तैयारियां : अश्वगंधा व तुलसी से महकेगा वन नाका

राजमहल वन नाका परिसर में इन दिनों साफ- सफाई के साथ ही उपजाऊ मिट्टी व गोबर की खाद डालकर औषधिय पौधे लगाने के लिए क्यारियों का निर्माण कर बीज से पौधे अंकुरित करने की तैयारियां जोरों पर है। बीज से पौधे अंकुरित करने व तैयार पौधों को क्यारियों में लगाने के लिए वन विभाग की ओर से सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है।

By: pawan sharma

Published: 15 Jun 2021, 04:22 PM IST

राजमहल. पिछले कई दिनों से कंटीली झाडिय़ों के साथ ही दुर्दशा का शिकार होते राजमहल वन नाका परिसर में इन दिनों साफ- सफाई के साथ ही उपजाऊ मिट्टी व गोबर की खाद डालकर औषधिय पौधे लगाने के लिए क्यारियों का निर्माण कर बीज से पौधे अंकुरित करने की तैयारियां जोरों पर है। बीज से पौधे अंकुरित करने व तैयार पौधों को क्यारियों में लगाने के लिए वन विभाग की ओर से सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है।

वन विभाग देवली के रेंजर हरेन्द्र सिंह नाथावत ने बताया कि राजमहल वन नाका परिसर में तुलसी, अश्वगंधा, नीम गिलाई सहित अन्य कई प्रकार के औषधिय पौधे लगाए जाएंंगे, जिससे वन नाका तुलसी व अश्वगंधा की महक से महकेगा। इसी प्रकार लोगों को पौध रोपण करने व पेड़ों की सुरक्षा के लिए भी जागरूक किया जाएगा, जिससे लोग पेड़ों का महत्व व गुणवत्ता समझ सके।

नाके से घरों तक का सफर
वन विभाग के कार्मिकों ने बताया कि इस बार कोरोना की दूसरी लहर ने लोगों को झकझोर कर रख दिया है। ऐसे में लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में इन पौधों से तैयार औषधियां काफी कारगर साबित होती है। वन नाका में लगाए जाने वाले पौधे लोगों को अपने घरों तक लगाने के लिए भी विभागिय नियमानुसार दिए जाएंगे। वहीं लोगों को अपने घरों में इन पौधो के रोपण के लिए भी जागरूक किया जाएगा।

Show More
pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned