहगीर एवं दुपहियां-चौपहियां वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

इसके साथ ही अधूरे सडक़ निर्माण के चलते आए दिन घट रही दुर्घटनाओं में दुपहियां वाहन चालक व सवार चौटिल हो रहे है। उल्लेखनीय है कि करोड़ों की राशि की स्वीकृति के बाद गत वर्ष ठेकेदार की ओर से दूनी-सरोली मार्ग का नवीनीकरण शुरू किया, लेकिन सानिवि की अनदेखी एवं ठेकेदार की लापरवाही से दूनी नहर के पास सडक़ कार्य अधूरा रख दिया।

कस्बे के ग्रामीणों ने बताया कि ठेकेदार ने लापरवाही बरत नहर की पुलियां को छोड़ दोनों ओर ऊंची सडक़ बना दी, इससे बीच में गहरा गड्ढा रह गया, इससे आए दिन तेज गति से चलने वाले दुपहियां वाहन चालक व सवार इसमें गिर चोटिल हो रहे है। अधिकतर दुर्घटनाएं बाहर से आने वाले अनजान वाहन चालकों के साथ ही होती है।

ग्रामीण सुरेन्द्रसिंह शेखावत, संदीप गौखरू, सत्यनारायण बडग़ुर्जर व अन्य ने बताया कि अधूरे सडक़ निर्माण के कारण दुर्घटनाएं तो घटित हो रही है साथ ही अधूरे सडक़ निर्माण के कारण सुबह योगासन करने व घुमने जाने वाले वरिष्ठजन व युवा भी चोटिल हो चुके है।

गौरतलब है कि सानिवि की ओर से 3 किलोमीटर के दूनी-सरोली मार्ग के लिए 5 करोड़ 25 लाख, 6 किलोमीटर के दूनी-आवां मार्ग 10 करोड़ व साथ ही दूनी-काला काकरा, उनियारा, पलाई दूनी, आवां व ख्वासपुरा में साढ़े अठारह किमी मार्ग निर्माण के लिए 11 करोड़ 57 लाख की लागत आई है। इधर, दूनी सरपंच रामअवतार बलाई का कहना है कि नहर पर बड़ी पुलिया का निर्माण कराए जाने की मांग की है, कार्य शुरू कराने के लिए सानिवि को पत्र लिखेंगे।

pawan sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned