अन्नपूर्णा दुग्ध योजना: स्कूलों पर दूध का 1 करोड़ 71 लाख रुपया बकाया

अन्नपूर्णा दुग्ध योजना: स्कूलों पर दूध का 1 करोड़ 71 लाख रुपया बकाया

 

By: pawan sharma

Published: 18 Jan 2021, 07:50 PM IST

टोंक. जिले के राजकीय विद्यालयों व पंजीकृत मदरसों में अध्यनरत विद्यार्थियों को मिड-डे-मील में अन्नपूर्णा दुग्ध योजना के तहत वितरण किए गए दूध का 1 करोड़ 71लाख का भुगतान बकाया है। यह बकाया भुगतान कोरोना संक्रमण के कारण 23 मार्च 2020 को प्रदेश में लगे लॉकडाउन से पहले के दो माह का है। फिलहाल स्कूलों में गत अप्रैल 2020 से अध्यनन का कार्य बंद होने के कारण योजना में दूध का वितरण भी बंद है। साथ ही गत दिसम्बर 2020 माह में सरकार ने योजना में वितरण किए जाने वाले दूध पर भी रोक लगा दी है।

यह है योजना
तत्कालीन राज्य सरकार ने सरकारी विद्यालयों व मदरसों में पढऩे वाले बच्चों में सही मात्रा में प्रोटीन देने, बच्चों के नामांकन में वृद्धि, बच्चों के पोषण स्तर में सुधार, विद्यालयों में बच्चों के ठहराव व ड्राप आउट बच्चों को विद्यालय तक लाने आदि के लिए 2 जुलाई 2018 को राजकीय विद्यालयों के कक्षा 1 से 8 वीं तक के विद्यार्थियों के लिए मिड-डे -मील के तहत अन्नपूर्णा दूध योजना की शुरुआत की थी। इसके तहत 1 से 5 वीं कक्षा तक के बच्चों को 150 एमएल और 6 से 8 वीं कक्षा तक के बच्चों को 200 एमएल दूध दिए जाने का प्रावधान किया गया था। योजना में गत सत्र में जिले के 1 लाख 14 हजार 139 अध्यनरत विद्यार्थियों को अन्नपूर्णा दूध योजना का वितरण किया गया है।

भुगतान के लिए लगा रहे हैं चक्कर

स्कूलों द्वारा दूध का भुगतान नहीं करने पर आपूर्ति करने वाली पंजीकृत महिला दुग्ध उत्पादक सहकारी समितियां, पंजीकृत दुग्ध उत्पादक समितियां व सरस डेयरी बूथ आदि संस्थाएं भुगतान के लिए स्कूलों व शिक्षा विभाग के चक्कर लगा रहे है, लेकिन संस्था संचालक उन्हें भुगतान को लेकर स्पष्ट जवाब नहीं दे पा रहे है।

&अन्नपूर्णा दुग्ध योजना के तहत वितरण किए गए दूध के बकाया भुगतान के लिए सभी ब्लॉकों से सूची मिल गई है। भुगतान के लिए निदेशालय को पत्र लिख बजट की मांग की गई। बजट मिलने के बाद सरकार की ओर से जारी दिशा निर्देशों के अनुरूप भुगतान की कार्रवाई सम्पादित की जाएगी।
हीरालाल जाट, उपजिला शिक्षा अधिकारी, प्रभारी मिड-डे-मील प्रभारी टोंक

Show More
pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned